Practical guide to build Relationship with Understanding

Written by Sneh Desai on May 26, 2017

Intimate Relationship

Dating in India is quite different as that from the western world; however the trappings of being in a relationship are more or less the same. Knowingly or unknowingly we have our ups and downs with our expectations and it leads to so many complications within our relationships. The disappointments from anticipating fairytale stories, looking for perfection, involving drama etc. obliviates us from the fact that relationships are not romantic movies. We tend to always believe that love is best defined in how it is portrayed in novels, movies and television; however real life deals with a far more naïve concept which we forget to embrace – IMPERFECTION! People we love are amazing not just for their qualities but also for their issues and faults. It is quite a task to let go of the craziness behind our perception of how & what love is in order to find true happiness. For the rookies reading this post you might be highly disappointed to know that you’re NOT the knight in shining armor or the damsel in distress, but just an extraordinarily ordinary human being!
So, given our ‘realistic’ circumstances, how do we create our own happily ever after?

1.Thank God For Small Favors: Learn to cherish the small things, for those are the things which leave big imprints on our hearts. It is only fair, isn’t it? The little gestures of care that we generally overlook arise from the place where love blooms the most! Notice them. However, it is also okay once in a while, to not just be on the receiving end. So habituate yourself to initiate such favors as well. It is the simplest thing to do and the most nurturing. Know more about the power of Gratitude in Sneh Desai’s Krishna Katha.

2.Pure And Simple: This one’s quite an eye-opener. Understand pure love. Sounds simple and minimalistic but is a hard trick to master. It is not about quantity but quality. It is not about how expensive those gifts are but about how earnest the effort behind it was. It is not about what lies between the sheets but about living under the same roof. It is not about who cooks the food but about dining together. It is not about tying down but about setting free. Get it?

3.Breathing Space: Giving space is directly proportionate to receiving more love. Let your partner breathe and be comfortable in his/her own skin. It is only healthy to let them do what they want, alone or with their friends, and trusting them with their decisions. It gives them a sense of reassurance to know that their partner is utmost calm and loving with both their presence and absence. It gives them the confidence to be who they really are without pretense.

4.Power Struggle: It is NOT the presidential election and you’re not Trump or Clinton, so stop the power struggle behind struggling to gain power. Stop the tug of war and learn how to share power amidst yourselves without feeling the need to show who the dominant one is. It is a relationship of the equals, so curb your ego for good.

5.Every Rose Has Its Thorn: Imperfection has a greater longevity than perfect, so embrace the perfectly imperfect. We all have our vices along with our virtues; every rose has its thorn so before you get up and expect your partner to behave in a certain way in order to fulfill your “perfect relationship” fantasy, take a step back and realize that your partner is only human and so are you! It is unfair to the both of you to live up to a tall order. Be objective in your expectations and your ship shall sail smoothly.

6.To Each His Own: Every relationship is unique and different from one another. Comparing two relationships set in completely different milieus is more harmful than impractical. Stop looking at others and expect the same kind of gestures from your partner. Have a sense of mutual trust and respect for your relationship to know better than to start comparing!

7.A Thing Of The Past: Holding onto grudges based on past mistakes or circumstances and letting the same affect your present is literally passé (a thing of the past). Let the passed be where it belongs, in the past! We all have a blast from the past (let’s call it “that”) to whom more importance is given than it deserves, and as a result we make a mountain out of a molehill. Forget the “that” and MOVE ON!

8.Now You’re Talking!: Communicate instead of assuming things; have a mind before you begin to lose your heart. Communication is a two-way street, so listen to what your partner has to say and ask questions where you need to instead of jumping into conclusions. Don’t make a mess due to miscommunication.

9.Make Friends: Befriend your partner. Support and stand by them like a friend. It really helps in getting to know them above and beyond the “relationship things”, and in return it makes them cherish you so much more. Be there through the sunshine and the hailstorms alike. It not only leads to mutual admiration but also more intimacy.

10.A Whole Bunch: A relationship is not formed to fill a void within but to have another person complete you; someone to share your laughter and sorrows with interdependently. Learn to put your guards down and open yourself up gradually. There is nothing more intimate than keeping an open mind with your partner. Learn the psychology of a happy relationship through Sneh Desai’s Change Your Life Workshop.

Romantic expressions can be availed in the simplest of situations irrespective of your struggles. Love is not plastic; innately it still has the same essence and magic no matter what the generation and if you look closely your fairy tale could be living right under your nose. So start changing your perspectives and learn to accept, appreciate and admire; this alliteration will surely do you good.

भारत में ‘डेटिंग’ की प्रथा पश्चिमी ‘डेटिंग’ की प्रथा से काफी अलग है; लेकिन सम्बन्ध में बंधने के तौर-तरीके ज्यादातर एक जैसे ही हैं| जाने-अनजाने हमारी भी कई अपेक्षाएँ होती हैं और उनके साथ अनेक प्रकार की उंच-नीच भी हो जाती है जिसके कारण हमारे संबंधों में कई जटिलताएँ आ जाती हैं| परिकथाओं की अपेक्षा करने के कारण, उत्कृष्टता की खोज के कारण, नाटकीयता, आदि के कारण होती निराशा हमें इस हकीकत से दूर ले जाती है की सम्बन्ध कोई परिकथा या रूमानी फिल्म नहीं होते| हम यह सोचते हैं की प्यार की सच्ची परभाषा के माइने तो वही हैं जो किताबों में, फिल्मों में, और दूरदर्शन पर बताए जाते हैं; परन्तु जिंदगी तो एक अत्यधिक निष्कपट व सरल संकल्पना – अधूरापन, से सम्बन्ध रखती है — लेकिन हम उसे गले लगाना अक्सर भूल ही जाते हैं| जिन लोगों से हम प्यार करते हैं वे केवल उनके गुणों के लिए ही नहीं अपितु उनकी समस्याओं व अवगुणों के लिए भी अद्भुत हैं| सच्चा सुख पाने के लिए, प्यार कैसा और क्या होता है इसकी समझ के पीछे के पागलपन को जाने देना बहुत कठिन होता है| जो भी नौसिखिये यह लेख पढ़ रहे हैं उन्हें यह जानकार निराशा होगी कि वे कोई सूरमा या मुश्किल में फंसी नवयौवना नहीं, बल्कि एक निहायती साधारण व्यक्ति हैं|
अतः हमारे इन ‘यथार्त्वादी’ अवस्थाओं के साथ, हम अपना खुद का ‘हमेशा आमोद में रहे…’ कैसे पायें?

१.छोटे एहसानों का शुक्रिया अदा करें: हर छोटे वस्तु को संजोना सीखो, क्योंकि यही बातें दिल पर बडी छाप छोड़ जाते हैं| यही उचित हैं कि नहीं? वह छोटे-मोटे हावभाव व इशारे जो बताते हैं की हमें फ़िक्र है, और जिन्हें हम ज्यादातर बार अनदेखा कर देते हैं, उनका का उद्भव वहीं से होता है जहाँ प्यार सबसे अधिक फूलता है| इन पर ध्यान दो| और फिर, यह ज़रूरी नहीं की हम हमेशा इन्हें पाने वाले ही बने रहें| अतः खुद भी ऐसे एहसान करने की आदत डाल लो| ऐसा करना सबसे आसान तो है ही, यह सबसे अधिक उपजाऊ भी है|

२.स्पष्ट व सरल: यह काफी हद तक एक सच्चाई के आईने जैसा है| सच्चे प्यार को पहचानो| यह बात बड़ी ही सरल व न्यूनतम कक्षे की लगती है, परन्तु इस पर प्रभुत्व पाना बड़ा ही मुश्किल होता है| यह प्रमाण नहीं, गुणवत्ता के बारे में है| [यह प्रमाण के बारे में नहीं, पर गुणवत्ता के बारे में है|] यह दिए गए तोहफों की कीमत के बारे में नहीं, पर उसके पीछे का प्रयास कितना खरा था उसके बारे में है| यह बिस्तर में के करामातों के बारे में नहीं, परन्तु एक साथ एक छत के नीचे रहने के बारे में है| यह खाना कौन बनाता है के बारे में नहीं, परन्तु साथ बैठकर खाने के बारे में है| यह बाँध के रखने के बारे में नहीं, परन्तु आझाद करने के बारे में है| समझे?

३.साँस लेने की जगह: जगह देना और अधिक प्यार पाना सीधे अनुपात में हैं| अपने साथी को उसके अपने तरीके से साँस लेने दो और आराम से रहने दो| वह जो चाहते हैं वही उन्हें करने देना, उन्हें उनके मित्रों के साथ अकेले रहने देना, तथा उनके निर्णयों पर पूरा विशवास रखना स्वास्थ्यप्रद होता है| इससे उन्हें यह आश्वासन मिलता है की उनका साथी उनकी हाजिरी व गैरहाजिरी, दोनों ही अवस्थाओं में अत्यधिक शांत और स्नेहमय है| अतः, किसी प्रकार के दिखावे के बगैर, जो वह सच-मुच हैं वैसे ही रहने का आत्मविश्वास उन्हें प्राप्त होता है|

४.सत्ता संघर्ष: यह कोई राष्ट्रपति का चुनाव नहीं है और आप ट्रंप के सामने क्लिंटन नहीं हो, इसलिए सत्ता पाने के लिए किया जाने वाला संघर्ष बंद कर दो| अतः रस्साकशी बंद कर दीजिये और किसका वर्चस्व है दिखाए बिना आपस में सत्ता को बाँटना सीखो| यह समकक्ष व्यकित्यों का रिश्ता है, अतः अपने अहंकार को हमेशा के लिए अलविदा कह दीजिये|

५.हर गुलाब में एक कांटा तो होता ही है: अधूरेपन की जीवनरेखा उत्कृष्टता की जीवनरेखा से कई ज्यादा लम्बी होती है, अतः अधूरेपन को पूरी तरह से गले लगाओ| हम सब में ढेर सारे गुणों के साथ-साथ अपनी-अपनी त्रुटियाँ भी हैं; हर गुलाब में एक काँटा तो होता ही है, अतः जब आप अपने साथी से किसी विशेष प्रकार के व्यवहार की अपेक्षा रखते हैं जिससे आपके ‘उत्कृष्ट सम्बन्ध’ बने रहें, तो एक पल के लिए थम जाइए और सोचिए की वह भी आप की तरह एक इंसान ही है| हर बड़ी अपेक्षा पर खरा उतरना आप दोनों के लिए ही अन्याय होगा| अपनी अपेक्षाओं में वास्तविक रहो ताकि आपकी नैया बेरोकटोक और आसानी से पार हो सके|

६.पसंद अपनी अपनी: हर सम्बन्ध अनन्य और दूसरों से अलग होता है| दो सम्बन्धों की, जो बिल्कुल अलग समयकाल में बसे हैं, तुलना करना अवास्तविक होने से ज्यादा हानिकारक होगा| दूसरों की ओर देखकर अपने साथी से उसी तरह के व्यवहार की अपेक्षा करना छोड़ दो| तुलना करने के बजाय, बेहतर जानने के लिए परस्पर विश्वास की भावना रखो और अपने सम्बन्ध की इज्जत करो!

७.अतीत की एक बात: पिछली गलतियों या अवस्थाओं पर आधारित दुर्भावों को पकड़ के रखना और उन्हें अपने वर्तमान पर बुरा असर डालने देना सही माइनों में अतीत की बात हो गई है| बीती हुई बातों को वहीं रहने दो जहाँ उन्हें होना चाहिए – अतीत में| हम सब अपने अतीत की किसी बात को (चलिए इसे ‘वह’ नाम दें) इतना ज्यादा महत्त्व देते हैं की वह विस्फोटक रूप धारण कर लेती है| अर्थात हम छोटीसी बात का बड़ा सा बतंगड़ बना देते हैं| तो अपने उस ‘वह’ वाले अतीत को भूलकर आगे बढ़ो|

८.अब आप बात कर रहे हो: कल्पित करने के बजाय एक दुसरे के साथ बातें कीजिये; अपना दिल खो देने से पहले मन बना लीजिये| वार्तालाप एक दोतरफा रास्ता है, अतः आपका साथी क्या कह रहा है उसे ध्यान से सुनो और गलत निष्कर्ष निकालने के बजाय, जहाँ कोई भी प्रश्न पूछने योग्य हो, उसे पूछ लिजिय| दुर्व्यवहार के कारण बात को बिगाड़ मत दीजिये|

९.दोस्त बनाइये: अपने साथी को अपना मित्र बनाइये| एक सच्चे मित्र की तरह उसे सहारा दीजिये और उसके साथ अडिग होकर खड़े रहिये| उन्हें ‘संबंधों’ के परे जाकर पहचानने से बहुत सहायता मिलती है, और बदले में वे आपको अधिक संजोएँगे| सुनहरी धुप हो या घनेरे बादलों ने घेरा हो, आप उनके साथ हर हाल में रहें| इससे ना केवल आपसी स्नेह बढेगा अपितु आत्मीयता भी घनिष्ट हो जाएगी|

१०.एक सम्पूर्ण गुच्छा: अंदर के खालीपन को भरने के लिए कोई सम्बन्ध नहीं बनता; लेकिन किसी दुसरे के ज़रिये खुद के अधूरेपन को पूरा करने के लिए, अपनी हंसी और अपने आंसू किसी के साथ बांटने के लिए सम्बन्ध बनते हैं| सारे दरवाजे खोल कर, हौले-हौले खुद को एक खुली किताब की तरह अपने साथी के सामने रख दो| अपने साथी के सामने खुला मन रखने जैसा आत्मीय दूसरा कुछ नहीं है|

आपकी चुनौतियाँ चाहे जो भी हों, प्यार का इज़हार सबसे साधारण बातों में भी पाया (या किया) जा सकता है| प्यार कोई प्लास्टिक नहीं है; और आप चाहे किसी भी पीढी के क्यों ना हों, उसका अंदरूनी मर्म तो आज भी वही है जो सदियों पहले था| और यदि आप नज़दीक से देखें तो आपकी परिकथा आपके नाक के नीचे ही हो सकती है| अतः अपना दृष्टिकोण बदलने की शुरुवात करें और स्वीकारना, सराहना, व समादर करना सीखें; यह अनुप्रास आपके लिए ज़रूर फायदेमंद साबित होगा|

Share