5 Tips To Develop Healthy Eating Habits

Written by Sneh Desai on December 1, 2018

Tips to Develop Healthy Eating Habits




Most people I interact with want to lose weight or get fitter. Sometimes people tell me that in spite of hitting the gym, doing Yoga regularly or getting adequate physical movement, they are unable to see healthy changes in their bodies. If you belong to the same category of people, today’s post is going to be a hard-hitting reality check.

If you think that eating EVERYTHING and, in comparison, doing a lot of exercise will help you lose weight or fat then you are wrong! The food you consume is directly proportionate to your health. Even if you are training frequently but lack control or discipline as far as your eating habits are concerned then this struggle will persist. Instead what you need to do is to start building a healthy eating habit & get adequate physical activity to maintain and/or lose weight or body fat.

1. Eat On Time:

Eating on time is extremely essential for good health. Eating a salad at 1 a.m. does not absolve you of the consequences. Thus, in order to start eating right it is first important that you start eating on time. Most people have amusing eating habits. They tend to have a light breakfast, a heavier lunch & the heaviest dinner. If you eat your heaviest meal an hour before going to bed it defeats the purpose of inculcating a healthy habit. Thus, timing is significant. Try to eat before 10 a.m. & refrain from eating post 8 p.m. This slight change of routine will keep reminding you of how you must eat healthy too!

2. Keep It Colourful:

A key component to ensure that you are eating healthy is to have colourful elements on your plate. This means that you need to incorporate three to four different components in your meal. It could be raita or a salad with veggies & daal with roti etc. But make sure that you have at least three different segments in your meal. If you don’t then it becomes a highly alarming matter which you may need to take care of at the earliest. Instead of thinking about the portions of carbohydrates to proteins to vitamins, check on the component & variety of food on your plate. This way you also tend to eat a moderate amount instead of over-indulging.

3. Local is better:

One of the hugest mistakes we tend to make while shifting our food habits is to go Gourmet, i.e., we instantly look for the American way of making salads & buy foreign foods like quinoa, avocados etc. However, if you want to make a sustainable change in your eating habit then sticking to local food is better. Indian food is also capable of being healthy while giving you your essential nutrients. Also, the food habits of the West are not a benchmark. Their climatic circumstances are quite opposite to ours, so what they eat & consider healthy might not work for us.

4. Learn To Cook:

Once you learn to cook you shall slowly learn the science of understanding which ingredient is healthy & which is not. Once that begins to make sense, you shall automatically become wary of what you put in your mouth. Also, there is a huge myth doing the rounds that diet food needs to be boiled & bland. However, once you learn to cook you shall understand that boiled food does not guarantee health and that there are other non-bland ways of making food that may keep your health wholesome.

5. Try new combinations:

Most people get bored of eating healthy because they eat one or two specified things in an alternate manner. If you keep yourself limited then it is only obvious that you shall get bored. Try to make new combination & be unafraid of trying unconventional ingredients to keep your taste palette in check!

In my premium program ‘Ultimate Life’, I spend one whole day on ‘Health’ where participants get in-depth knowledge of diet and exercise. If you are one of those who want to get healthier, this program is a must for you.

स्वस्थ भोजन की आदतें विकसित करने की 5 युक्तियाँ

जिन लोगों के साथ मैं बातचीत करता हूं उनमें से ज्यादातर लोग या तो वजन कम करना चाहते हैं या और ज्यादा फिट होना चाहते हैं। कभी-कभी लोग मुझे बताते हैं कि जिम में जाने के बावजूद, नियमित रूप से योग करने या पर्याप्त शारीरिक हलचल करने के बावजूद उन्हें अपने शरीर में परिवर्तन नहीं दिखता हैं। यदि आप इन लोगों की श्रेणी के हैं, तो आज की पोस्ट आपके लिए एक रियलिटी चेक होने जा रही है।

यदि आपको लगता है कि सब कुछ खाने से और बहुत व्यायाम करने से आपका वजन या फैट कम हो जायेगा तो आप गलत हैं! जो खाना आप खाते हैं उसका आपके स्वास्थ्य से सीधा रिश्ता है। यदि आप अक्सर व्यायाम करते हैं लेकिन आपकी खाने की आदतों पर नियंत्रण या अनुशासन की कमी है तो यह संघर्ष जारी रहेगा। इसके बजाय आपको स्वस्थ खाने की आदत बनाने और वजन या शरीर के फैट को बनाए रखने और / या खोने के लिए पर्याप्त शारीरिक गतिविधि भी करने की आवश्यकता है।

1. समय पर खाएं:

समय पर भोजन अच्छे स्वास्थ्य के लिए बेहद जरूरी है। रात एक बजे सलाद खाने से आप परिणामों से दोषमुक्त नहीं होते है। इस प्रकार, सही से खाना शुरू करने के लिए पहली शर्त यह है कि आप समय पर खाना खाएं। अधिकांश लोगों में खाने की मनोरंजक आदतें होती हैं। वे हल्का नाश्ता, भारी भोजन और उससे भी भारी रात का खाना खाते है। यदि सोने से एक घंटा पहले आप अपना सबसे भारी भोजन करते हैं तो यह कोई अच्छी आदत नहीं है। इस प्रकार, समय महत्वपूर्ण है। रात के 10 बजे से पहले खाना खाने की कोशिश करें। हो सके तो रात के 8 बजे के बाद खाने से बिलकुल बचें। दिनचर्या में यह मामूली परिवर्तन आपको याद दिलाएगा कि आपको स्वस्थ कैसे खाना चाहिए!

2. खाने को रंगबिरंगी रखें:

आप स्वस्थ भोजन कर रहे हैं या नहीं यह सुनिश्चित करने के लिए एक महत्वपूर्ण बात यह है कि, आपकी प्लेट पर अलग-अलग रंग के खाने होने चाहिए। इसका मतलब है कि आपको अपने भोजन में तीन से चार अलग-अलग चीजों को शामिल करने की आवश्यकता है। यह रायता या सलाद के साथ सब्जियां और दाल के साथ रोटी इत्यादी हो सकता है। लेकिन यह सुनिश्चित करें कि आपके भोजन में कम से कम तीन अलग-अलग प्रकार हैं। यदि आप ऐसा नहीं करते हैं तो यह अच्छा नहीं है और आपको इसे जल्द से जल्द बदलने की आवश्यकता है। कार्बोहाइड्रेट की तुलना में प्रोटीन और विटामिन के हिस्सों के बारे में सोचने के बजाय, अपनी प्लेट पर परोसे गए भोजन के विभिन्न चीजें और प्रकार की जांच करें। इस तरह आप अधिक खाने के बजाय ठीक-ठाक भी खाते हैं।

3. स्थानीय चीजें बेहतर है:

हमारी खाद्य आदतों को बदलते समय हम जो गड़बड़ी करते हैं, उनमें से एक है पेटू हो जाना, यानी, हम तुरन्त अमेरिकी तरीके से सलाद बनाने और क्विनोहा, एवोकैडो इत्यादि जैसे विदेशी खाद्य पदार्थ खरीदने में लग जाते हैं। हालांकि, अगर आप अपनी खाने की आदत में पक्का परिवर्तन करना चाहते हैं तो स्थानीय खाना खाना बेहतर है। भारतीय भोजन आपको आवश्यक पोषक तत्व देने के साथ-साथ स्वस्थ भी रखने में सक्षम है। इसके अलावा, पश्चिम की खाद्य आदतें स्वस्थ खाने की कोई मानदण्ड नहीं हैं। उनकी जलवायु परिस्थितियां हमारे विपरीत हैं, इसलिए वे जो खाते हैं और स्वस्थ मानते हैं, वे हमारे लिए काम नहीं कर सकते।

4. खाना पकाना सीखें:

जब आप खाना बनाना सीखेंगे तो धीरे-धीरे आपकी समझ में आ जायेगा कि कौन सी चीज स्वस्थ है और कौनसा नहीं है। एक बार जब यह समझने लगता है, तो आप अपने मुंह में जो कुछ भी डालते हैं, उसके बारे में सावधान रहेंगे। इसके अलावा, यह एक बड़ी गलत धारणा है कि डाइट वाला खाना उबला हुआ और स्वादहीन होना चाहिए। जब आप खाना बनाना सीखेंगे तो आप समझ जाएंगे कि उबला हुआ भोजन स्वास्थ्य रहने की गारंटी नहीं देता है और भोजन बनाने के अन्य अच्छे तरीके हैं जो आपके स्वास्थ्य को अच्छा रख सकते हैं।

5. खाने में नए-नए चीजों के मेल-मिलाप (कॉम्बिनेशन्स) को आजमाएं:

ज्यादातर लोग स्वस्थ खाने से ऊब जाते हैं क्योंकि वे तय की हुई एक या दो चीजों को ही उलट-पलटकर खाते हैं। यदि आप अपने आप को सीमित रखते हैं तो आप ऊब जाएंगे। खाने में नए-नए चीजों के मेल-मिलाप (कॉम्बिनेशन्स) बनाने की कोशिश करें और स्वाद के लिए अपरंपरागत सामग्री और मसालों का उपयोग करने से ना डरें!

मेरे कार्यक्रम ‘अल्टीमेट लाइफ’ में, मैं एक पूरा दिन ‘स्वास्थ्य’ पर खर्च करता हूं जहां सहभागियों को आहार और व्यायाम का गहरा ज्ञान दिया जाता हैं। यदि आप उनमें से एक हैं जो स्वस्थ होना चाहते हैं, तो यह कार्यक्रम आपके लिए बहुत जरूरी है।

Share