10 Benefits of Meditation

Written by Sneh Desai on June 3, 2017

benefits of medi

Meditation can be expressed as a practice to focus on one spoken discourse or thought thereby changing your perspectives, emotional control, sensitivity, approach etc. towards that particular line of thought in your life. Benefits of meditation are immense and in many ways miraculous. It is one practice that you would like to inculcate in your life to bring about not just peace and happiness but also some very important changes.

a. Stability: Meditation offers a unique peace of mind that can be derived from nowhere else. It helps you remain calm irrespective of strolling through a storm and can help you immensely in making sound decisions in your life. Perspective and objectivity in times of vulnerability are most sought after and meditation can help you receive just that.

b. Control: Discipline is extremely important in becoming successful and a better person in the eyes of the world. When others absolutely let-go, winners know how to use their controlling-powers productively. Such a lifestyle can only come from a certain level of self-restraint. Physical control is easier to achieve although what needs to be mastered is emotional control. This does not mean you have to be mellow or dull or passive; it just means you become relatively sure of what it is that you need in life at a particular point of time and of the little sacrifices that you need to make to receive desired end-results. Meditation is extremely important to practice such healthy self-control.

c. When You Are Not Meditating: Meditation is not about the few minutes you spare yourself to give-in to your inner thoughts, it is a lifestyle. Desborders et al. (2012) scanned the brains of people taking part in an 8-week meditation program, before and after the course. While they were scanned, participants looked at pictures designed to elicit positive, negative and neutral emotional responses.

After the meditation course, activation in the amygdala, the emotional center of the brain, was reduced to all pictures. This suggests that meditation provides with lasting benefits even when you are not meditating. Lakhs of people have learnt how to live a desired life effortlessly by doing ‘Power meditation’ in Sneh Desai’s ‘Change Your Life’ workshop.

d. Open Mindedness: We very easily see the repercussion of not being able to look at a particular situation from someone else’s point of view. This is because we lack an open mind and give in to judgments very easily which in turn causes a lot of distress in our relationships- both personally and professionally. Everyone, irrespective of whether you know their story or not, is battling his/her own demons. A constant practice of meditation helps you to battle your inner-grudges and become more gracious and compassionate towards yourself first hence enabling a higher level of emotional intelligence to be kind and understanding of others as well without them having to tell you anything specific about their problems.

e. Health Benefits: Meditation has numerous health & physiological benefits as well. It helps to slow the heart rate, increases blood flow, leads to a deeper level of physical relaxation, decreases muscle tension, enhances energy and vigor, promotes higher skin resistance, decreases the aging process, improves flow of air to the lungs resulting in easier breathing, cures headache and migraine, relaxes the nervous system, boosts our immunity levels, improves communication between the two brain hemispheres; to name a few! Learn health secrets and treatments in Sneh Desai’s Ultimate Life workshop where you spend one whole day in learning how to be young forever.

f. Psychological Benefits: Delving deeper into the aforesaid ‘open mindedness’, meditation has a lot more to add onto our psychological health. It helps to build self-confidence, resolves phobia and fears, helps control unproductive/casual thoughts, results in improved concentration, increases creativity, improves our learning ability and memory, develops intuition, helps ignore petty issues, purifies our character, develops will power, promotes higher intelligence growth rate, ensures less aggressiveness, helps curbing bad habits like alcohol addiction etc., develops emotional maturity. Overall it helps to grow a stable and balanced personality.

g. Spiritual Benefits: Meditation provides great assistance in visualization and self-actualization. It helps in the growth of profound wisdom by bringing the body, mind and spirit in harmony; thereby helping you to accept yourself despite your imperfections. It helps you to forgive and forget easily instead of holding onto deep-rooted grudges. You can watch an eye-opening DVD ‘Spiritual Reality’ where you will understand innumerable spiritual benefits of meditation and learn how to do meditation correctly.

h. Changes brain-waves: A lot of scientific research has gone into this conclusive proof. Meditation is such a powerful technique that, after only 8 weeks, the brain’s structure changes. By practicing meditation, we can play an active role in changing the brain and can increase our well-being and quality of life. It opens up your mind quite literally and for the better.

i. Reach the Metaphysical: Our imagination is limited to a great extent because of our inhibitions pertaining to our present reality. However, if we practice meditation on a daily basis, we can reach the metaphysics. And the best part is we don’t even have to get into the technicalities of it! Everything that seems abstract to us now can be within our reach and can help us practice visualization of a completely different level. It can familiarize us to what we think is impossible or out of our reach. It does not matter from where you hail; what is of utmost importance is where you want to be!

j. Create: The aforesaid point makes it very clear that what the mind can perceive the heart (with its ability to pour emotions into) can achieve. Feelings are of grave significance if you want to make your dreams a reality. Visualization through meditation is incomplete without feelings of fulfillment. Once the brain accustoms itself to such a powerful technique of imagination and actualization, success is not far away, no matter who you are! All that you see can be created and given to you while you persevere through life. And all this is only possible through active meditation.
(Sneh Desai app)

चिंतन के १० फायदे

चिंतन, किसी एक विचार या प्रवचन पर ध्यान केन्द्रित करने का प्रयास है जिसके कारण अपने जीवन में के किसी एक विचार धारा में जकड़े हुए हमारे सोचने के ढंग, भावनाओं पर का नियंत्रण, भावुकता, दृष्टिकोण, आदि बदल जाये| चिंतन के फायदे अत्यधिक हैं और कई बार तो चमत्कारिक लगते हैं| यह एक ऐसा प्रयास है जो ना केवल शांति और ख़ुशी लाने के लिए नहीं, बल्कि कई महत्वपूर्ण बदलावों के लिए भी आप अपने जीवन में अवश्य शामिल करना चाहेंगे|

क. स्थिरता: चिंतन एक ऐसी मन की शान्ति प्रदान करता है जो अन्य कहीं से भी प्राप्त नहीं की जा सकती| यह आपको हर संकट में शांत रहना सिखाता है और अपने जीवन में सही निर्णय लेने में सहायक बनता है| अतिसंवेदनशीलता के समय में यथार्थ और निष्पक्षता सबसे ज्यादा ज़रूरी होते हैं और चिंतन आपको ठीक इन्हीं को पाने में मदद करता है|

ख. संयम: कामयाब होने के लिए तथा दुनिया की नज़र में एक बेहतर व्यक्ति बनने के लिए अनुशासन बहुत ज़रूरी है| जहाँ दुसरे लोग बिलकुल ढील छोड़ देते हैं, वहीँ सफल व्यक्ति अपनी संयम-शक्ति को लाभकारी ढंग से उपयुक्त करता है| ऐसी जीवन शैली कुछ हद तक के आत्मसंयम से ही मुमकिन है| शारीरिक संयम पाना आसान है, अतः भावनाओं पर संयम रखना सीखने की ज़रूरत है| इसका यह मतलब नहीं की आपको नरम या नीरस या निष्क्रिय होना चाहिए; इसका बस यही अर्थ है की आपको अपेक्षाकृत तरह से निश्चित करना चाहिए की आपको जीवन के विशिष्ट समय पर कौनसी वस्तु चाहिए और एस इच्छित परिणाम को हासिल करने के लिए आपको कौनसा बलिदान देना पड़ेगा| ऐसे स्वस्थ आत्म-संयम को प्राप्त करने के लिए चिंतन अत्यधिक महत्वपूर्ण है|

ग. जब आप चिंतन नहीं करते: चिंतन केवल उन कुछ क्षणों के बारे में नहीं है जब आप अपने अंतर्मन के विचारों के आधीन होकर खुद के साथ थोडा समय बिताते हो, यह एक जीवनशैली है| डेसबोर्डर्स एट.आल. (२०१२) ने ८-सप्ताहों तक चलने वाले चिंतन शिबिर में आये लोगों के दिमागों को – चिंतन के पहले और चिंतन के पश्चात – बारीकी से जाँचा| जब उनकी जाँच हो रही थी तब उन भाग लेने वालों को ऐसे चित्रों को देखना था जिनसे हकारात्मक, नकारात्मक और तटस्थ भावनाओं वाले उत्तर प्राप्त हों|

चिंतन के शिबिर के बाद, प्रमस्तिश्कखंड, दिमाग का भावात्मक केंद्र, का कार्यशीलन, हर चित्र के आधीन हो गया था| इसका मालाब यह हुआ की जब आप चिंतन नहीं कर रहे हो तब भी चिंतन से चिरस्थायी लाभ होता है|

घ. ग्रहणशीलता: किसी दुसरे के नज़रिए से किसी परिस्थिति को ना देख पाने के बुरे अंजाम हम सब को आसानी से दिख ही जाते हैं| इसका कारण यह है की हम खुले मन से नहीं सोचते और अपनी धारणाओं के आधीन हो जाते हैं, जिनके कारण हमारे संबंधों में काफी खिंचाव पैदा हो जाता है – निजी व व्यवसायिक – दोनों ही क्षेत्रों में| हर व्यक्ति, यदि आप उसकी कहानी जानते हो या नहीं, अपने-अपने राक्षसों से युध्द कर रहा है| चिंतन का अविरत अभ्यास आपको अपने आतंरिक द्वेषों से लड़ने में मदद करता है और सबसे पहले, आपको खुद के प्रति अधिक संवेदनशील तथा दयालु बनाता है जिसके चलते आपकी भावात्मक प्रज्ञा का स्तर बढ़ जाता है और आप दूसरों के प्रति, उनकी समस्याएं जानते हुए या ना जानते हुए भी, ज्यादा कृपादृष्टि रखते हो|

च. स्वास्थ्य सम्बन्धी लाभ: चिंतन के कई स्वास्थ्य सम्बन्धी तथा मनोवैज्ञानिक लाभ भी हैं| यह ह्रदय की गति को धीमा करने में, रक्त परिभ्रमण को तेज़ करने में, शारीरिक आराम के गहरे स्तर तक पहुँचने में, स्नायुओं के खिंचाव को कम करने में, उर्जा तथा ताकत बढ़ाने में, त्वचा की रोग-प्रतिकारक शक्ति बढ़ाने में, बूढ़ा होने की प्रक्रिया को धीमा करने में, फेफड़ों तक प्राणवायु के आवागमन को बेहतर व आसान करके श्वसोछ्च्वास की प्रक्रिया को सरल करने में, सरदर्द और आधासीसी को मिटाने में, तंत्रिका तंत्र को विश्रांति प्रदान करने में, अपनी रोग प्रतिकारक शक्ति को बढाने में, मस्तिष्क के दो गोलार्धों में के संपर्क को बेहतर करने में सहायक होता है – यह तो केवल कुछ ही फायदे बताये हैं!

छ. मनोवैज्ञानिक लाभ: पहले कहे गए ‘ग्रहणशीलता’ में अधिक गहराई में उतरते हुए, चिंतन से हमारे मनोवैज्ञानिक स्वास्थ्य में काफी इज़ाफा हो सकता हैं| यह आत्मविश्वास बढ़ाने में, हर तरह के डर या भय को दूर करने में, निरुपयोगी / अस्थिर विचारों को रोकने में, ध्यान देने में बेहतरी लाने में, उत्पादकता को बढाने में, हमारी सीखने व याद रखने की क्षमता को बढाने में, अन्तर्ज्ञान को विकसित करने में, छोटी-छोटी बातों के अनदेखा करने में, हमारे चरित्र को अधिक शुध्द करने में, मनोबल का विकास करने में, बुध्दी का शीघ्र विकास करने में, आक्रामकता कम करने में, मदिरा पान आदि जैसी बुरी आदतों से छुटकारा पाने में, भावनात्मक परिपक्वता का विकास करने में, मदद करता है| कुलमिलाकर यह एक स्थिर व संतुलित व्यक्तित्व को विकसित करने में सहायक होता है|

ज. आध्यात्मिक लाभ: चिंतन आत्मबोध करने में तथा मानस दर्शन करने में काफी सहायक साबित होता है| यह शरीर, मन, तथा आत्मा को अनुरूप करके प्रगाढ़ बुध्दिमत्ता को बढाने में मददरूप होता है; जिसके कारण आप खुद को, अपने अनगिनत त्रुटियों के बावजूद, स्वीकार करते हो| गहरे द्वेषों को पकड के रखने के बजाय, यह आपको भूलने व माफ़ करने में सहायक बनता है|

झ. सूझ में बदलाव: इस निर्णयात्मक प्रमाण तक पहुँचने के लिए काफी सारा वैज्ञानिक संशोधन किया गया है| चिंतन इतनी शक्तिशाली तकनीक है कि केवल ८ सप्ताहों के बाद ही, मस्तिष्क की संरचना बदल जाती है| चिंतन का अभ्यास करके, हम मस्तिष्क को बदलने में महत्त्व की भूमिका निभा सकते हैं, और अपना स्वास्थ्य तथा जीवन स्तर बेहतर कर सकते हैं| यह सही माइनों में आपके मन को, बेहतरी के लिए, खोल देता है|

ट. अभौतिक तक पहुँचिये: हमारी वर्तमान की सच्चाइयों के कारण हमारी कल्पना शक्ति काफी हद तक सीमित होती है| लेकिन, यदि हम हर रोज़ चिंतन का अभ्यास करें तो हम अभौतिक स्तर तक पहुंच सकते हैं| और सबसे अच्छी बात तो यह है कि हमें इसके नियमवाद से भी नहीं जूझना पड़ता! आज हमें जो भी काल्पनिक लगता है वह हमारे पहुँच में होगा और हमें एक अन्य स्तर के मानस दर्शन का अभ्यास करने में मदद करेगा| यह हमारी पहचान उन बातों से कराता है जो हमें नामुमकिन या हमारे पहुंच से बाहर लगती हैं| आप कहाँ से आ रहे हो यह कोई माइने नहीं रखता; सबसे महत्व की बात यह है की आप कहाँ पहुँचना चाहते हो|

ठ. निर्माण करें: उपरोक्त तर्क से यह ज़ाहिर हो जाता है की जो मन देख सकता है उसे दिल (भावनाओं को उड़ेलने की उसकी क्षमता के कारण) ज़रूर हासिल कर सकता है| यदि आप अपने सपनों को साकार करना चाहते हो तो भावनाएँ अत्यधिक महत्त्व की होती हैं| चिन्तन के द्वारा किया गया मानस दर्शन तृप्ति की भावनाओं के बिना अधूरा है| मस्तिष्क जैसे ही कल्पना व वास्त्विकीकरण की इस शक्तिशाली तकनीक से अभ्यस्त होगा, कामयाबी दूर नहीं होगी, फिर आप चाहे जो भी हो! आप जो भी देखते हो उसका निर्माण हो सकता है और आपको दिया जा सकता है, जब आप ज़िन्दगी में डटे रहते हो| यह सब कुछ केवल सक्रीय चिंतन से ही हासिल किया जा सकता है|

Share