11 WAYS TO STOP SUICIDAL THOUGHTS

Written by Sneh Desai on April 14, 2017

Read to know 11 ways to Stop Suicidal Thoughts


Surviving intense painful feelings and emotions is what life is all about. The outcome of such a struggle is in your hands, in fact in your thoughts. Desperation of a sort that makes you want to run away from your problems instead of facing them is risky if cultivated into a habit. This habit is exactly the trigger point of suicidal thoughts. Easier said than done, but start understanding and applying mitigating steps. Learn the importance of a healthier lifestyle. What are the things that are worth holding onto and survive? Focus on those. Here’s how you can start:-

mpw

Origin: Wanting to feel relieved from onset pressures of survival by feeling the need to commit suicide is as absurd as life itself. To survive and live through such weak thoughts, one must understand the origin of such behavioral/thought pattern. Firstly, having mere thoughts and actually executing them are two very different things. What needs to be curbed is the habit of thinking about such a negative concept. The more the importance placed on these thoughts, the greater the magnanimity of negative clouds raging over your life. Be patient with yourself, enough to understand the cause of wanting to resort to such a preposterous measure. Break the pattern of repeatability and apparent-plausibility of these thoughts by finding out the naked truth behind them. Try to understand your inner feelings on a day-to-day basis by keeping a journal. Moreover, it is also important to believe that finding relief is not impossible.

Get To Discipline Yourself: Discipline comes from thoughts of wanting to take care of oneself by being fully in control. Suicidal thoughts originate from the lack of such nurturing thoughts. Taking care of yourself ranges from keeping a check over alcoholism, drug-addiction, cigarette-consumption to feeding yourself properly, taking a shower regularly to visiting the doctor for regular checkups. It is a wide spectrum. Start to slowly get into the habit of getting in control of yourself first and then your situations. Stop extreme self-policing and self-bullying and start by beginning your day with positive vibrant thoughts. Set up a routine for yourself and make a commitment towards it, every single day!
Look At The Bigger Picture: Sometimes the cause of our sorrows lie in trivial things. This happens most to people who overthink to the point where they can’t recuperate themselves to normality. The more frequent this habit, the more depressive the mind. This abnormal depression leads to suicidal thoughts. Decide to stop reading in-between the lines and instead look at the bigger picture. Look at things objectively and reason out its importance in the bigger scheme of things instead of getting caught up in mundane details.

Pour Your Heart Out: Loneliness arises from the absence of another soul who would actually listen to you. However, during suicidal thoughts we insinuate loneliness even though we have a lot of people around us who could willingly help us out and listen to our problems. The more negativity you chain inside yourself, the more it shackles YOU around it. Look beyond yourself to find someone to talk to and pour your heart out. Simple. Free yourself from burdensome thoughts and express yourself to someone else; even if it is a stranger.

Don’t Carry The Extra Emotional Baggage: Every being carries a certain amount of baggage with him/her and has the audacity to judge the world with his/her limited experience. The past, no matter how difficult, is an impediment to growing your present to its full potential. Chuck it NOW. The past has eloped and nothing can be done about it, but the present is still in your hands to change. Every fleeting moment is monumental in forming a bright future.

Make A Wish-List: Make a list of all the things you wish to achieve or the kind of person you aspire to be. The only way to curb loneliness is to enjoy your own company; and the only way to achieve that is by achieving your dreams or by at least being active and motivated enough to follow them. Therefore, make a wish-list and put it in a place where you can look at it every day to inspire yourself instead of getting bogged down.

The Struggle Is Real For Everybody: Everyone you meet is fighting a hard battle. Not everyone wants to quit. Understand that. Study the thought-patterns of highly successful people and also the ones you meet on a daily basis. Understand how they pass through their dark times and what keeps them going. Compare the results to sync them with your own thoughts and feelings; then see if your problems are big enough to compel you to quit.

Away From Reach: Away from sight, away from mind. Anyone going through a suicidal phase knows that they are vulnerable and anything more negative can trigger extremity. Keep anything unsafe out of reach. No knives, no poison, nothing harmful should be in your vicinity.

Meditate: Focus on breathing. Meditation helps you to do just that. Bring your attention to your heartbeat by slowly giving in to your breaths. There is nothing more realistically pleasant and soothing than meditation. It helps you understand your inner feelings and helps you deal with your demons internally.

Volunteer: Volunteer on various social platforms for numerous noble causes. It enables your mind to open up to other peoples’ miseries and their way of coping with them despite despair.

Get Help If Needed: It is not the end of the world. Hardships are as normal as the good times we are offered; and the only way to deal with them is through graciousness. Be gentle on yourself, and if nothing seems to work, getting help is as normal as going to the doctor for a regular physical health check-up!

आत्मघाती विचारों को रोकने के ११ तरीके

अत्यंत कष्टदेय भावनाओं तथा संवेदनाओं को झेलकर जीवित रहने को ही ज़िन्दगी कहते हैं| ऐसी जंग का परिणाम केवल आप के हाथों में ही नहीं, बल्कि आपके विचारों में भी है| किसी भी प्रकार की निराशा, यदि आपको अपनी कठिनाइयों का सामना करने के बजाय, उनसे भाग खड़े होने के लिए प्रेरित करे, तो वह हानिकारक साबित हो सकती है, अगर इसकी आदत डाली जाए तो| ठीक यही आदत आत्मघाती विचारों की शुरुवात होती है| कहना आसान है, पर करना मुश्किल – फिर भी इन्हें समझ कर इनकी गंभीरता कम करने वाले उपाय लागू करना शुरू कर दो| एक अधिक स्वस्थ जीवन शैली का महत्त्व सीख लो| वह कौनसी बातें हैं जिन्हें जकड कर रखा जा सकता है ताकि जिंदगी जी सके? केवल उन्हीं पर अपना ध्यान केन्द्रित करो| आप निम्नोक्त तरीकों से शुरुवात कर सकते हैं:-

mpw

स्रोत: जीवित रहने के आक्रामक क्लेश से छुटकारा पाने के लिए आत्महत्या की ज़रुरत महसूस करना, उतना ही निरर्थक है जितना की जिंदगी| ऐसे निर्बल विचारों में से गुज़र कर जीने के लिए, हमने इस स्वभावजन्य / विचार प्रणाली के स्रोत को समझना चाहिए| प्रथमतः, केवल विचार करना और उन्हें सही में अमल में लाना दो बिलकुल अलग बातें हैं| जिसे रोकना चाहिए वह है ऐसे नकारात्मक धारणा का विचार मन में लाने की आदत| ऐसे बुरे विचारों को जितना ज्यादा महत्त्व दिया जाएगा आपके मन पर मंडराते हुए काले बादलों की विशालता उतनी ज्यदा होगी| खुद के साथ सबर करो, उतना की आप समझ सको की आप इतना बेहूदा व खतरनाक कदम क्यों उठाना चाहते हो| ऐसे विचारों के पीछे के स्पष्ट सत्य को ढूंढ कर, इन विचारों को दोहराए जाने की, और प्रत्यक्ष-सत्याभास की प्रणाली को तोड़ो| एक दैनंदिनी रखकर अपने अंदरूनी विचारों को प्रतिदिन समझने की कोशिश करो| इसके अलावा यह जानना व मानना भी ज़रूरी है की मदद मिलना व राहत पाना नामुमकिन नहीं है|

खुद को अनुशासित करो: अपना ख्याल रखने के लिए पूरी तरह से खुद पर काबू रखने के विचारों से ही अनुशासन का आरम्भ होता है| आत्मघाती विचार ऐसे पोषक विचारों के अभाव के कारण ही आते हैं| खुद की देखभाल करना अर्थात अत्यधिक मद्यपान, नशीले पदार्थों का सेवन, धूम्रपान करना, आदि पर नियंत्रण रखने के साथ-साथ ठीक से खाना, खुद को साफ़-सुथरा रखना, और नियमित जाँच के लिए डाक्टर से मिलना भी होता है| यह एक विशाल श्रेणी है| पहले धीरे-धीरे खुद पर काबू पाने की कोशिश करो और इसकी आदत डाल लो, और फिर अपने हालात पर काबू पाओ| पराकाष्टा का स्वयं-नियंत्रण और स्वयं-झिडकना बंद करो और खुद के दिन की शुरुवात हकारात्मक व जोशपूर्ण विचारों से करो| खुद के लिए एक दिनचर्या बनाओ और उसके प्रति वचन बध्द बनो, हर रोज़ व रोज़-रोज़!

बड़े चित्र को देखो: कभी-कभी हमारे दुखों का कारण एकदम मामूली बातों में होता है| ऐसा उन लोगों के साथ अधिक होता है जो हर बात के बारे में बहुत ही ज्यादा सोचते रहते हैं और इसके बाद वे खुद को फिर से स्वाभाविक नहीं बना सकते| यह आदत जितनी बढ़ेगी, उतन ही ज्यादा मन दुखी होगा| यही अस्वाभाविक दुःख आत्मघाती विचारों की ओर ले जाता है| पक्तियों के बीच में पढना बंद करने की ठान कर बड़े चित्र की ओर देखो| हर बात को तटस्थ भाव से देखो और छोटे व तुच्छ अंशों के जंजाल में फंसने के बजाय, बडी योजना में उनका महत्त्व आंक लो|

अपना दिल खोल के रख दो: अकेलेपन का उद्भव किसी ऐसे हमदर्द के अभाव के कारण होता है जो आपको सच्चे दिल से सुन सके| फिर भी जब आत्मघाती विचार आने लगते हैं तब, बावजूद इसके की हमारे इर्द-गिर्द हमें सुनने वाले काफी लोग हैं, हम अकेलेपन का दावा करते हैं और उसे महसूस भी करते हैं| जितनी ज्यादा नकारात्मकता आप अपने अंदर बंद करके रखोगे वह उतनी ही आपको जकड़ कर रखेगी| खुद से परे, खुद से आगे देखो और ऐसा कोई ढूढों जिसके साथ आप आसानी से व दिल खोल कर बातें कर सकें| बस! खुद को बोझिले विचारों से मुक्त करो और अपनी बात किसीको बताओ; चाहे वह कोई गैर ही क्यों ना हो|

भावनाओं के अतिरिक्त बोझ को लादे हुए मत रहो: हर व्यक्ति अपने साथ कुछ अतिरिक्त बोझा लादे हुए चलता है और फिर दुनिया को अपने संकुचित अनुभव व नज़रिए से देखने की जुर्रत करता है| आपका अतीत, कितना भी दर्दनाक क्यों ना हो, आपके वर्तमान को पूरी तरह से विकसित होने में बाधा होता है| अतः उसे अभी, इसी वक्त त्याग दो| अतीत बीत गया है और उसके बारे में कोई कुछ नहीं कर सकता, परन्तु वर्तमान को बदल डालना अभी भी आपके ही हाथों में है| गुजरने वाला हर क्षण एक तेजस्वी भविष्य को बनाने में अत्यधिक महत्वपूर्ण होता है|

एक इच्छा सूची बनाओ: ऐसी बातों की सूची बनाओ जिन्हें आप पाना चाहते हो या फिर यह लिख लो की आप किस प्रकार के इंसान बनना चाहते हो| अकेलेपन का एक ही सच्चा ईलाज है और वह है खुद की सोहबत का मज़ा लेना, और यह करने का एकमात्र तरीका है अपने सपनों को पाना या फिर उन्हें हासिल करने के लिए क्रियाशील तथा प्रेरित होकर जी-जान से जुट जाना| अतः, एक इच्छा सूची बनाओ और उसे ऐसी जगह पर रखो जहाँ आप उसे रोज़ देख सको ताकि, उलझन महसूस करने के बजाय आप खुद को उत्साहित रख सको|

संघर्ष सबके लिए एक हकीकत है: जिस भी व्यक्ति से आप मिलते हो वह अपनी जंग लड़ रहा है| हर किसीको हार मानने की इच्छा नहीं होती| यह बात समझ लो| अत्यंत कामयाब व्यक्तियों के विचार-ढांचे का और आप रोज़ जिन्हें मिलते हैं उनके विचारो का ठीक से अभ्यास करो| यह लोग अपने मुश्किल दौर से कैसे गुज़रे व बाहर आए यह जानो और वह क्या है जो उन्हें आज भी आगे बढ़ने को प्रेरित करता है उसे समझो| इन परिणामों की तुलना करो और उन्हें अपने विचारों तथा भावनओं से संकलित करो; फिर देखो की क्या आपकी समस्याएँ इतनी बड़ी हैं की वे आपको छुटकारा पाने के लिए मजबूर करें|

पहुँच के बाहर: दृष्टी से बाहर, दिमाग से बाहर| जो व्यकित आत्मघाती दौरे से गुज़र रहा होता है उसे यह मालूम है की कोई भी नकारात्मक विचार उसे बर्दाश्त की चरम सीमा तक ले जा सकता है| अतः हर खतरनाक वस्तु को पहुँच के बाहर रखो| कोई छुरियाँ नहीं, कोई ज़हर नहीं, कोई भी हानिकारक चीज़ आपके इर्द-गिर्द नहीं होनी चाहिए|

चिंतन करो: साँस लेने पर ध्यान दो| चिंतन आपको ठीक यही करने में मददरूप होता है| धीरे-धीरे अपने साँसों के आधीन हो जाओ और अपनी धडकनों पर अपना ध्यान केन्द्रित करो| चिंतन से बढ़कर सुखकर व शान्तिदेय और कुछ नहीं है| इससे आपको अपने आंतरिक विचारों को समझने में और अपने भीतरी दानवों से जूझने में सहायता होगी|

स्वयंसेवक बनो: अलग-अलग सामाजिक मंचों पर बहुत सारे नेक कार्यों में स्वयंसेवक बनो| इससे आपके मन को दूसरों की समस्याएं और वे लोग उन सब से, निराशा होने के बावजूद, कैसे जूझ रहे हैं यह जानने का मौका मिलता है|
ज़रूरत पड़े तो मदद लो: यह दुनिया का अंत नहीं है| कठिन समय उतना ही स्वाभाविक हैं जितना अच्छा समय| इससे निपटने का एक ही तरीका है – शालीनता से| खुद के साथ शान्त रहो, और यदि कुछ भी काम ना करे तो, मदद मांगना, डाक्टर के पास शारीरिक जाँच के लिए जाने जितना ही सहज है!

Share