Learn Easy ways Dealing with Depression

Written by Sneh Desai on May 12, 2017

dep



Depression is a state of despondency and dejection. It drains you out of your energy levels and corners you in the darkness of despair and lack-of-emotions; making it difficult for you to carry out even the normalest of routine activities with the same level of productivity. In the midst of such overcast what nobody points out is how every dark cloud has a silver lining. Translation: Depression is ONLY a state of mind and just a few changes in your behavioral pattern can help you snap out of it quickly. However, we humans are more lethargic than sad to take the first step towards change. That is all that needs to be altered to help one deal with the so-called depression. One positive choice today, a happier future for the rest of your life!

Forget The Leap Of Faith, Just Take The First Step

For someone already going through a series of negative emotions, taking even a metaphorical leap is too far-fetched; a “leap of faith” is more so. Then from where should you begin to fight this battle with your own self? By taking the first step. The first step being a choice, a decision, a reasonable discussion with yourself to quit this defeatist attitude! Recovering from such a stagnant state of mind requires some movement; and nothing is more powerful than a determined decision perceived by your own mind. Learn 3 psychological steps to change your state of mind in Sneh Desai’s ‘Change Your Life’ workshop with a scientifically designed practical technique. At all points in life, you have two choices and it rests entirely upon your own self to make the correct choice despite the state of affairs you’re going through or have already gone through.

Small Gestures, Nothing Grand
Small steps add up quickly to make things grand instead of making grand gestures at the initial stage itself. Make small gestures of appreciation towards yourself, take a short walk instead of exercising full-fledged, celebrate little accomplishments, watch your favorite movie, listen to your kind of music, call a loved one and talk about the most mundane things with vigor, discuss events or even situations instead of about other people, go out and get some fresh air, do something vague and childish; ANYTHING. But start moving. If all of the above also seems like a hard task to master, then slowly start to get back to your normal routine. Even that becomes a good gesture to yourself. If you’ve been chucking work or studies or your family then slowly get back in the habit of recovering at those problem areas. Give yourself small goals and accumulate the little energy you have to focus on one task at a time and you should be fine.

Stay Hungry, Stay Foolish
Ignoring your normal eating habit, is eating you down; not just physically but emotionally as well. We are living because our senses are active. As Indians, our taste buds are most beloved to us. Of course you can indulge yourselves into AT LEAST eating. Build your appetite back to normalcy. Eating helps convert food into energy and God knows you are in dire need of some. Listen to that stomach growling, look at yourself in the mirror deprecating into a skeleton, feel your touch and sense the lack of warmth in your body – EAT! That’s the least you can do. And mind you, eat means eating healthy. Yes, you should indulge in delicacies once in a while, but don’t stress-eat. Eat a healthy balanced diet. And if you’re in double minds about the technicalities of this- visit a nutritionist.

Change Your Map; Not The Geographical One!
Don’t run away. Sometimes we think that changing our immediate environment could help change our circumstances. THAT WILL NOT HELP. Desperation leads to taking wrong decisions at the most crucial points of our lives. Take some inspiration from Sherlock and visit your MIND MAP instead – and change it! Change how you have been wiring your mind for so long. We all need vacations, but being a prisoner of your own thoughts will not be altered irrespective of whether you’re visiting Disneyland! Take cue from yourself instead of chaining yourself more and being grappled by the world.

Reach Out To Reach Within
Stay connected with the people you love. Simple. Don’t avoid meeting or talking to people who have been there for you through the good times and bad. Maybe those people will still understand and give you your space through “depression” but that’s not what relationships are meant to be during such an ill-fate. Get those grudges out of your system by talking to the ones closest to you. Don’t be trapped by your own judgement! Isolation and the need to withdraw is the worst. Make yourself a priority by giving importance to your loved-ones. Call, meet, message, email; in the current day and age, connectivity is the least of your concerns.

Get A Grip And Challenge Negativity
Persevere through hard times. Life is all about the lows so that you can turn them around and appreciate the high-points. Get a grip! In such difficult times don’t let yourself be manipulated into giving-in to bad habits. Don’t drink, don’t smoke, don’t inhabit anything that you’ve not being doing all these years only to bow down to your inner demons in the name of depression. It is the least human thing to do to yourself. Instead channel this negative energy into positivity. Exercise, meditate, eat well, spend more time at your workplace that you’ve been ignoring, spend more time with your family who has been there for you irrespective of your mood-swings; and even if things down shine back challenge negativity! Get a grip, get active, get going and so will the depression. Get many more ideas to make your life easy in the book ‘Life is Simple’ by Sneh Desai.

Help Is Always Welcome
Professional help, especially related to mental health, has been a big taboo and hence a cause of concern. The most wilful of us fail to live by our own expectations. Times are changing and hence you should too. Accept your depression and get help if necessary. It is NOT a bad thing! You’re personally responsible to be more ethical than the society you grew up in; so when the world looks down upon you for taking the right step, be courageous for you have come a long way!

निराशा का सामना करना

निराशा अर्थात उदासी तथा मायूसी की स्तिथि| यह आपके उर्जा स्रोत को धीरे-धीरे खाली कर देती है और आपको हताशा तथा भावहीनता के काले अँधेरे में कैद करती है, जिसके कारण आप अपने सबसे सामान्य कार्य भी पहले जैसी उत्पादकता के साथ करने में असमर्थ हो जाते हैं| ऐसे घने काले बादलों के घेराव में कोई यह नहीं बताता की हर काले बादल को एक चांदी की परत होती है| अनुवाद – निराशा केवल एक मन की स्थिति है और आपके व्यावहारिक ढाँचे में किया गया मामूली परिवर्तन आपको इसमें से जल्दी बाहर निकलने में मददरूप होगा| परन्तु हम मानवी बदलाव की ओर का पहला कदम उठाने के लिए, दुखी होने से ज्यादा, आलसी होते हैं| अतः इस मनघडंत ‘निराशा’ का सामना करने के लिए केवल इसी बात को बदलना होगा| आज एक हकारात्मक विकल्प चुनो और जीवन भर अधिक सुखमय भविष्य पाओ|

भरोसे की छलांग को भूल जाओ, बस वह पहला कदम उठाओ
जो व्यक्ति पहले ही काफी सारे नकारात्मक भावनाओं में से गुज़र रहा हो, उसके लिए किसी भी प्रकार की लाक्षणिक छलांग लगाना बहुत ही अवास्तविक होगा; और भरोसे की छलांग तो उससे भी ज्यादा| तो फिर यह खुद के साथ की लड़ाई कहाँ से शुरू की जाये? वही पहला कदम लेकर| पहला कदम अर्थात, एक विकल्प, एक निश्चय, इस पराजयवादी रवैये को दूर करने के लिए खुद के साथ एक तर्कसंगत वार्तालाप! ऐसे निष्क्रिय मनस्थिति से सँभलने के लिए कुछ गति की ज़रुरत होती है; और आपके मन ने समझ कर लिये हुए निर्णय से ताकतवर कुछ भी नहीं है| स्नेह देसाई के “चेंज योर लाइफ” वर्कशॉप में आप तीन मनोवैज्ञानिक स्टेप्स सिख सकते हे जिससे आप अपनी दिमागी सोच बदल सकते हे. जीवन के हर मोड़ पर आपके पास दो विकल्प होते हैं और यह हमेशा आप पर ही निर्भर होता है की आप सही मार्ग चुने, बावजूद इसके की आप बड़ी कठिन परिस्थिति में से गुज़र रहे हैं या गुज़र चुके हैं|

छोटी चेष्टाएं, कुछ भव्य नहीं
शुरुवात में बड़े संकेत देने के बजाय छोटे कदम जल्दी से जुड कर वस्तु को भव्य बना देते हैं| अतः खुद की तारीफ़ करती छोटी चेष्टाएं करो, सम्पूर्ण कसरत करने के बजाय थोडा सा टहल लो, छोटी-छोटी सिध्धियों को मनाओ, अपनी मनपसन्द फिल्म देखो, अपने पसंदीदा गाने सुनो, प्रिय जन को फोन करो और हर छोटी-बड़ी बात की चर्चा जोश से करो, लोगों के बारे में बात करने के बजाय किसी घटना या परिस्थिति की बातें करो, बाहर निकल कर थोड़ी ताज़ी हवा खाओ, अनजानी या बचकानी हरकत करो, कुछ भी चलेगा| बस उठो और कोई यत्न करो| यदि उपरोक्त हर बात मुश्किल लगती हो तो, धीरे-धीरे अपने साधारण दिनचर्या में लौट आओ| यह भी खुद के प्रति एक अच्छा संकेत होगा| यदि आपने अपना काम, या पढाई, या परिवार को छोड़ दिया है तो धीरे-धीरे उन समस्याओं को सुलझाने का प्रयत्न करो| खुद को छोटे लक्ष्य दो और बची-कुची उर्जा उस एक छोटे कार्य को पूरा करने में लगा दो, और फिर आप ठीक होंगें|

भूखे रहो, मूर्ख रहो
खाने की अपनी प्राकृतिक आदतों को अनदेखा करना आपको कमज़ोर बना रहा है; ना केवल शारीरिक रूप से बल्कि भावात्मक रूप से भी| हम जिंदा हैं क्योंकि हमारी इन्द्रियाँ सक्रीय हैं| भारतीय होने के कारण हमें अपने स्वाद कलिकाओं से बेहद प्यार होता है| अतः खुद को मनपसंद खाना खाने का आनंद तो उठाने दो| अपनी भूख को फिरसे जगाओ और पहले जैसी बनाओ| खाने से, भोजन का उर्जा में परिवर्तन होता है, और भगवान भी जानता है की आपको उर्जा की कितनी आवश्यकता है| उस गुर्राते पेट की ओर ध्यान दो, उसे सुनो, खुद को आईने में अस्थिपंजर बनते देखो, खुद को छुओ और अपने शरीर के ठंडेपन को महसूस करो, और – खाओ| आप कम से कम इतना तो कर ही सकते हो| लेकिन ध्यान रहे, खाना मतलब स्वास्थ्यकर खाना| हाँ, कभी-कभी कुछ मजेदार पकवान भी खा लेना चाहिए, परन्तु तनाव के कारण अधिक कभी मत खाओ| स्वास्थ्यकर व संतुलित भोजन खाइए| यदि आप को इसके बारे में कोई भी दुविधा है तो – आहार विशेषज्ञ की सहायता व सलाह लो|

अपना नक्षा बदल दो; परन्तु भौगोलिक नहीं!
भाग मत जाओ| कभी-कभी हम सोचते हैं की अपना नजदीकी वातावरण बदल देने से अपने हालात भी बदल जायेंगे| परन्तु इससे कुछ भी हासिल नहीं होगा| निराशा आपको जीवन के महत्वपूर्ण समय पर गलत निर्णय की ओर ले जाती है| शर्लाक से कुछ प्रेरणा लीजिए और अपने मन के नक़्शे से मिल आइये – और उसे बदल दीजीये| अपने मन को लम्बे अर्से से जिस तरह तारबध्द कर रहे थे उसे बदल दो| हम सब को कभी न कभी छुट्टी चाहिए होती है, लेकिन यदि आप खुद के विचारों का कैदी हैं, तो आप डिज्नीलैंड जाएँ तो भी आपकी परिस्थिति बदलेगी नहीं| अपने आप को जंजीरों से जकड़ने के तथा दुनिया से सताए जाने के बजाय खुद का इशारा समझो|

अन्दर तक पहुँचने के लिए बाहर हाथ बढाओ
जिन लोगों से आप प्यार करते हो उनसे जुड़े रहो| आसान है| जो लोग आपके अच्छे व बुरे समय में आपके साथ रहे हों उन लोगों से मिलना या बातें करना कभी न टालो| हो सकता है की वे लोग अब भी समझेंगे और आपको अपनी ‘निराशा’ में भी सहूलियत दे लेकिन ऐसी विकट परस्थिति में संबंधों का यह मतलब नहीं होता| अपने निकटतम लोगों से बातचीत करके उन द्वेषों को अपनी प्रणाली से निकाल दीजीये| अपने खुद के निर्णयों के कैदी मत बनिये! एकांत में रहना और खुद को अलग करना सबसे बुरा होता है| आप जिन्हें प्यार करते हैं उन्हें महत्त्व देकर खुद को प्राधान्य दीजीये| फोन करो, मिलो, सन्देश भेजो, इ-मेल करो, आज के युग में जुड़े रहना आपकी सबसे न्यूनतम दर्जे की चिंता होनी चाहिए|

अपने आप को संभालो और नकारात्मकता का सामना करो
मुश्किल समय में डटे रहो| ज़िन्दगी उतारों के बारे में ही है, ताकि आप जब भी पीछे मुड़ें तो सारे चढावों की सराहना कर सकें| अपनी पकड़ मज़बूत करो, खुद को संभालो! ऐसे बुरे समय में खुद को गलत तरीके से उपयुक्त होने देकर बुरी आदतों का शिकार मत होने दो| पीना, या धूम्रपान करना मत शुरू करो, या केवल निराशा नामक अपने अंदरूनी राक्षसों के सामने झुक जाने के लिए कुछ भी ऐसा मत करो जो आपने कभी किया नहीं| इंसानियत के नाते ही सही, खुद के लिए इतना तो कर ही सकते हो| इसके बजाय इसी नकारात्मक उर्जा को हकारात्म्कता में बदल दो| व्यायाम करो, चिंतन करो, अच्छा खाओ, अपने काम की जगह, जिसे आप भूल से गए हो, वहाँ पर ज्यादा समय बिताओ, अपने परिवार के सदस्य, जो आप के लिए हर हाल में मौजूद थे और जिन्होंने आपके हर मिज़ाज को झेला है, उनके साथ समय बिताओ; और यदि फिर भी हालात नहीं चमकने लगते, तो नकारात्मता को ललकारो, उसका सामना करो| खुद को संभालो, अपनी पकड़ मज़बूत करो, कार्यशील बनो, उठो और आगे बढ़ो ताकि निराशा अपनी मुँह की खाए और चलती बने| आपके जीवन को बहेतर बनाने क लिए ऐसे बहोत सारे उपाय इस पुस्तक में दीइ गए हे “ऑल इज Well” स्नेह देसाई

मदद हमेशा आवकार्य होती है
पेशेवर सहायता, खास करके मानसिक आरोग्य सम्बन्धी मदद, हमेशा ही निषिध्द मानी गई है, और इसी कारण से चिंता की पात्र है| हम में से सबसे जिद्दी मनुष्य भी खुद की कसौटी पर खरा नहीं उतरता| समय बदल रहा है, अतः आप को भी बदलना चाहिए| अपनी निराशा को स्वीकारो, और ज़रूरी हो तो मदद अवश्य लो| यह बुरी बात नहीं है! जिस समाज में आप पैदा हुए उससे अधिक नैतिक होने का ज़िम्मा आपका है; तो सही कदम उठाने के लिए यदि दुनिया आपकी ओर तुच्छता से देखे, तो भी निडर बनो, क्योंकि आप काफी दूर निकल आए हो!

Share