8 Tips to Say NO to Junk Food

Written by Sneh Desai on February 2, 2018

Tips to Say no to Junk Food



Whether you are a very sociable person or not, saying no to junk food gets really overwhelming and sometimes in gatherings junk food is all that is offered to guests! In a world which is highly paradoxical – while one section of the society is highly motivated towards being fit, the other is highly ignorant to even general well-being – how do you say NO to all that junk?

1. Learn To Cook:

This is one of the easiest ways to drop the junk food. Learn to cook your favorite carbs. It is an eye opener. Most of us are only acquainted with the taste we derive from pizzas, pastas and the likes, but once you learn how to actually make it, you will be shocked by the amount of unhealthy ingredients it attracts just to give you that particular taste! Once you educate yourself of the same, more often than not, you consciously will refrain from eating junk/outside food.

2. Find Replacements:

Believe it or not, every food you crave has an easy replacement. Cottage cheese or Paneer as we call it can be replaced with tofu, wheat/maida can be replaced with bajra, sugar can be replaced with gur, and so on and so forth. Find these replacements and experiment with various results to find a match that helps you neglect the calorie-laden version. In my 4-days ‘Ultimate Life Camp’, we serve the participants such replacements with home-cooked, organic, healthy and tasty food that mesmerizes them throughout the camp.

3. Question Your Existing Diet:

Even if you are the type who is more conscious about your health and are still unable to eliminate junk food, you need to question your existing diet. What do you eat every day? And I don’t mean on special occasions where you indulge, but every day? What is your breakfast, lunch and dinner comprised of? And are you fulfilled by it enough? Why are you constantly craving unhealthy carbohydrates? Ask yourself.

4. Exercise Regimen:

Most of us who exercise regularly and sometimes tend to spend a little more time in the gym, feel OKAY to indulge ourselves in a pizza here, a burger there and soda in between, on a regular basis. Don’t make your exercise an excuse to indulge. In fact, while you exercise it is even more important to support it with a healthy diet in order to build new muscles.

5. Invest in an OTG or an Air Fryer:

An Oven Toaster Grill a.k.a. OTG or an Air Fryer is a great tool to help you make healthier versions of your favourite dishes. Invest in one! You can make your favourite French fries but instead of deep-frying it in excessive oil you can bake it or air fry it using negligible oil. This is just one example, experiment yourself!

6. Lead By Example:

Either say no to constant take-outs and social gatherings or lead by example. Make sure when you are the host to people for any gathering, casual or otherwise, you give them the highest quality of healthy yet tasty food. When you do this it is easier for others to follow suit.

7. Home Cooked > Outside Food:

One of the easiest methods of self-control is to tell yourself that you can eat whatever it is that you want as long as it is cooked in your kitchen! Outside food is tempting but the same thing home-cooked can save you MANY calories and this will go a long way to build a healthier habit.

8. Visit A Dietician:

It all boils down to this – expert care! Just like you visit your dermatologist or your physician on an annual or quarterly basis, visit a dietician too. Our bodies change rapidly in an environment conducive to constant change. One rule cannot be applied to all and it needs to adapt to a person’s changing lifestyle.


अस्वास्थ्यकर पदार्थों को ना कहेने के ८ तरीके
आप मिलनसार व्यक्ति हो या नहीं, अस्वास्थ्यकर खाद्य पदार्थों को ना कहेना अपरिहार्य हो जाता है और कई बार तो समारोह आदि में महेमानों को अस्वास्थ्यकर खाद्य पदार्थ ही परोसे जाते है! यह दुनिया जो बहुत ज्यादा मिथ्यभासी है – जहाँ आधे लोग चुस्त रहेनेके प्रति प्रेरित हैं, और बाकि लोग इतने अधिक अज्ञानी हैं की स्वास्थ्य के सर्व सामान्य बातें भी नहीं जानते – ऐसे में आप उस सारे कचरे को ना कैसे कहेंगे?

१. खाना बनना सीखें:

अस्वास्थ्यकर खाने से छुटकारा पानेका यह सबसे आसन तरीका है| आपके मनपसंद कार्बोहाइड्रेट बनाना सीखें| यह आँख खोलनेवाली बात है| हम में से ज्यादातर लोग पिज़्ज़ा, पास्ता और उस तरीके के खानों में से मिलनेवाले मिलनेवाले स्वाद से ही वाकिफ होते है, पर एकबार आप वास्तव में खाना बनना सिख जाओगे, तो आप उन चीजों में उपयुक्त होने वाली अस्वास्थ्यकर वस्तुओं की मात्रा देख कर आश्चर्यचकित हो जाओगे और जानोगे कि स्वाद के लिए उन्हें कितनी अधिक मात्रा में डालना पड़ता है! एक बार आप प्रशिक्षित हो जाते हो तब आप जागृत होकर हमेशा ऐसा या बाहर का खाना खाने से परहेज करेंगे|

२. एवज ढूंढें:

आप माने या ना माने जिस भी खाने के लिए आप तरसते हैं उसका एवज है| पनीर या कोटगे चीज़ की जगह हम टोफू इस्तेमाल कर सकते हैं, गेहूं का आटा / मैदा बाजरे से बदल सकते हो, शक्कर की जगह गुड और ऐसे ही अनेक चीजें आप बदल कर उपयोग कर सकते हो| खानेकी ऐसी एवेज की चीजें खोज कर प्रयोग करते करते आप को उससे संलग्न स्वाद वाली चीजें मिल ही जाएगी जो आपको उस कैलोरी से लबालब रूप को भूलने में मदद करेंगी| मेरे ४-दिवसीय ‘अल्टीमेट लाइफ कैंप’ में हम सहभागियों को ऐसे एवज का उपयोग करके घर में ही बने, ओर्गानिक, और स्वादिष्ट पदार्थ ही परोसते है जिससे पूरे कैंप के दौरान वे सब मंत्रमुग्ध हो जाते हैं|

३. आपके वर्तमान भोजन की जाँच करें:

यदि आप ऐसे व्यक्ति हैं जो अपने स्वास्थ्य के प्रति जागृत हैं पर फिर भी अस्वास्थ्यकर पदार्थों को निकाल बहार नहीं कर पा रहे, तो आपको अपने वर्तमान भोजन की जाँच करनी चाहिए| आप रोज के खाने में क्या खाते हो? और मेरा मतलब कोई एक खास दिन नहीं जब आप अपने आप को संतुष्ट करते हो, पर हर रोज के खाने से है| आप के सुबह नाश्ते में, दोपहर के खाने में या रात के खाने में क्या शामिल है? और आप इससे पूरी तरह से संतुष्ट हो? आपको अस्वास्थ्यकर कार्बोहाइड्रेट खाने की लालसा लगातार क्यों होती है? अपने आप से यह प्रश पूछें|

४. व्यायाम नियम:

हम में से जो नियमित व्यायाम करते है और कभी कभी थोडा ज्यदा समय भी जिम में बिता देते हैं, हमें लगता है नियमित रूप से कभी इधर पिज़्ज़ा या उधर बर्गर खाना और बीच-बीच में सोडा पीना ठीक है| अपने व्यायाम को आनन्द लूटने का बहाना मत बनाइए| सच्चाई यह है, कि यदि आप नियमित व्यायाम करते हैं तो फिर स्वश्त्याकर भोजन से उसे सहारा देना और भी ज़रूरी हो जाता है, ताकि नए स्नायु बनने में मदद मिले|

५. ओ.टी.जी. (ओवन-टोस्टर-ग्रिलर) या एयर फ्रायर ख़रीदें:

ओवन, टोस्टर, ग्रिलर और एयर फ्रायर एक ऐसा साधन है जो आपकी पसंदीदा चीजों के ज्यादा पौष्टिक स्वरूप बना सकता है| एक खरीद लें! आपकी पसंदीदा फ्रेंच फ्राइज ना के बराबर तेल का उपयोग करते हुए एयर फ्रायर में बनाइए और ज्यादा तेल में तली हुई चीज से बचिए| ये तो केवल एक उदहारण है| आप खुद ही अनुभव कीजिए!

६. उदहारण बनकर नेतृत्व करें:

सामाजिक जलसों को या हमेशा बाहर जाने को मना करें या उदहारण दे कर नेतृत्व करें| जब आप किसी भी साधारण आया अन्य प्रकार के जन समूह के मेजबान तों तब निश्चित करें की आप उन्हें सर्वोच्च किस्म का गुणकारी पर स्वादिष्ट खाना खिलाएँ| जब आप ऐसा करते हैं तब औरों के लिए उसका अनुसरण करना सरल हो जाता है|

७. घरका खाना > बाहरका खाना:

खुद पर काबू पाने का सबसे बहतरीन तरीका यह है कि आप खुद को कहो कि आप कोई भी चीज खा सकते हैं बशर्ते वह आपकी ही रसोई में बनी हो! बाहर का खाना हमें लुभाता है पर जब वही चीज़ घर पर बनी हो तो वह आपकी कई कैलोरी बचा सकती है और यह बात अधिक स्वस्थ आदत डालने में लम्बे अर्से तक मदद करती है|

८. आहार विशेषज्ञ की मुलाकात लें:

सब कुछ यहीं आ कर रुकता है – विशेष सेवा! जैसे आप अपने चर्मरोग विशेषज्ञ या आपके चिकित्सक को सालाना या तिमाही तौर पर मिलते हैं, वैसे ही एक बार आहार विशेषज्ञ को भी मिलें| इस लगातार बदलते वातावरण में हमारे शरीर भी शीघ्रता से बदलते हैं| एक ही नियम सब को लागु नहीं हो सकता और उसे हर एक व्यक्ति की बदलती जीवन शैली के अनुरूप होना पड़ता है|

Share