7 PRACTICAL WAYS TO INCREASE CONCENTRATION

Written by Sneh Desai on September 29, 2017

For Blog (1)



The flow of this continuous control of the mind becomes steady when practiced day after day, and the mind obtains the faculty of constant concentration.

Concentration – the act of focusing all of one’s power into a given task, goal or desire. It requires taking your mind off many things and putting it on one thing at a time. The concept is too big to fathom in its entirety, and even though all of us want to increase our concentration levels, we falter mainly because after a point of time it seems preposterous and impractical. However, ironically our concentration level in deviating from forming a good habit is noteworthy. Thus, instead of keeping this post a plethora of unreasonable gyaan, let’s focus on ways that can actually get us results. For the purposes of this article, let’s assume that all of us have already determined what we want or direly desire, i.e., we KNOW the goal on which we need to shed our 100% focus.

(And in case you wish to learn how to set any goal with a proven method, Sneh’s ‘Goal Setting DVD’ talks about just that in detail.)

1. Distractions much? Take a notepad and start making a list of your distractions. In the digital age that we live in, distractions are aplenty and there is too much for each one of us to do; because of which we end up having a scatterbrain. If we are honest with ourselves then it is not a very difficult task to find out and list all the activities that lead us to wasting time and hence away from our point of focus. Make this list as specific as possible and keep a record of how much time is wasted per day on a particular distraction. This shall help you to be more aware. After determining the above, slowly start to limit that activity until the least amount of time is contributed to it. For starters, try a “social media cleanse”, i.e., try and stop using all social media activities for a few hours or days or months (as per your convenience). Use digital privileges for more constructive purposes. For example, if your goal is to lose weight or to get fitter, download apps like Google Fit, HealthifyMe etc. to keep track of your diet, weight, water intake, exercises etc.

2. Don’t Stress! Most people are unable to concentrate because they stress too much. The primary cause of stress is living in the future a lot more than staying alive in the present. Sometimes, this problem is also caused due to unnecessary overthinking. People who are victims of the aforesaid need to relax. Start meditating for a few minutes every day. In today’s day and age with very fast pacing lives, sitting by yourself without any thought is of utmost significance. Sometimes we don’t realize but stressing not only hinders our concentration but if done in excess it can lead to depression or an inferiority complex and low self-esteem in the long-run. If meditation does not come easily to you and if you are a hypochondriac, try channelling your energy into some form of exercise whether it is in the gym or a Yoga class or household chores within the walls of your own premises. Sneh, in his unique 4-days ‘Ultimate Life Camp’, spends one full day on techniques for removing stress from your life permanently.

3. Form a Routine. People who live disorganised lives and take pride in it are either artistes or people who have desperately begun chasing their passion without sparing a care for the rest of the world. For others, routine is a must in order to concentrate. Organisation helps to de-clutter a wandering brain and stems from having a set yet flexible routine. Find a time period that motivates you to carry out your important tasks; it could be early in the morning or in the wee hours of the night – suit yourself. List your important to-dos well in advance the day before and dive into it. Organisation by literally clearing out the mess in your surroundings is also important. For you to be able to fully concentrate it is essential that your surroundings are also neat. Fix everything as much as possible and make sure this routine is dynamic and adaptive to abnormal changes.

4. Balance Your Diet. It seems like a long-shot and is surprising to most people that the food we eat and our concentration level is directly proportional. Not eating enough can make your body void of essential nutrients and vitamins whereas overeating can make you feel lethargic, sleepy and uncomfortable. Either way, incorrect eating habits is a big con! Eating a well-balanced diet can ensure enough energy in you to complete your tasks without procrastinating. Visit a nutritionist and understand the importance of correct eating without crash-dieting. Make a diet-chart that can incorporate your favourite food-items and yet allow you to indulge into desserts and other cravings once in a while.

5. Go out! Remember to take breaks and instead of using that free time on various other activities, go out and spend time with nature. It is a great way to uplift your mood and rejuvenate yourself. Take a stroll or just sit on a park bench, but make sure you get your daily dose of basking in the glory of Mother Nature. It helps you to forget the unnecessary drama and hustle-bustle of daily life and just become quiet inside-out. It is almost meditative, but being outdoors can also lead to positive contemplation and helps improve the flow of oxygen inside your brain. Such positivity is extremely significant in reminding you of how important your goals are and why it is needs to be your focal point.

6. Change of Habit. We all have certain habits, even while working, that becomes detrimental to the work at hand. Recognize those counterproductive habits! For example, while working on the laptop we sometimes sit on our beds instead of a proper desk. This leads to a lot of lethargy and showcases a lack of diligent effort. However, this practice is more diabolical and difficult to adapt since sometimes these small habits go unnoticed. Make a diary or a notebook and whenever you chance upon any small habit that seems detrimental to your focusing abilities, note it and be well-aware the next time. It can be anything from slouching to general forgetfulness. Also, try to incorporate healthier habits instead (Learn how to apply some healthy habits in Sneh’s ‘Winning Habits DVD’) – like giving yourself positive affirmations, making a vision board, keeping a journal to write your inner thoughts, reading, pursuing a lifelong hobby etc.

7. Persevere. Keep going. It is very easy to quit but what we are unaware of is that if instead we try harder we move that much closer to our goals. There could be really bad days that may compel you to take an easier route; but the one thing that may truly make you different from others is to NOT QUIT! Of course this does not mean that you become hard on yourself but at least get enough clarity of thought and mind such that you are determined to achieve what you need to without giving in to other pleasures that may lead to regrets. The more the clarity, the more your concentration and even bigger the results.

Concentration too needs a concentrated effort! Good luck!

ध्यान बढ़ाने के ७ प्रयोगात्मक तरीके

“मन पर लगातार अंकुश रखने का प्रवाह तब कायम बनता है जब इसका प्रतिदिन उपयोग हो, और तभी मन लगातार एकाग्र रहने की काबिलियत पा लेता है”
— स्वामी विवेकानंद

एकाग्रता – अपनी समग्र शक्ति एक की दिए हुए कार्य, ध्येय या इच्छा में लगाना| इसके लिए आपको चाहिए की अपना दिमाग अनेक बातों पर से हटाकर, एक समय पर किसी एक ही बात पर केन्द्रित करें| यह संकल्पना इतनी विशाल है की उसे अपनी पूर्णता में समझना मुमकिन नहीं है, और हालाँकि हम सब चाहते हैं की हमारे एकाग्र रहने का स्तर बढे, फिर भी हम डगमगाने लगते हैं क्योंकि कुछ समय बाद यह अनर्थक और अवास्तविक लगने लगता है| परन्तु, व्यंग्यात्मक रूप से, एक अच्छी आदत से दूर रहने की हमारी एकाग्रता बड़ी कमाल की होती है| अतः इस लेख को अतर्कसंगत ज्ञान से प्रचुर बनाने के बजाय, आओ उन बातों पर ध्यान दें जिनसे सचमुच मनचाहा परिणाम मिले| इस लेख के आशय के लिए हम मान लेते हैं की हम सब ने यह निश्चित कर लिया है की हम दिल से क्या चाहते हैं; अर्थात हमें मालूम है की हमें अपना १००% ध्यान किस बात पर केन्द्रित करना है| (और यदि आप साबित तरीकों से लक्ष्य कायम करना सीखना चाहते है तो डॉ. स्नेह देसाई की ‘गोल सेटिंग डीवीडी’ इसी के बारे में सविस्तार चर्चा करती है|)

१. दूसरी ओर खिंचाव ज्यादा? एक नोटपैड लेकर अपने विकर्षणों की सूची बनाइये| आज हम जिस डिजिटल युग में रहेते हैं वहाँ बहुत सारे विकर्षण के मुद्दे हो सकते हैं जो हमें करने पसंद हो; जिसके कारण हमारा मन विचलित हो जाता है| अगर हम अपने आप से प्रमाणिक हैं तो इन्हें ढूंढकर सुची बनाना कोई मुश्किल बात नहीं की वह कौनसी प्रवृत्तियाँ है जो हमारे कार्य में बाधा डालती हैं, और हमसे समय का व्यय करवाकर हमारा ध्यान हटाती हैं| विस्तार से ऐसी सूचि बनाकर उसका रिकॉर्ड रखें की किस विशेष विकर्षण में रोज का कितना समय व्यर्थ गया यह भी लिखिए| यह आपको ज्यादा जागृत रहने में मदद करेगा| ऊपरोक्त निर्धार करने के बाद, इस बात पर ध्यान दीजिए कि धीरे-धीरे उस कार्य पर बिताये जाने वाले समय को तब तक कम करें जब तक कि उस पर कम से कम समय व्यतीत हो| शुरुआत के लिए, ‘सामजिक माध्यम सफाई’ की कोशिश करें; अर्थात [अपनी अनुकूलता के अनुसार] कुछ घंटों, दिनों, या महीनों के लिए सामाजिक माध्यमों की प्रवृत्तियों से दूर रहिये| डिजिटल सुविधाओं का उपयोग अधिक रचनात्मक कार्यों में करें| उदाहरणतः अगर आप का ध्येय वजन कम करना है या चुस्त बनना है तो ‘गूगल फिट’ या ‘हेल्दिफाय मी’ आदि एप्प का उपयोग करके अपने भोजन, वजन, वर्जिश, पानी पीने की मात्रा, इत्यादि पर नज़र रख सकेंगे|

२. तनाव मत लो! – काफी सारे लोग तनाव की वजह से ध्यान केन्द्रित नहीं कर पाते| उसका प्राथमिक कारण यह है कि ऐसे लोग वर्तमान में जीने के बजाय भविष्य में जीते हैं| कई बार अनाव्श्यक ही ज्यादा सोचने के कारण यह समस्या होती है| जो लोग उपरोक्त बात के शिकार हैं उन्हें विश्रांत होना चाहिए| हररोज थोड़ी देर ध्यान करें| आजके ज़माने में अधिक तेज रफ़्तार से चलती जिन्दगी में खुद के साथ बिना किसी विचार के बैठना अत्यंत महत्वपूर्ण है| कभी कभी हमें पता नहीं चलता लेकिन यह तनाव केवल ध्यान में रूकावट ही नहीं डालता परन्तु यदि लम्बी अवधि तक रहे तो हमें हताशा की ओर ले जाता है और हम में हीन मनोग्रंथि या निचेपन की भावना पैदा करता है| अगर आप ध्यान आसानी से नहीं कर सकते और यदि आप रोगाभ्रमी हैं तो अपनी शक्ति को योग में या जिम में या घर की चार दिवारी की किसी भी प्रवृत्ति में लगा कर कार्यान्वित करें| डॉ. स्नेह अपने चार-दिवसीय अद्भुत सेमिनार ‘अल्टीमेट लाइफ कैंप’ में पूरा एक दिन आपके जिन्दगी से हमेशा के लिए तनाव दूर करने की युक्तियाँ सिखाने में निकालते हैं|

३. दिनचर्या तय करें| जो लोग अनियमित जीवन जीते हैं और उस पर गर्व भी करते हैं वे या तो कलाकार हैं या वे लोग हैं जिन्होंने अपने चाहत का पीछा दुनिया की किसी भी बात की परवाह किये बिना शुरू कर दिया है| दूसरों के लिए, ध्यान केन्द्रित करने के लिए नियत दिनचर्या अनिवार्य है| व्यवस्थापन से विचलित होने वाली बुध्दी को सुव्यवस्थित होने में मदद मिलती है और यह एक नियत लेकिन लचीले दिनचर्या के कारण ही संभव है| ऐसा समय ढूंढिए जो आपको कठिन कार्य हाथ में लेने के लिए प्रेरित करता है – यह सुबह सवेरे या देर रात, कुछ भी हो सकता है, पसंद अपनी अपनी| अपने महत्वपूर्ण कामों की सूची एक दिन पहले से ही तैयार रखें और फिर काम संपन्न करने में कूद पड़ें| अपने आजू-बाजू जमे कचरे को साफ़ करके व्यवस्थापन लाना भी ज़रूरी है| काम पर पूरी तरह से ध्यान देने के लिए अपने इर्दगिर्द की जगह साफसुथरी होना भी आवश्यक है| जितना हो सके उतना हर चीज़ को ठीक करें और निश्चित करें कि यह दिनचर्या स्फूर्त होने के साथ साथ अप्राकृतिक बदलावों के लिए अनुरूप भी हो|

४. आहार को संतुलित करें| जो भोजन हम खाते हैं और हमारा ध्यान केन्द्रित करने का जो स्तर है वह एक दुसरे के सीधे सम्बन्ध में है, यह मानने में ना आने वाली और लोगों को आश्चर्यचकित करने वाली बात है, लेकिन यही सच है| जरुरत से कम खाने से आपके शरीर को जरुरी पोषक द्रव्य और विटामिन की कमी महसूस होती है और जरुरत से ज्यादा खाने से आप आलसी, निन्द्रालू और बैचेन बन जाते हैं| किसी भी तरह से देखो तो गलत खाने की आदत बहुत बड़ा धोखा है! सही संतुलित आहार लेनेसे आप में कठिन काम को भी टालमटोल किये बिना पूरा करने की शक्ति आएगी| आहार विशेषज्ञ को मिलकर ‘क्रैश डाइटिंग’ किये बिना सही खाने का महत्त्व समझिए| खानेका चार्ट बनाईए जिसमें आपकी प्रिय चीजें भी हों और मीठी चीजों व अन्य लालसाओं के आनंद में भी कभीकभार डूब जाने की अनुमति हो|

५. बहार जाएँ! विराम लेना याद रखें और अपना मुक्त समय किसी दूसरी प्रवृत्तियों में लगानेके बदले बहार जाइए और निसर्ग के साथ समय बिताईए| यह आपकी मनोदशा को सुधार ने का और आपको फिर से जवान बनाने का कार्य करेगा| पार्क में गश्त लगाइए या किसी जगह पर बैठीए, पर यह जरुर देखीए की आप कुदरत के सानिध्य में रहने की अपनी रोज़ की ख़ुराक पाते हैं| इस से आपको रोज की नाट्यात्मक जिंदगी से छुटकारा मिलेगा और जीवन की सारी मुश्किलों को भूल कर आप अन्दर और बहार से शांत महसूस करेंगे| यह लगभग ध्यान की ही अवस्था है, पर मुक्त वातावरण में घूमना सकारात्मक चिंतन ही है और उससे दिमाग के अन्दर प्राणवायु का प्रवाह सुधरता है| ऐसी सकारात्मकता आपको आपके ध्येय, और क्यों वही आपका केन्द्रबिंदु होना चाहिए यह याद दिलाने के लिए बहुत ज्यादा महत्त्वपूर्ण है|

६. आदतें बदलनी| हम सब को, काम करते वक्त भी, कोई ना कोई आदत होती है, जो हाथ लिए काम के लिए बाधारूप बन जाती है| उन प्रतिकूल आदतों को पहचानिए! उदाहरणतः जब हम अपने लैपटॉप पर काम करते हैं तब हम टेबल पर बैठने के बजाय अपने पलंग पर बैठते हैं| इससे काफी आलस आता है और परिश्रमी मेहनत की कमी साफ़ नज़र आती है| लेकिन यह आदत बदलनी बहुत ही क्रूर व कठिन है क्योंकि ज्यादातर बार ऐसी छोटी आदतें ध्यान में ही नहीं आती| एक डायरी या कापी रखें और जब भी ऐसी छोटी आदत, जो आपके काम पर ध्यान देने में बाधा साबित हो सामने आए तो, उसे लिख लीजिये और अगली बार उससे सचेत रहिये| यह आलस से सामान्य भूलक्कड़पन, कुछ भी हो सकता है| साथ में, बेहतर आदतें डालने की कोशिश जारी रखें (कुछ स्वस्थ आदतें कैसे उपयुक्त की जाती हैं यह डॉ. स्नेह देसाई की ‘विनिंग हैबिट्स डीवीडी’ से सीखिए) जैसे कि, खुद को हकारात्मक अभिपुष्टि देना, दृश्य फलक (विझन बोर्ड) बनना, अपने आंतरिक विचार लिखने के लिए एक कापी रखना, पढना, जीवन भर का शौक पूरा करना, आदि|

७. लगे रहो| चलते जाओ| छोड़ देना बहुत ही आसान होता है, लेकिन हमें यह मालूम नहीं है कि यदि हम अधिक कोशिश करें तो हम आगे बढ़कर अपने लक्ष्य के थोडा और करीब पहुँचते हैं| यह पूरी तरह से संभव है कि कई बार इतने खराब दिन आते हैं कि आपको आसान तरीका अपनाने के सिवाय कुछ उपाय नज़र नहीं आता; लेकिन जो बात आपको दूसरों से सही माइनों में अलग करेगी वह है ‘छोड़ मत दो’| ज़ाहिर है की इसका यह अर्थ नहीं है की आप अपने आप पर कठोर बन जाओ, लेकिन विचारों और मन की इतनी स्पष्टता तो पाओ कि आप जो चाहते हो उसे, बिना अन्य उपभोग के सामने घुटने टेके – जो अंत में आपको निराश ही करेगा – हासिल कर सको| जितनी ज्यादा स्पष्टता उतना ही अधिक आपका ध्यान और उससे भी बड़े परिणाम|

ध्यान केन्द्रित करने के लिए भी सकेंद्रित मेहनत की ज़रुरत होती है! सफल बनें! नमस्कार!

Share