YOGA FOR BEGINNERS

Written by Sneh Desai on May 19, 2017

Yoga for Beginners

For some people, especially the new generation, Yoga seems very passé. Gym somehow seems a more appropriate form of regimen to adapt into our lives, solely because for an on-looker it seems like a lot more movement is happening on a treadmill than on a Yoga-mat. While any form of exercise is great if it works for you, Yoga helps you to inhabit a lot more than just a health-regime. It can help you in various spheres of life. It helps you increase your stamina, productivity, concentration plus it can help you to relax and rejuvenate after a long day’s work. It can consistently keep you calm and more focused. For all those who have weighed their pros and cons and want to opt for Yoga as a beginner, here are a few tips that could come in handy: –

1. It is about being yourself: Many thinks that they already need to have a certain level of flexibility to be able to do limb-twisting poses that yoga has to offer. That’s the cause of concern for many people. But guess what? This is a myth. In fact, the reverse of what you’re set out to achieve. Yoga enables you to gain that level of flexibility to do difficult poses with ease. Don’t get caught up in the how of it just yet. Yoga is so much more! It is about being in unison with your inner self using your breath primarily. So even if you’re far from perfection (like everyone else), Yoga welcomes you. There’s no reason to be conscious.

2. Prerequisites: There are certain things you should take care of before you begin. Firstly, your attire must be comfortable and far from body-hugging. Tight clothes distract you from being able to focus and make you conscious. Secondly, get yourself a proper Yoga mat. It is extremely important to have a grip and proper landing while performing asanas. You don’t want to slip and hurt yourself. It is of grave importance that these two things are complied with.

3. Guidance: Since you’re fairly new to this approach, it is important to learn from a qualified yoga teacher who can guide you to a correct technique. However, with the advent of everything digital, there are loads of self-help videos available on YouTube and other platforms for you to do it yourself; however, since one wrong posture can lead you to a lifelong injury the former method of learning is preferable over the latter. Moreover, if you have a specific medical condition avoid self-learning completely and head to an expert who can customize techniques to help you overcome your difficulties with ease. Learn a very effective 15-minute process of ‘Dynamic Yoga’ by Sneh Desai. Spend these 15 minutes each day to improve the quality of your health and life.

4. Consistency Is Key: Consistency is extremely important for a beginner; actually, a lot more than an intermediate too. It is this early stage which determines your commitment to Yoga in the long-run. Make sure you practice on a daily basis. The vigor of doing the techniques can vary, but it is important to just keep going no matter what.

5. Get Your Timing Right: It is most preferable to do Yoga early morning albeit given our busy schedules you should determine your time-slot based on your comfort and convenience. One of the most important things to keep in mind, however, is to be relatively on an empty stomach before practicing. A gap of four hours from a meal should be appropriate.

6. Peripheral Activities: To get the most out of this, make sure that you stay light throughout the day. So eat a well-balanced diet – include salads and sprouts in your meals – and drink at least three-four liters of water during the day to flush out the toxins from your body. Also, make sure before you start your session you are warmed up. Practice some cardio exercises or brisk walking to help you get the blood flowing in order to get maximum results.

7. Variety Is The Spice of Life: Yoga comprises of a lot of techniques like Pranayam (breathing exercises), meditation etc. In case you feel some monotony doing the same poses, try the aforesaid different methods for a wholesome experience. Sometimes a day spent meditating is a lot more powerful and soul-satisfying than anything else. Go with the flow!

8. The Good Pain: The initial Yoga days can be laden with soreness in muscles, but to your surprise it is a good pain! It is reflective of a change in your movement after years/months/days of inactivity. It is okay and natural. Although if there is anything which seems abnormal or if there are any sudden spasms please make sure you consult an expert before moving further.

9. Push Yourself To be Patient: Challenge yourself- it is the only way to be fitter, more focused and constantly motivated. However, don’t lose your mind before you lose your weight. Be practical in your approach. Like in every new experience, you cannot expect to reach the peak of the mountain without having to face certain difficulties. Be gentle with your body and give it time to adapt and organically become more flexible in due course of time. For the same, don’t compare yourself to others. To each his own! Everyone is unique and every body-type is different. If you take more time than others remember to not over-exert yourself or totally give-up. Yoga’s greatest teaching is to de-stress; so, don’t chew more than you can eat!

10. Embrace It: Yoga is a change in your lifestyle; so embrace it. Learn the ancient philosophy supporting such a rich culture. Your curiosity and eagerness to learn can help you progress a lot more than expectations and heal not only your body but your mind as well. It is a spiritual experience only a few are lucky to witness so enjoy every moment of it. The more you practice the more you can get in touch with your inner-self, which in turn shall help you become more gracious and compassionate to all beings!

नौसिखियों के लिए योग

कई लोगों के लिए, खास करके नवीन पीढ़ी के लिए, योग बिलकुल पुराना व अप्रचलित हो गया है| अपने आज के जीवन में आत्मसात करने के लिए व्यायामशाला में जाना व उसी को अपने जीवन शैली का एक अंग बनाना अधिक सही लगाती है, सिर्फ इसलिए क्योंकि देखने वाले को लगता है की योग-चटाई की तुलना में ‘ट्रेडमिल’ पर अधिक हरकत होती है| हालाँकि किसी भी प्रकार की कसरत अच्छी ही होती है यदि वह आपके लिए फायदेमंद हो तो, लेकिन योग आपको केवल एक स्वास्थ्य-व्यवस्था से कहीं बढ़कर आत्मसात करने में सहायता करता है| यह आपको जिंदगी के कई पहेलुओं में मदद कर सकता है| यह आपको अपना आतंरिक बल, आपकी उत्पादकता, आपका ध्यान बढाने में, तथा पूरा दिन काम करने के बाद भी आपको विश्राम करने और फिरसे जवान महसूस करने में मददरूप होगा| यह आपको हमेशा शांत और अधिक केन्द्रित रखेगा| जिन लोगों ने भले-बुरे का विचार किया हो और जिन्हें नौसिखियों का योग अपनाना हो, उनके लिए यह कुछ सुझाव हैं जो उपयोगी साबित हो सकते हैं:-

१. यह खुद आप बनने के बारे में है: कई लोग सोचते हैं की यदि उन्हें योग की घुमावदार मुद्राएँ करनी हो तो, उनके शरीर को कुछ हद तक तो लचीला होना ही चाहिए| यह काफी लोगों के लिए चिंता की बात होती है| लेकिन सच बताएँ? यह बिलकुल झूठी बात है| असल में जो आप हासिल करने वाले हो यह उससे एकदम विपरीत है| योग आपको उस हद का लचीलापन हासिल करने में मदद करेगा जिससे आप हर मुश्किल मुद्रा भी आसानी से कर सकेंगे| अभी ‘यह कैसे मुमकिन है’ के चक्कर में मत फँसिये| योग इससे कहीं अधिक है| यह मुख्यतः अपने श्वास की मदद से अपने आंतरिक मन के साथ जुड़े रहने के बार में है| अतः यदि आप उत्कृष्टता से कोसों दूर हैं (बिलकुल अन्य लोगों जैसे), तो भी योग आपका स्वागत करता है| किसी भी प्रकार की शर्म महसूस करने की कोई आवश्यकता नहीं है|

२. पूर्व प्रयोजनीय वस्तुएँ: शुरू करने से पहले कुछ बातों का ध्यान रखने की ज़रुरत है| सबसे पहले, आपके कपडे आरामदेय होने चाहिए और कहीं से भी तंग नहीं होने चाहिए| तंग कपडे आपका ध्यान भंग करते हैं और आपको सचेत बना देते हैं| दूसरी बात, एक अच्छी योग-चटाई ले आइये| यह अत्यंत ज़रूरी है की आसन करते समय आप के पास अच्छी पकड़ तथा उचित अवतरण हो| आप फिसल के गिरना नहीं चाहते| अतः यह बहुत ही ज़रूरी है की इन दो बातों पर पूरा ध्यान दिया जाये|

३. मार्गदर्शन: चूंकि आप इस पध्दति के लिए काफी नए हो, यह ज़रूरी है की आप किसी निपुण योग प्रशिक्षक से सीखें, जो आपको सही तकनीक की ओर ले जा सके| फिर भी, आज कल के ‘डिजिटल’ दौर में, ‘यु-ट्यूब’ या अन्य किसी भी मंच पर काफी सारे स्वयं-सहायक वीडियो मिल जाते हैं, जिनकी मदद से आप योगभ्यास की शिक्षा भी खुद ही ले सकते हैं; लेकिन एक गलत मुद्रा के कारण भी जीवन भर की हानि हो सकती है; अतः प्रत्यक्ष गुरु से सीखना अधिक लाभदायक होता है| और फिर यदि आपको कोई विशेष बीमारी हो तो स्वयं सीखना हर हाल में टालें और किसी भी विशेषज्ञ के पास जाओ जो आपकी ज़रुरत अनुसार हर तकनीक को बदल सकता है जिससे की आप अपनी हर मुश्किल का आसानी से सामना कर सकते हैं|
स्नेह देसाई की ‘Dynamic Yoga’ सीखे, जो एक बेहद उपयोगी १५ मिनटकी प्रोसेस ह| प्रतिदिन ये १५ मिनट की प्रोसेस करे और आपके स्वास्थ्य एवं जीवन में सुधर लाए|

४. नियमितता ही चाबी है: नौसिखिये के लिए नियमितता अत्यधिक महत्वपूर्ण है; माध्यमिक अभ्यासी से भी बढ़कर| यही शुरुवात का दौर आपकी लम्बे अर्से की योग की प्रतिबध्दता निश्चित करता है| आप हर रोज़ यागाभ्यास करें इसका ख़ास ध्यान रखो| तकनीक करने का जोश कम-ज्यादा हो सकता है, लेकिन, चाहे कुछ भी हो, हर रोज़ योग करना अति महत्व का होता है|

५. समय सही होना चाहिए: योगाभ्यास के लिए सवेरे का समय सबसे बेहतरीन होता है, परन्तु हम सब के अति-व्यस्त समय-सारणी के कारण यह ज़रूरी है की आप अपनी सहूलियत व सुविधा के अनुसार कोई एक समय निश्चित कर लें| परन्तु एक सबसे महत्वपूरण बात जो ध्यान में रखनी चाहिए वह है की जब भी योग करें तब पेट करीबन खाली हो| योग और खाने के समय में कम से कम चार घंटों का फासला होना ही चाहिए|

६. परिधीय क्रियाएँ: इस कार्य में से सर्वाधिक लाभ प्राप्त करने के लिए यह ज़रूरी है की आप दिन भर हल्का महसूस करें| अतः संतुलित आहार ही लें – जिसमें कच्ची सब्जियों का सलाद और अंकुरित धान अवश्य हो – तथा कम से कम तीन-चार लीटर पानी भी अवश्य पीयें जिससे आपके शरीर में से हानिकारक तत्त्व बाहर निकल जाएँ| दूसरी बात, अपना योगाभ्यास शुरू करने से पहले शरीर को थोडा गरम / ढीला कर लो| कुछ ह्रदय सम्बन्धी कसरत कर लो या एक फुर्तीला चक्कर लगा लो जिससे रकत का परिभ्रमण तेज़ हो और आपको महत्तम फायदा हो|

७. वैविध्य ही जीवन का उत्साह है: योग में प्राणायाम (श्वासोच्छ्वास की कसरत), ध्यान, आदि जैसी अनेक तकनीकियाँ शामिल हैं| यदि आपको एक ही प्रकार की मुद्राएँ करने के कारण कुछ नीरसता महसूस हो, तो एक परिपूर्ण अनुभव के लिए यहाँ बताई गई अन्य तकनीकों को भी आजमा कर देखें| कभी-कभी केवल ध्यान-चिंतन में बिताया हुआ दिन अधिक शक्तिदेय व आत्मसंतोषी साबित होता है| अतः बहाव के साथ चलें|

८. अच्छा कष्ट: योग के शुरुवाती दिन स्नायु-पीड़ा से लदे हुए हो सकते हैं, लकिन आपको यह जानकार आश्चर्य होगा की यह अच्छी पीड़ा है! यह सालों/महीनों/दिनों की निष्क्रियता के बाद, हलन-चलन से आए हुए बदलाव की सूचक है| यह सही भी है और प्राकृतिक भी| फिर भी यदि कुछ भी अप्राकृतिक लगे या यदि अचानक ही कोई ऐंठन महसूस हो तो किसी विशेषज्ञ की राय लेने के बाद ही आगे बढिए|

९. खुद को धीरज रखना सीखाओ: खुद को चुनौती दो – चुस्त रहने का, ध्यान अधिक केन्द्रित रखने का, व हमेशा उत्प्रेरित रहने का यही एकमात्र तरीका है| फिर भी, वज़न कम करने से पहले मन का आपा मत खो देना| अपने प्रस्ताव को वास्तविक रखें| हर नए अनुभव की तरह इसमें भी आप पर्वत की चोटी तक बिना किसी अड़चन के नहीं पहुँच सकते| अपने शरीर के साथ सौम्यता से काम लें और इसे बदलने का, तथा जैविक तरह से लचीला बनने का पूरा समय दें| इन सब बातों के लिए खुद की तुलना किसी भी अन्य व्यक्ति के साथ ना करें| हर व्यक्ति खुद के लिए होता है| हर कोई अलग है, और हर शरीर का प्रकार भी अलग है| यदि आपको दुसरे लोगों से थोडा ज्यादा समय लगता है तो ना तो खुद को अत्यधिक प्रयास कराएँ और ना ही बिलकुल छोड़ ही दें| योग की सबसे बड़ी सीख है तनाव-मुक्ति; तो जितना चबा सको उतना ही मुँह में भरो!

१०. इसे गले से लगा लो: योग आपके जीवन शैली में का बदलाव है; अतः इसे गले लगा लो| हमारी शानदार संस्कृति को प्रमाणित करने वाले इस पुरातन शास्त्र को सीखो| सीखने की आपकी उत्सुकता व जिज्ञासा आपको अपेक्षा से अधिक आगे बढ़ने में मदद करेगी और ना केवल आपके शरीर को बल्कि आपके मन को भी स्वस्थ करेगी| यह एक आध्यात्मिक अनुभव है जो कुछ भाग्यशाली लोग ही महसूस कर सकते हैं; अतः इसके हर पल का मज़ा लीजिये| जितना अधिक अभ्यास उतना ही ज्यादा आप खुद के अंतर्मन तक पहुंच सकेंगे, जो आपको हर जीव की ओर अधिक धार्मिक व दयालु बनाएगा|

Share