10 Ways to Create a Strong, Intimate Relationship

Written by Sneh Desai on February 14, 2017

10 Ways to Create a Strong, Intimate Relationship

“Love is not loving someone for his or her perfections, it’s accepting the imperfect person perfectly”

During my interventions with participants I come across my breakups & divorce… The major reason behind that, is nothing but expecting a perfect partner. Some people think that relationships are like a romantic movie, where everything is perfect and falls in the place.

But the truth is that relationship is a reality and not a film. It is not scripted and has its own set of ups and downs. We of course dream and even believe that our relationship should be a picture perfect romance. Because that is what we see on TV and movies. There are always happy endings in them. Because it is not written by destiny but by a person who himself is also imagining such relationship.

Initial stage of relationship you might feel you got the perfect lady or men. But as time will pass, you might disappoint yourself. You have to realize that no one is perfect. Perfection is in the eyes of beholder.

Let’s just take another look onto things. We know so many famous stories about Heer-Ranjha, Laila-Majnu, Romeo-Juliet or the recent film Ram-Leela. These stories catch us because they show us a catchy love. They show a romantically fueled up relationship.

These kind of perfect stories can only work when a partner is missing. Most of these stories had one partner dying in them. On the other hand some stories said and “The lived happily ever after”. Did you go and checked whether actually lived happily after? Of course not. Before being lovers they are humans.

So then, how do we make relationships work and stay happy?

Let us first understand what true love is and then redefine it into a healthier type of love.

Here are 10 ways to create true intimacy, find pure love, and be truly happy in your relationship:

1. Relationship should make you feel whole and not distorted.

A perfect relationship doesn’t require another person to complete you. It is about sharing responsibilities and sharing your life knowing the fact that everything in yours and your partner’s life is interconnected. Let go off the bookish and filmy romantic idea that you hold in mind and focus on becoming “one”. Learn to value and respect the distance also in love as much as you value being together.

2. Remove the goggles that you are wearing. See the originality.

See the person as he is and not how you want him to be. Issues start the minute you see the person to be different from what you have thought about him. Accept the fact and respect his individuality. Do not lessen your love once you start discovering who they really are because that happens when you think of perfection. Remember that change is constant.

3. Grow with each other.

See yourself in him and from that learn how to become a better person. Rather than playing blame games, just look into yourself and correct the things that require corrections.

4. Learn to stay alone.

If you cannot stay alone then you cannot love. You must spend quality time with your own self to grow and evolve in every phase of life. If you can stay happy alone then this is a helping hand to your relationship.

5. Inspect the fight initiating points.

Some people create distance by fighting over and over again. They fight and then they are back together. They may have love or maybe feel more love after patching up from a fight. But slowly this may create a major distance. Finding out the topics that raise fights will help you avoid fights all together.

6. Be you.

mpw

Usually we want something from our partner, which we do not possess. It’s a human tendency to look for those things in other which they miss in themselves. And slowly we realize that is this not what we were looking for.
Love yourself first, accept yourself. Do not pity. If you cannot love yourself then you cannot love anyone else. Be gentle.

7. Ordinary is beautiful.

All the fairy tales will be over in a few months or years and after that all that remains is the ordinariness. You must make the ordinariness the real pulp of your relationship. Slowly this ordinary will become your extra ordinary.

8. Grow your heart.

We all want to be happy. It usually means being close to someone in a loving way. But to be happy you need to look inside your heart and be aware of the good things you possess. Know the good you have and then you will easily be able to see the good in your partner.

9. Give love.

Real happiness is giving. Giving love to yourself and others will give you happiness. If you receive back the love then it’s more beautiful. The day you start loving others and yourself, you will automatically be loved back.

10. Expectations kill. Let them go.

Root cause to any heartbreak is expectation. Love is not constant togetherness. Do not use it to fill the void in you. Rather than expecting, learn to accept. Be happy with what you receive and work harder to receive more but don’t let the expectations burden your relationship. Sometimes try walking in their shoes.

These are only a few ways to explore real closeness. But in case you have built up some grudges or past bad experiences in a relationship then the root cause has to be worked on. In my Change Your Life – MIND POWER WORKSHOP we teach the whole psychology of human relationships and what your loved one expects from you. These in return helps you give them what’s right & fulfil their needs. Click here for more details of that program: Change Your Life – Mind Power Workshop

Also I recommend you to download my Android FREE App to experience Mental House Cleaning Mediation for FREE so that it would be easy for you to forgive & move on positively.

Click Here to Download Sneh Desai App

 

“किसीको उसकी उत्कृष्टता के लिए चाहना प्यार नहीं है, किन्तुकिसी त्रुटिपूर्ण व्यक्ति को उसकी सारी त्रुटियों के साथ पूर्णतःअपनाने को प्यार कहते हैं|”

अलग-अलग उम्मीदवारों के साथ बातचीत दरम्यान मैंने कई सम्बन्ध-विच्छेदों व तलाकों के बारे में सुना व जाना…जिसके पीछे एक ही मुख्य कारणहै – उत्कृष्ट साथी की अपेक्षा| कई लोग मानते हैं की सम्बन्ध एक प्रेम-प्रसंग्युक्त, रूमानी चलचित्र (फिल्म)है, जहाँ सब कुछ उत्कृष्ट है व हर चीज़ अपने जगह पर ठीक है|

परन्तुसच्ची बात तो यह है की सम्बन्ध एक हकीकत है, फिल्म नहीं| वह किसीने लिखी हुई कहानी नहीं है| हर सम्बन्ध में खुद के उतार-चढ़ाव होतेहैं| लेकिन हम सपने में खोये रहते हैं और यह मानने लगते हैं कि हमारा सम्बन्ध एक उत्कृष्ट फ़िल्मी प्रेम कहानी ही होना चाहिए|क्योंकि हम टी.वी. (दूरदर्शन)व फिल्मों में यही सब देखते हैं| उन कहानियों का अन्त हमेशा सुखद ही होता है, क्योंकि उन्हें नियति(प्रारब्ध) ने नहीं, बल्कि किसी ऐसे इंसान ने लिखा है जो स्वयं एक मन-गढंत सम्बन्ध की कल्पना कर रहा है|

सम्बन्ध केप्रारंभिकचरण में आपको लगेगा की आपको सर्वोत्तम स्त्री या पुरुष मिल गया है| लेकिन जैसे-जैसे समय बीतता जायेगा, वैसे-वैसे आपको मायूसी भी हो सकती है| आपको यह जानना व मानना पड़ेगा कि कोई भी व्यक्ति ‘सर्व-गुण सम्पन्न’ नहीं होता/होती| उत्कृष्टता केवल देखने वाले की नज़र में हीहोती है|

चलो एक और नज़रिया देख लें| हम कितनी प्रख्यातकहानियाँ, जैसे कि हीर-राँझा, लैला-मजनू, रोमियो-जुलिएट, और अभी की फिल्म राम-लीला, को जानते हैं| यह कहानियाँ हमें लुभाती हैं क्योंकि इनमेंमनमोहक प्रेम दिखाया जाता है| इनमें प्यार से परिपूर्ण सम्बन्ध दर्शाए जाते हैं|

ऐसी कहानियाँ तभी चलती हैं जब एक साथी खो जाता है| लगभग हर एक कहानी में एक साथी की मौत हो जाती है|इसके विपरीत ऐसी भी कहानियाँ होती हैं जिनके अंत में ‘फिर वे जीवन भर मौज-मस्ती में रहे’ ऐसा कहा जाता है|क्या किसीने जा के देखा कि क्यावे सच में मौज-मस्ती में रहे या नहीं? जी नहीं! प्रेमी होने के पहले वे इंसान हैं|

तो फिर संबंधों को निभाते हुए किस तरह खुश रहा जाये?

आओ, पहले सच्चे प्यार को समझें और फिर उसे एकस्व्स्थतर किस्म के प्यार के रूप में पुनः परिभाषितकरें|

पेशहैंसच्चीआत्मीयता पैदा करने के, असली प्यार पाने के, वअपने संबंधों से पूर्णतः सुखी होने के १० सचोट तरीके:

१. सम्बन्ध से खुद को पूरा महसूस करो नकि विरूपित:

एक उत्कृष्ट सम्बन्ध में ऐसा ज़रूरी नहीं कि दूसरे ने तुम्हें पूरा करना चाहिए| सम्बन्ध जिम्मेदारियों को बाँटने काव अपना जीवन बाँटने का दूसरा नाम है – क्योंकितुमजानते हो कि तुम्हारे व तुम्हारे साथी के जीवन की हर चीज़ एक-दुसरे से जुडी हुई हैं| किताबी व फ़िल्मी रूमानी किस्सें जो आपके मन में घर कर गए हैं उन्हें भूल जाओ और‘एक’ होने पर मन केन्द्रित करो| प्यार में दूर रहनेको भी उतना ही आदरदोवपसंदकरोजितना साथ रहने को देते व करतेहो|

२. अपने आँखों पर केचश्मे को उतारो| वास्तविकता को देखो|

व्यक्ति को उसके वास्तविक रूप में देखो नकि आप जैसा चाहते हैं वैसा| परेशानियाँ उसी क्षण शुरू होती हैं जब आपका साथी आपकी कल्पना अनुसार खरा नहीं उतरता| इस बात को स्वीकारोऔर उसके व्यक्तित्व का आदर करो|वह सचमुच कौन हैं – कैसे हैं यह जानते ही अपने प्यार को कम न करो, क्योंकि ऐसा तभी होता है जब आप उत्कृष्टता के बारे में सोचने लगते हो| याद रखो की बदलाव हीकायम है|

३. एक दुसरे के साथ बढ़ो

खुद को दुसरे में देखो और इससे बेहतर व्यक्ति बनना सीखो| ‘दोषी कौन?’ काखेल खेलने के बजाय, खुद के अंदर झांको व जो भी ठीक करने की ज़रुरत हो उसे सुधारो|

४. अकेला रहना सीखो

अगर आप अकेले नहीं रह सकते, तो आप प्यार नहीं कर सकते|जीवन के हर पहेलु में बढ़ने व विकास करने के लिए खुद के साथ अच्छा समय बिताना ही चाहिए| यदि आप अकेले भी खुश रह सकते हो तो यह आपके सम्बन्ध में ज़रूर मददरूप होगा|

५. झगड़ाशुरू कराने वाले मुद्दों को जांचें

कईलोग बार बार झगड़ा करके अंतर पैदा करते हैं| वे झगड़ते हैं और फिर एकहो जाते हैं| उनमें प्यार हो सकते है, औरझगड़ा सुलझाने पर एक दुसरे पर और प्यार आता भी हो; लेकिन धीरे-धीरे इससे रिश्ते में बड़ी दरार पड़ सकती है| जो मसले झगड़ा पैदा करते हैं उन्हें ढूढने से आप झगड़ा करना पूरी तरह से टाल सकते हैं|

.खुद बनो

mpw

ज्यादातर हमें अपने साथी से वह सब कुछ चाहिए होता है जो हममें नहीं होता| यह मनुष्य सहज स्वभाव है की हम दुसरे मैं वही सब ढूंढते हैं जो हममें नहीं है| और फिर धीरे धीरे हमें यह मालूम होने लगता है की हम यह नहीं चाहते थे|

पहले खुद से प्यार करो, खुद को स्वीकार करो| दया मत करो| अगर आपखुद से प्यार नहीं कर सकते तो आप किसीसे प्यार नहीं कर सकते| नम्र बनो|

७. व्यवहारिकतामें सुन्दरता

सारी परी कहानियाँ कुछ ही महीनों या सालों में खत्म हो जाएँगी और उसके बाद जो भी बाकि रहेगावह है व्यवहारिकता| आपको ज़रूरी है की आप इसी व्यावहारिकताको अपने रिश्ते का सही मुद्दा बनाये| धीरे-धीरे यही व्यावहारिकता आपकी विशेषता बन जाएगी|

८. अपना दिल बड़ाकरो

हम सब सुखी होना चाहते हैं| ज्यादातर बार इसका मतलब होता है किसीके पास प्यार से रहना| परन्तु सुखी होने के लिए आपको अपने दिल के अंदर झांकना पड़ेगा और अपनीअच्छाइयोंसे वाकिफ होना पड़ेगा| अपनीअच्छाइयोंको जानो और फिर आपको अपने साथी में भी अच्छाइयोंआसानीसे मिल जायेंगीं|

९. प्यार दो

सच्चा सुख देने में है| खुद को व दूसरों को प्यार देने से आपको सच्ची ख़ुशी मिलेगी| यदि आप वहीप्यार वापस पाते हो, तोवहअधिक सुंदर होगा| जिस दिन आप दूसरों को व खुद को प्यार करने लगेंगे, आप अपने-आप ही प्यार पाने भी लगेंगे|

१०. अपेक्षाएंमार देती हैं| उन्हें जाने दो|

दिल के टूटने का मूल कारण अपेक्षा है| प्यार का मतलब हमेशा साथ रहना नहीं होता| उसे अपने अंदर के खालीपन को भरने का जरिया ना बनाएँ| अपेक्षा करने के बजाये, स्वीकार करना सीखो| जो मिलता है उसमें खुश रहो और अधिक पाने के लिए प्रयास ज़रूर करो परन्तु अपनी अपेक्षाओं को अपने रिश्ते पर बोझ ना बनाने दो| कभी उनके नक़्श-ए-कदम पर चलके भी देखो|

सच्ची नजदीकी महसूस करने के यह केवल कुछ ही उपाय हैं| लेकिन यदि आपने कुछ दुर्भाव बना लिए हैं या पिछले किसी रिश्ते का कोई बुरा अनुभव है तो मूल कारण पर काम करना पड़ेगा| मेरे ‘माइंड पॉवर वर्कशॉप’ में हम मनुष्य के संबंधों का पूरा मनोविज्ञान व आपके चाहने वाले आपसे क्या अपेक्षा रखते हैं यह सब सिखाते हैं|

इसके फल:स्वरूप आपको उन्हें जो चाहिए वह देने में मदद मिलती है और आप उनकी ज़रूरतें पूरी कर सकते हैं| इस कार्यक्रम की अधिक जानकारी के लिए यहाँ क्लिक करें: Change Your Life – Mind Power Workshop

और मैं यह भी सलाह दूंगा की आप ‘दिमागी घर की साफ़-सफाई’ का अनुभव लेने के लिए मेरा नि:शुल्क एंड्राइड एप्प प्राप्त कर लें जिससे आपको माफ़ करके आगे बढ़ने मैं आसानी होगी|

Click Here to Download Sneh Desai App

Share