Are You Free of Financial Fear?

Written by Sneh Desai on March 16, 2017

money123

HOW TO MASTER YOUR EMOTIONS AROUND MONEY

Power lies where control is exercised. More than any other area of our lives, this sentence caters to be most true when our financial fears come to play. We want a hassle-free life not only to brighten our present but to secure our future as well. Fortunately or unfortunately, in today’s day and age, money has a big role to play at that. All of us want premium lives but the action that follows such a thought generally lacks vigor hence the inability to yield expected results. Thus, it is important to know the inception point of such deceptive actions to understand what holds us back from living the lives of our dreams.

Homo sapiens are implicitly not blind but unkind to their own happiness. We always talk big but lack intention. We know what we want but our constant focus on everything that could go wrong prevents us from going all out. When it comes to money we love to place ourselves within our cocoons yet hoping for a flight high enough to touch the sky. It is a paradox in itself. Such a choice is healthy enough to be exercised once, twice or even thrice but not as a permanent practice.

Stage I: Accept that there is a problem & identify its roots.

    • MONEY IS A THING; IT IS NOT EVERYTHING

    mpw

Happiness is a state of mind independent of your external environment. So before you place all the importance on money, know that money is not the source of leading a happy life. There are things above and beyond it. One of the most common experiences that bind us is the knowledge of how the thing we run most after eludes us. That is exactly why we fear not only the absence but also the existence of money in our lives. We fear losing what we already have. Don’t mistake the statement, it does not indicate towards you being greedy, but sheds light on the factual existence of happiness with or without money. Yes, money could possibly streamline an easier path for us to tread on, but it does not guarantee happiness. Period.

    • PASSION IS GREATER THAN INHIBITION

No matter what our life-experiences, we tend to automatically focus on the negatives and draw more from it. It is important to learn from our mistakes but it is not wise to become inhibited. The problem is that our passion to achieve the life of our dreams slowly becomes a slave to our inhibitions – courtesy our past mistakes or experiences. Greater the mental restraint greater the fear, and inevitable the distress from what lurks in the dark. Yes, things are hard, but not unattainable. Inhibition makes one question the unattainable instead of making him work hard towards a compelling future.

    • RISK-RETURN RELATIONSHIP

Shortcuts make long delays! When it comes to financial aspects, we want bigger returns with making minimal investment and taking zero risk. How absurd does that sound? Forget other things, we don’t even give time to ourselves and our lives to achieve what we set out to envision. Not just that we fear keeping the stakes too high. But guess what? No risk no return! Prevention could be better than cure, but return without the willingness to take a risk is impossible.

Stage II: Mitigation

    • FACE THE FEAR

Once you identify your fears, face them. Make it a gradual process instead of keeping a passive-aggressive behavior. Systematically and repeatedly face your fear. Don’t be terrified of the future by constantly being negative. Furthermore, do not be scared to take any form of assistance you need for making wise decisions. There is a big difference between being a prude and being terrified. So instead of succumbing to your negative side, look at the different kinds of financial expertise you could use to help yourself. The world is a big place and it has no shortage of help.

    • ABUNDANCE LIES IN THE EYES OF THE POSITIVELY ASPIRATIONAL

Dreams are positive aspirations and not make-believe situations. Nothing is beyond our reach. Everything that the mind can conceive, hard-work can achieve. Yet we feel compartmentalized about attaining our goals in life. You can change how you feel by changing your thoughts. It is as simple and as basic as that. Abundance lies in consciously trying to train your mind to look for positivity. Start by looking at things you already have and are grateful for. The more negative your attitude towards financial aspects, the more you shall have a lacking of it. Let this attitude not derive from a sense of greed but from a sense of passion.

Stage III: Become Rich

    • PROPER ASSET ALLOCATION

Investing is key. Investing makes money for you and compounds over time. It is a major boon for providing long-term returns and save money for retirement by yielding regular incomes. Proper asset allocation and diversification of your investment portfolio could help in minimizing overall risk. Carrying a dynamic approach to your investment-needs over time can prove to be immensely helpful.  Strategic management in accordance to your changing financial circumstances is the right way to move ahead.

    • BUDGET YOUR MONEY

Be practical in your purchases. Avoid purchasing stuff whose value could depreciate in the future. For example, if you purchase a car it is most likely that its resale value shall be lower than its purchase cost. Similarly, be practical in your expenses even if they are minor expenses. Don’t spend money on financial black holes without finding out their true “worth” and need in your life especially if they cater to your vices such as cigarettes, lottery tickets etc. Regardless to say, the above is subjected to your present financial scenario at play.

    • BE MORE VALUABLE

Be more valuable to the marketplace if you need to increase your net worth. Invest in yourself. Find your place in the world by playing to your strengths and keep your commitment towards improving yourself at all costs. Personal growth and development plays a huge part in making sure that you are valuable since your value is not just measured through your “kind heart” but also by your capacity to be a solution to your organization or industry. Add additional skills, expand your x-factor, be aware, give time to your hobbies and get downright passionate.

    • UTILIZE YOUR TIME WELL

When others are hitting the snooze button on their alarms the rich are already up and about. They know how to utilize their time. Not just that, they have a routine to follow. So start imbibing this habit now if you want to change your current situation. Get up early and have a routine, and don’t utilize that time only to waste it. Don’t vile away those extra hours. Getting up early ensures you have more time to get chores done, work smarter and still get those hundred pushups.

    • REVIEW YOUR GOALS

Define your goals and constantly review them to reinvent what you need to derive from your life. It is important to know where you are and where you need to be. Track your progress, measure your actual performance and compare it to your predetermined standards, make changes if need be and develop creative strategies. This helps you to be dynamic in this ever-changing world.

    • BE GENEROUS

Yes, what you create and earn is purely out of your hard work and hence you implicitly know the importance of sharing it with those who are less fortunate. What you give to the universe is what you get back in the purest sense possible; especially when it comes down to money. So be generous not out of compulsion but out of the purity that resides in your heart. This way you learn to also appreciate what you have and know the importance of helping the society at large with whatever little you can.

In conclusion, it is important to understand that it is about accumulating wealth & staying rich and not about momentary gains. Evidently, this is a continuous process and not a very spur-of-the-moment kind of change. Furthermore, it is very important to reinvent your happiness by being grateful for all that you have and will keep getting. 75% of the world is living on two dollars a day. Your worst nightmare is their greatest possible dream, cultivate gratitude and you shall never feel poor.

क्या आप आर्थिक भय से मुक्त हैं?

पैसों के लिए अपनी भावनाओं पर काबू कैसे पायेंगे?

सत्ता वहीँ होती है जहाँ संयम का प्रयोग होता है: जीवन के किसी भी क्षेत्र से ज्यादा यह वाक्य हमारे आर्थिक भय को लेकर सच साबित होता है| हम सब एक समस्या-मुक्त जीवन चाहते हैं जिससे ना केवल हमारा वर्तमान उज्जवल होगा परन्तु हमारा भविष्य भी सुरक्षित होगा| सौभाग्यवश या दुर्भाग्यवश, आज के युग में, इस कार्य में पैसों की बड़ी तगड़ी भूमिका है| हम सब को उत्तम ज़िंदगियाँ चाहिए हैं, लेकिन इस विचार को सिध्द करने के लिए जो कार्य किये जाते हैं वे अक्सर कमज़ोर होते हैं, जिसके कारण इच्छित परिणाम नहीं प्राप्त होते| अतः, इन कमज़ोर व धोका देने वाले कार्यों की शुरुवात को पहचानना ज़रूरी है, ताकि अपने सपनो का जीवन जीने से हमें कौनसी बात रोक रही है यह हम समझ सकें|

मानव जाति अपने सुख की ओर अंधे नहीं पर निष्ठुर होते हैं| हम हमेशा बड़ी-बड़ी बातें करते हैं लेकिन आकांक्षा का आभाव होता है| हमें क्या चाहिए यह हमें मालूम है लेकिन क्या गलत हो सकता है इसी पर हेमशा ध्यान देने के कारण हम पूरी तरह से जोर नहीं लगा सकते| जब भी पैसों की बात आती है तो हम खुद को एक सुरक्षा कवच में बंद कर लेते हैं, पर ऊँचा उड़कर आसमान को छूने की कामना भी रखते हैं| यह अपने आप में ही एक विरोधाभास है| यह विकल्प एक, दो, या ज्यादा से ज्यादा तीन बार सही हो सकता है, लेकिन हमेशा की आदत की तरह ठीक नहीं है|

पहला चरण: स्वीकार करो की कोई समस्या है & उसके मूल को पहचानो

    • पैसा एक चीज़ है; यह सब कुछ नहीं है

    mpw

ख़ुशी अपने मन की एक अवस्था है जो आपके बाह्य वातावरण से मुक्त है| अतः पैसों को सारा महत्व देने से पहले, यह जान लो की केवल पैसा ही सुखी जीवन जीने का स्रोत नहीं है| इससे ऊपर व इसके परे भी कई बाते होती हैं| हमें बाँध के रखने वाले अनुभवों में से एक सबसे सामान्य अनुभव यह भी है की हम जिसके पीछे भागते हैं वही हमारे हाथ नहीं लगता| ठीक इसी कारण से हम ना केवल अपने जीवन में पैसों की कमी से डरते हैं परन्तु उसके होने से भी उतना ही डरते हैं| जो हमारे पास है उसे खोने का डर हमेशा लगा रहता है| इस वाक्य को गलत अर्थ में मत लेना, यह आपका लोभी होने का संकेत नहीं देता, परन्तु पैसों की मौजूदगी या गैरमौजूदगी में सुख के यथार्थ अस्तित्व पर रौशनी डालता है| हाँ, यह ज़रूर है कि पैसा हमारे मार्ग को अधिक सीधा व सरल बना देता है, लेकिन यह सुख की गारंटी नहीं देता| बस, पूर्णविराम|

    • जुनून अवरोधों से बेहतर होता है

हमारे जीवन के अनुभव चाहे जो भी हों, हमारा ध्यान नकारात्मकता पर ज्यादा जाता है और हम उसी से अधिकतर सीख लेते हैं| हाँ, अपनी गलतियों से सीखना ज़रूरी है, परन्तु उनसे अवरूध्द हो जाने में होशियारी नहीं है| समस्या यह है की अपने ख्वाबों का जीवन जीने का जुनून – हमारे बीते हुए अनुभवों या पिछली गलतियों के कारण – धीरे-धीरे हमारे अवरोधों का गुलाम हो जाता है | जितना अधिक दिमागी अवरोध उतना ही ज्यादा डर, और अँधेरे में क्या है यह सोच-सोच कर ही दुखी होना उतना ही अनिवार्य हो जाता है| हाँ, कई बातें मुश्किल होती हैं, लेकिन उन्हें पाना नामुमकिन नहीं है| अवरोधों के कारण हम अप्राप्य वस्तु के बारे में प्रश्न पूछने लगते हैं और सुनहरे भविष्य की ओर मेहनत करके कदम बढाने से खुद को रोक लेते हैं|

    • नाता, जोखिम-फायदे का

छोटे मार्ग अधिक विलम्ब कराते हैं! जब पैसों की बात आती है, हम कम-से-कम पैसों का निवेश करके तथा कोई भी जोखिम लिए बिना, ज्यादा-से-ज्यादा फायदे की आशा रखते है| यह कितना असंगत लगता है? दूसरी बातें भूल जाओ, जो सपना देखा था उसे हासिल करने के लिए हम खुद को और अपने जीवन को भी पूरा समय नहीं देते| केवल यही नहीं, हम बड़ा दाँव लगाने से डरते हैं| लेकिन क्या आप जानते हो? जोखिम नहीं तो फायदा नहीं! निवारण ईलाज से बेहतर हो सकता है, लेकिन जोखिम लेने की तैयारी के बगैर फायदा मिलना नामुमकिन है|

चरण II: शान्ती

    • डर का सामना करो

अपने डरों को पहचानते ही उनका सामना करो| इसे एक क्रमशः होने वाली प्रक्रिया बनाओ नाकि धैर्ययुक्त-आक्रामक व्यवहार| अपने डर का सामना क्रमानुसार तथा बारम्बार करो| भविष्य से डर के हमेशा नकारात्मक रवैया मत अपनाओ| और फिर, जब ज़रुरत हो तब सही निर्णय लेने में जो मदद चाहिए उसे लेने में बिलकुल झिझक मत दिखाओ| सावधान होने में और भयभीत होने में काफी फर्क होता है| अतः, अपनी नकारात्मकता से हार मानने के बजाय, जो आपको अच्छी सहायता कर सकें ऐसी विविध वित्तीय निपुणता की ओर हाथ बढाओ| दुनिया बहुत बड़ी जगह है, और उसमें मदद करने वालों की कमी बिल्कुल नहीं है|

    • बहुतायत निश्चित रूप से आकांक्षापूर्ण व्यक्ति की आँखों में स्थित है

सपने सकारात्मक आकांक्षाएँ हैं नाकि मनघडंत अवस्थाएँ| कुछ भी हमारे पहुँच के बाहर नहीं है| मन जो भी सोचता है, मेहनत उसे पा सकती है| फिर भी, जब भी लक्ष्यों को पाने की बात आती है तो हम खुद को एक दायरे में बंद पाते हैं| अपने विचारों में परिवर्तन लाकर आप जो महसूस करते हो उसे बदल सकते हो| यह बहुत ही सरल व साधारण है| पूरे होशहवास से अपने मन को हर हाल में हकारात्मकता खोजते रहने को सिखाने में ही बहुतायत छुपी हुई है| इसकी शुरुवात ऐसी चीज़ों की ओर देखकर करो जो आपके पास पहले से ही हैं और जिनके लिए आप आभारी हैं| वित्तीय बाबतों की ओर आपका रवैया जितना ज्यादा नकारात्मक होगा, आपके पास पैसों की उतनी ही ज्यादा कमी होगी| इस रवैये के मूल में लोभ या लालच नहीं लेकिन जुनून का एहसास होना चाहिए|

चरण III: अमीर बनो

    • संपत्ति का उचित बंटवारा

निवेश करना इसकी चाबी है| आपका निवेश आपके लिए पैसे बनाता है, जो समय के साथ यौजिक होता जाता है| नियमित आमदनी उत्पन्न करके, दीर्घकालीन फायदे प्राप्त करने के लिए व निवृत्ति के लिए पैसे बचाने के लिए यह एक बहुत बड़ा वरदान है| संपत्ति का उचित बँटवारा और आपके निवेश का विविधिकरण समस्त जोखिम को न्यूनतम बनाने में सहायक हो सकता है| समय के साथ अपने निवेश की ज़रूरतों के लिए आक्रामक रवैया अपनाना बहुत सहायक साबित हो सकता है| अपनी बदलती आर्थिक परिस्थिति के अनुसार युक्तिपूर्वक प्रबंध करना आगे बढ़ने का सही तरीका है|

    • अपने पैसों का बजट बनाओ (का विनियोजन करो)

अपनी खरीददारी वास्तविकता से करो| जिन चीज़ों की कीमत समय के साथ घटती है ऐसी वस्तुएँ खरीदना टालो| उदाहरणतः, यदि आप गाडी खरीदते हैं तो उसकी पुनर्विक्रय कीमत उसकी खरीद कीमत से यकीनन कम ही होगी| उसी तरह, अपना हर खर्च, चाहे वह कितना भी छोटा क्यों ना हो वास्तविकता से करें| उनका सच्चा मूल्य तथा आपके जीवन में उनकी ज़रुरत जाने बगैर आर्थिक ‘ब्लैक होल्स’ में अपना पैसा कभी ना लगायें, खास करके तब, जब वे आपके व्यसनों (सिगरेट, लाटरी, आदि) को हवा देते हैं| कहने की ज़रुरत नहीं कि उपरोक्त बातें आपकी वर्तमान आर्थिक स्थिति पर निर्भर हैं|

    • अधिक मूल्यवान बनो

यदि आपको अपना असल मूल्य बढ़ाना है तो अधिक मूल्यवान बनो| खुद में निवेश करो| अपनी ताकतों का सही इस्तेमाल करके दुनिया में अपना स्थान ढूंढो और खुद को बेहतर बनाने की अपने आप से की गयी वचनबध्दता को हर कीमत पर निभाओ| व्यक्तिगत विकास और तरक्की आपको मूल्यवान बनाने में बहुत ज्यादा काम करते हैं क्योंकि आपका मूल्य केवल आपके ‘दयालु ह्रदय’ के कारण नहीं है, परन्तु आपका अपने संस्था के लिए उत्तर या समाधान बनने पर निर्भर होता है| अपनी कुशलताएँ बढाओ, अपना ‘x-factor’ बढ़ाएं, सावधान बनें, अपने शौक को समय दें, और एकदम जुनूनी बनो|

    • अपने समय का सदुपयोग करो

जब अन्य लोग अपनी घडी का अलार्म बंद कर रहे होते हैं, अमीर लोग कब के उठ गए होते हैं| अपने समय का उपयोग कैसे करना है यह वे जानते हैं| सिर्फ इतना ही नहीं, उनके पास एक नित्य-कार्यक्रम है जिसका वे सख्ती से पालन करते हैं| अर्थात, यदि आप अपनी परिस्थिति बदलना चाहते हो तो यह आदत आज से ही डाल लो| सवेरे जल्दी उठो और एक नित्यक्रम का पालन करो, और उस समय को केवल व्यर्थ गंवाने में ही उपयुक्त मत करो| उन खाली घंटों को यूँहीं मत बिता दो| जल्दी उठने से यह तय हो जाता है की आपके पास हर काम के लिए थोडा ज्यादा वक्त है, होशियारी से काम करें और फिर भी सौ दण्ड मारें|

    • अपने लक्ष्यों का पुनरावलोकन करें

अपने लक्ष्यों को निर्धारित करें और समय-समय पर उनका पुनरावलोकन करें ताकि आपनी जिंदगी से आप क्या चाहते हो यह स्पष्ट हो| आप कहाँ हैं और आपको कहाँ होना चाहिए यह जानना बहुत ज़रूरी है| अपने विकास पर नज़र रखो, अपने सच्चे कार्य को नापो और उसकी तुलना अपने पहले से निश्चित मापदंडों से करके, जहाँ ज़रूरी है वहाँ परिवर्तन करो और सकारात्मक नीतियाँ बनाओ| इससे आपको कायम बदलने वाली दुनिया में गतिशील रहने में मदद मिलेगी|

    • उदार बनो

हाँ, जिसकी आप रचना करते हैं और जो भी आप कमाते हैं वह पूर्णतः आपकी मेहनत का नतीजा है और इसीलिए आपको उसे अपने से कम भाग्यशाली लोगों के साथ बाँटने का महत्त्व बखूबी मालूम है| आप जो भी इस ब्रह्माण्ड को देते हो वही आपको लौटाया जाता है; खास करके जब पैसों की बात आती है तब| अतः उदार बनो, इसलिए नहीं की यह करना ही पड़ेगा लेकिन अपने ह्रदय के अंदर स्थित शुध्दता के लिए| ऐसा करने से आप अपने पास जो है उसको सराहना सीखोगे और समाज को, छोटी ही सही, लेकिन जैसी भी हो, सहायता करने का महत्त्व जान जाओगे|

अंत में, यह समझना चाहिए कि यह सब पैसे जोड़ने व अमीर बनकर, अमीर रहने के बारे में है, नाकि सिर्फ पैसे बटोरने के बारे में| ज़ाहिर है कि यह एक लगातार होने वाली प्रक्रिया है, कोई क्षणिक प्रकार का परिवात्रण नहीं| इसके अलावा, जो भी आपके पास है, और जो आपको मिलता रहेगा उसके लिए आभार मानकर, अपनी ख़ुशी या सुख को पुनः सामने लाना बहुत महत्वपूर्ण है| दुनिया का ७५% आज २ डॉलर में निर्वाह कर रहे हैं| आपका सबसे भयानक सपना उनका सबसे सुनेहरा ख़्वाब है, कृतज्ञता बढाओ और आप कभी भी गरीब मेहसूस नहीं करेंगे|

Share