How Comparison Can Damage Your Brain

This post is for all those who at some point in their lives have stood second and were made to feel bad. Where does this come from? From comparisons. Why couldn’t you come first? Well, don’t bother to answer. You are first in your own right. Today we are going to talk about how comparisons damage, not just your self-respect, but also your brain! It is killing your brain cells, and you might as well realize it now!

Drawing comparisons is the easiest thing to do. You look at two good things and pin it against each other and get no new conclusions. Your brain should be doing something innovative and creative, but instead, it is stuck in making comparisons! Whether you realize it or not, but such comparisons will only make you unhappy. You will never be good enough! It is a toxic behavior which will constantly nag your mind. Soon, subconsciously, you will begin to feel like you were never good enough! How will your brain ever generate new ideas if you keep feeding it such negativity? And how will you see your life change? What you think is who you are. It is simple; thoughts become things. If you feed your mind negativity, what else will your life manifest but unfavorable circumstances? This is the predominant thing we discuss during my FREE ‘Change Your Life’ seminar.

Here, it is important to mention that being competitive & being comparative are two different things altogether. Competitive people learn from others’ failures or successes. They don’t compare how different their life would be with/without someone else’s success or failure. Comparative people tend to feed their brain with comparisons that lead to delusions. They lose sight of what is essential in life and begin to chase perfectionism. With time, this leads to stress & anxiety and a sincere lack of confidence in your own abilities. Soon, despite full capabilities, you will sink lower in life and never seek new opportunities for yourself.

Imagine your brain to be like a piece of machinery. Machines need to be well-oiled & get regular maintenance for proper functioning. If you keep using machines endlessly & tirelessly, it will give up well before it should. Incessant comparing does the same to your brain. It tires it down and snatches away room for improvement.

Soon comparison becomes obsessive. It leads you to feel jealous of everyone around you. You turn your friends & allies against you. Soon you stop making efforts for betterment. And this can happen over time without slightest of realizations. Now, the question is – Do you want to stall your life’s progress?

In short, comparing yourself with others is like self-destruction. You are purposely putting yourself through emotional damage which is affecting your brain, thoughts & thus your life. Even the ones who are best at what they do sometimes feel like they are inadequate. But they do not stop making progress in life. And it is important to understand that the ones who are best in their respective fields are so because of many other aspects that you may be unaware about.

In case you are so habituated with making comparisons, do it for further improvement. How much did they work every day? What kind of sacrifices did they make for becoming number 1? What kind of obstacles did they face & how did they overcome them? What are their strengths and weaknesses? How are they continuously honing their skills?

There is always a positive side to every negative habit. You just need to know how to make the switch! You can watch my live recorded workshop in ‘Winning Habits’ DVD and learn how to shift your habits. Hope this discussion throws enough light for you to stop making comparisons. Instead, I hope you learn and are motivated to see others succeed in life!

कैसे किसी के साथ तुलना करना आपके मस्तिष्क को नुकसान पहुंचा सकता है

यह पोस्ट उन सभी के लिए है जो अपने जीवन में कभी तो दूसरे स्थान पर रहे हैं और इस कारण उन्हें बुरा महसूस कराया गया था। ऐसा व्यवहार कहां से आता है? तुलना करने से। हमसे पूछा जाता है कि आप प्रथम क्यों नहीं आ सकते थे? खैर, ऐसे प्रश्नों का जवाब देना जरुरी नहीं है। आप अपने आप में तो प्रथम हैं ही। आज हम इस बात पर चर्चा करने जा रहे हैं कि तुलना करने से कैसे न केवल आपके आत्म सम्मान, बल्कि आपके मस्तिष्क को भी नुकसान पहुंचता है! यह आपके मस्तिष्क की कोशिकाओं को मार रहा है और आप इसे अब भी महसूस कर सकते हैं!

तुलना करना सबसे आसान काम है। आप दो अच्छी चीजों को देखते हैं और इसे एक दूसरे के खिलाफ रखते हैं और कोई नया निष्कर्ष नहीं निकलता। आपका मस्तिष्क कुछ नया और रचनात्मक करना चाहिए, लेकिन इसके बजाय, यह तुलना करने में फंस गया है! चाहे आप इसे महसूस करें या नहीं, लेकिन ऐसी तुलना केवल आपको दुखी ही करेगी। आप कभी भी खुश नहीं होंगे! यह ऐसा बुरा व्यवहार है जो लगातार आपके दिमाग को सतायेगा। जल्द ही, मन में, आप महसूस करना शुरू कर देंगे कि आप कभी भी अच्छे नहीं थे! यदि आप इस तरह की नकारात्मकता जारी रखते हैं तो आपका मस्तिष्क कभी भी नए विचार कैसे उत्पन्न करेगा? और आप अपने जीवन में परिवर्तन कैसे देखेंगे? जो आप सोचते हैं वैसे ही बनते है। यह समझना आसान है; विचारों से ही चीज़ें बन जाती हैं। यदि आप अपने दिमाग में नकारात्मक विचार रखते हैं, तो आपके जीवन में प्रतिकूल परिस्थितियों के आलावा और क्या प्रकट होगा? यह महत्वपूर्ण विषय है जिसे हम अपने मुफ़्त ‘चेंज योर लाइफ’ संगोष्ठी के दौरान चर्चा करते हैं।

यहां, यह उल्लेख करना महत्वपूर्ण है कि प्रतिस्पर्धी होना और तुलनात्मक होना यह पूरी तरह से दो अलग-अलग चीजें हैं। प्रतिस्पर्धी लोग दूसरों की असफलताओं या सफलताओं से सीखते हैं। वे तुलना नहीं करते कि उनका जीवन किसी और की सफलता या विफलता के बिना कितना अलग होगा। तुलनात्मक लोग अपने दिमाग में दूसरों के साथ तुलना करते रहते हैं, जो और कुछ नहीं बल्कि सिर्फ भ्रम पैदा करता हैं। वे जीवन की आवश्यक चीज़ों को देखना भूल जाते हैं और पूर्णता (परफेक्शन) का पीछा करना शुरू करते हैं। धीरे-धीरे, इससे तनाव और चिंता बढ़ती है और खुद की क्षमताओं में आत्मविश्वास की गंभीर कमी आती है। जल्द ही, सारी क्षमताओं के बावजूद, आप जीवन में निचे गिरते जाते हैं और अपने लिए कभी भी नए अवसर नहीं तलाशते।

कल्पना करें कि आपका मस्तिष्क मशीनरी के टुकड़ों की तरह बना है। मशीनों को अच्छी तरह से तेल लगाने और सही ढ़ंग से कार्य करने के लिए नियमित रखरखाव की आवश्यकता होती है। यदि आप मशीनों का बिना रुके लगातार उपयोग करते रहते हैं, तो समय से पहले ही वह काम करना बंद कर देगा। लगातार तुलना करना भी आपके दिमाग को वैसा ही बनाती है। यह इसे थका देती है और सुधार के अवसरों को छीन लेती है।

जल्द ही तुलना करना एक जुनून बन जाता है। यह आपको अपने आस-पास के हर किसी के साथ ईर्ष्या महसूस करने पर मजबूर कर देता है। यह आपको अपने दोस्तों और सहयोगियों को आपके खिलाफ करता हैं। जल्द ही आप सुधार के लिए प्रयास करना बंद कर देते है। यह कब हो जायेगा आपको पता भी नहीं चलेगा। अब, सवाल यह है – क्या आप अपनी जिंदगी में प्रगति को रोकना चाहते हैं?

संक्षेप में, दूसरों के साथ तुलना करना स्वयं का विनाश करने की तरह है। आप जानबूझकर खुद का भावनात्मक नुकसान कर रहे हैं जो आपके मस्तिष्क, विचारों और अंत में आपके जीवन को प्रभावित कर रहा है। यहां तक कि जो बढ़िया कार्य करते हैं, वे भी कभी-कभी ऐसा महसूस करते हैं कि वे पूरी तरह से समर्थ नहीं हैं। लेकिन वे जीवन में प्रगति करना बंद नहीं करते। यह समझना महत्वपूर्ण है कि जो लोग अपने संबंधित क्षेत्रों में सर्वश्रेष्ठ हैं वे ऐसे कई अन्य पहलुओं के कारण हैं जिनके बारे में आप अनजान हो सकते हैं।

यदि आपको तुलना करने की इतनी आदत हैं, तो आप इसे और सुधार करने के लिए उपयोग में लाये। वे हर दिन कितना काम करते थे? नंबर 1 बनने के लिए उन्होंने किस तरह के बलिदान किए? उन्होंने किस तरह की बाधाओं का सामना किया और उन्होंने उन्हें कैसे दूर किया? उनकी ताकत और कमजोरियां क्या हैं? वे लगातार अपने कौशल को कैसे बढ़ा रहे हैं? इत्यादि…

हर नकारात्मक आदत का हमेशा सकारात्मक पक्ष होता है। आपको सिर्फ यह जानने की जरूरत है कि कैसे बदले! आप ‘विनिंग हैबिट्स’ DVD डीवीडी में मेरी लाइव रिकॉर्ड की गई कार्यशाला देख सकते हैं और अपनी आदतों को कैसे बदल सकते हैं यह सीख सकते हैं। आशा है कि यह चर्चा तुलना करने से रोकने के लिए आपके लिए उपयोगी होगी। मुझे उम्मीद है कि आप सीखेंगे और दूसरों को जीवन में सफल होते देख खुद भी प्रेरित होंगे!

7 Ways To Make People Like You Instantly

It’s a wedding season. With so many social gatherings and meet-ups, many struggles to be themselves. Many others find socializing to be a big burden! Thus, for them, today we will talk about how to make others like you – instantly! But there is a small disclaimer. It is a skill you need to hone over time. Don’t assume that after reading this post, you shall go from someone with social anxiety to now a party animal! It is time taking, but these tips, once followed, will give you quicker results. This is one of the most significant skills that my participants of ‘Train the Trainer- Train the Leader’ program learn. Here are some quick tips on it.

1. Strike Interests:

The easiest way to be in someone’s good books is to strike interests with them. Common hobbies, likes & dislikes can make for great conversations. And great conversations lead to even greater friendships. In case things don’t go your way – Always remember that despite having different opinions, it is more fruitful to accept others’ viewpoint than to argue. In such cases, try to divert the topic of your conversation to something everyone will enjoy.

2. Actively Listen:

People tend to like those who listen to them. Not hear, listen. There lies the big difference. Hearing is just words dropping on your earlobes and not making a difference. Listening is actively understanding and contributing to a conversation. Always be a listener. Most people, especially at social gatherings, tend to vent out a lot. To instantly make someone like you, sometimes all you need to do is listen! It is an excellent quality to have.

3. Sweet Gestures:

Always be polite, keep smiling & make small yet sweet gestures even to strangers. It is not necessary to exchange contact information for someone to remember you. Sometimes, when you go out of your way & help someone out with a small gesture, they tend to keep you in their memory for longer.

4. Agree:

I am sure most people know that agreeing with others is a great way to get into their social circle. It makes a mark on others, and you get noticed. Learn to agree with others’ opinions, and you are golden. This might sound fake right now but what do you have to lose? In fact, if you learn to put aside your ego for a moment, you will probably gain a friend. So it is a win-win situation! This is a huge point people follow from one of our books ‘The Great Salesman’– a Must-read book if you want to develop your selling and convincing skills.

5. Bond Over Food:

The one rule that never goes wrong or out of style! Bond with people over food (and maybe through food too!). People tend to be their most happy selves when they’re eating. And what are social gatherings without food? You can never go wrong if you bond with someone over food. And what better if you also recommend each other your favourite places to eat around town?

6. Passion:

Be a passionate person. People respond to feelings more than they respond to logic. No matter the topic of the conversation, if you speak with heartfelt passion you will definitely be able to strike a chord with others around you.

7. Be Yourself:

This comes last for a good reason. The one thing that most people feel will not make them likeable is being themselves. But you could not have been more wrong. Being yourself is of utmost importance no matter the people around you. There’s a sense of spark within us. That’s what makes us shine and stand out from the rest. Never lose it, never distrust it!

I am certain that these little tips would help you to a great extent! If you try these, do share your experience with us. Let us bond and help each other out.

ये 7 तरीके अपनाने से लोग आपको तुरंत पसंद करने लगेंगे

यह शादीयों का मौसम है। इस समय बहुत सारी सामाजिक सभायें और मेलमिलाप होते है। ऐसे में कई लोग खुद को सामान्य रूप से पेश करने के लिए संघर्ष करते हैं। कई लोगों के लिए दुसरे लोगों से मिलना, उनसे दोस्ती करना बड़ा बोझ होता हैं! इसलिए, उनके लिए, आज हम उन तरीकों के बारे में बतायेंगे जो अपनाने से लोग आपको तुरंत पसंद करने लगेंगे! लेकिन एक छोटा-सा रोड़ा है। यह ऐसी कुशलता है जिसे आपको समय के साथ बढ़ानी होगी। यह मत मान लीजिये कि इस पोस्ट को पढ़ने के बाद, आप शर्मीले व्यक्ति से तुरंत बदल कर किसी पार्टी की जान बन जाएंगे! इसके लिए समय लगेगा, लेकिन इन युक्तियों का पालन करने के बाद, आपको जल्दी परिणाम मिलेंगे। यह सबसे महत्वपूर्ण कौशल में से एक है जो ‘ट्रेन दि ट्रेनर-ट्रेन दि लीडर’ कार्यक्रम के मेरे सहभागी सीखते हैं। उसपर यहां कुछ तत्काल सुझाव दिए गए हैं।

1. समान रुचियां:

किसी की नज़रों में अच्छा होने का सबसे आसान तरीका है, उनके जैसी समान रुचियां होना। एक जैसी रुचियाँ, पसंद और नापसंद अच्छी बातचीत के अवसर ले आता हैं। और अच्छी बातचीत से अच्छी दोस्ती की शुरुआत होती है। यदि चीजें आपने जैसी सोची थी वैसी नहीं होती हैं – तब हमेशा याद रखें कि अलग-अलग राय होने पर, तर्क के मुकाबले दूसरों के दृष्टिकोण को स्वीकार करना ज्यादा अच्छा होता है। ऐसे मामलों में, अपनी बातचीत को किसी ओर विषय की ओर मोड़ दे, जिसका आनंद सभी ले सके।

2. सक्रिय रूप से सुनिए:

लोग उन लोगों को पसंद करते हैं जो उनकी बात सुनते हैं। सिर्फ सुनिए मत बल्कि ध्यान देकर सुनिए। दोनों में बड़ा अंतर है। सुनना मतलब सिर्फ आपके कानों पर गिरने वाले शब्द हैं जिसका व्यक्ति पर कोई असर नहीं पड़ता। परन्तु ध्यान देकर सुनने का मतलब है किसी बातचीत को सक्रिय रूप से समझना और उसमे योगदान करना। हमेशा श्रोता बनें। ज्यादातर लोग, विशेष रूप से सामाजिक सभाओं में, तरह-तरह की बातें करते हैं। किसी को आप तुरंत पसंद आने के लिए, कभी-कभी आपको बस ध्यान से सुनने की जरुरत होती है! यह एक अच्छा गुण है, जो हम में होना चाहिए।

3. प्यारे तरीके से भाव व्यक्त करना:

हमेशा विनम्र रहें, मुस्कुराते रहें और अजनबियों से भी, भले ही छोटे परन्तु मीठे तरीके से भाव व्यक्त करें। किसी ने आपको याद रखने के लिए कांटेक्ट लेना-देना जरुरी नहीं है। कभी-कभी, जब आप हटकर किसी के लिए छोटा सा काम करते हैं, तो वे आपको लंबे समय तक याद रखते हैं।

4. सहमत होना:

मुझे पक्का पता है कि ज्यादातर लोग यह जानते हैं कि दूसरों के साथ सहमत होना उनके सामाजिक सर्कल में आने का एक शानदार तरीका है। यह दूसरों को प्रभावित करता है और आप की ओर ध्यान खींचता हैं। दूसरों की राय से सहमत होना सीखें, और ‘सिकंदर’ बनिए। यह अभी नकली लग सकता है लेकिन ऐसा करने से आप क्या खोते है? कुछ भी नहीं! वास्तव में, यदि आप एक पल के लिए अपने अहंकार को दूर रखना सीखते हैं, तो आपको शायद एक दोस्त मिलेगा। यह तो जीत ही होती है! हमारे किताबों में से एक, ‘द ग्रेट सेल्समैन’ से लोग इसी महत्वपूर्ण बात को सीखते हैं। आपके बिक्री करने की और विश्वास दिलाने के कौशल को विकसित करने के लिए यह एक बहुत जरूरी किताब है।

5. भोजन करें-दोस्ती बढ़ाएं:

यह एक ऐसा नियम जो कभी गलत नहीं होता या अपनी स्टाइल नहीं खोता! भोजन पर लोगों के साथ दोस्ती बढ़ाएं (और शायद भोजन के माध्यम से भी!)। जब लोग खा रहे होते हैं तब वे सबसे ज्यादा खुश होते हैं। भोजन के बिना सामाजिक सभा क्या हैं? यदि आप भोजन पर किसी के साथ दोस्ती बढ़ाते हैं तो आप कभी गलत नहीं हो सकते। इससे बेहतर क्या होगा यदि आप एक दूसरे को शहर के आसपास के खाने की जगहों की सलाह देते हैं?

6. जुनून:

एक भावुक व्यक्ति बनें। लोग तर्क का जवाब देने से ज्यादा भावनाओं को जवाब देते हैं। बातचीत के विषय से कोई फर्क नहीं पड़ता। अगर आप दिल से, जुनून के साथ बात करते हैं तो आप निश्चित रूप से अपने आस-पास के लोगों के साथ दोस्ती करने में सफल होंगे।

7. प्राकृतिक तरीके का व्यवहार करें:

अच्छा है की हम इस महत्वपूर्ण मुद्दे को सबसे आखरी ले रहे है। ज्यादातर लोग सोचते हैं कि जब वे बनावटी व्यवहार नहीं करेंगे और प्राकृतिक तरीके का व्यवहार करेंगे तो लोग उन्हें नापसंद कर देंगे। लेकिन ऐसा सोचना बहुत ही गलत है। आपके आस-पास के लोगों के बारे में सोचते रहने के बजाय स्वयं जैसे है वैसे होना अत्यंत महत्वपूर्ण है। ऐसा करने से हमारे भीतर सजीवता की भावना होती है। यही कारण है कि हम दूसरों से अलग दिखते हैं। इसे कभी न खोएं, इसपर कभी संदेह न करें!

मुझे विश्वास है कि ये छोटे टिप्स आपको काफी हद तक मदद करेंगी! यदि आप इन्हें आजमाते हैं, तो अपने अनुभव को हमारे साथ साझा करें। चलिए, हम आपसी दोस्ती के बंधन में बंधे और एक-दूसरे की मदद करें।

How Lying Affects your Relationship ?

Lying is vicious. All of us are aware of this fact, and yet we don’t stop ourselves from lying when it comes to our relationships. When this becomes a habit, there are too many insecurities & uncomfortable circumstances that we tend to put ourselves through. We conveniently forget the stress that we put on ourselves and the other person while continuing the said behaviour!

In my 4-days program ‘Ultimate Life’, I always stress upon this point where participants ultimately understand that ‘Truth will set you free.’ Today I want to address this issue and bring light on how lying affects our relationships and trust me it is never in a good way. It always has a toxic effect on everyone involved in the relationship.

It is a web:

We are all aware of the adage ‘a web of lies’. Why is it a web? Because to avoid one lie you need ten more. To prevent those ten, you need a hundred more. And this goes on & on unless you are exhausted. Thus, if you are not a master story-teller who has no boundaries whatsoever concerning the length you shall go to in order to ensure a certain image of yourself, stop lying! It is not worth it!

Instills Fear:

Needless to say a web of lies brings along with itself a lot of fear. Fear that someone might uncover your truth, the fear of getting exposed to your insecurities, fear that people will judge you etc. This goes beyond count. Lying instils fear that you don’t need the burden of. When one truth can set you free why strain your relationships with the headache of lying? If someone does not like you the way you are, then great! This way you can find out the truth about your relationship before taking it to a more serious level. Better sooner than later, right?

Razor-sharp Memory:

If you can remember a million lies to hold onto one relationship, you can definitely remember the actual, significant details of your relationships! Instead of lying, be sensitive & pay more attention to the little things that make you & the other person happy. Lying only leads to more mistrust, regrets & deceit. You will only end up having trust issues because of pushing your luck beyond a certain point with your white lies. Then it shall become difficult to bring the relationship back to normal!

Tendency to Change:

Lying will subconsciously make you lose your true self in front of the other person. You will constantly feel the need to put up a fake demeanour & put forth “an act” merely because of your unwillingness to be honest! Isn’t it a big price to pay? And believe me, if the other person is a true friend, he/she will be able to understand the difference in your behaviour very easily! Consequentially, complications, arguments & fights will become inevitable!

Tedious Efforts:

Instead of making voluntary efforts in hiding every lie ever told to save your relationship, you can make efforts to save it by simply being truthful! Truth is bitter no doubt, but it also tests the purity of your relationships & saves you from innumerable efforts which are not only tedious but are highly unnecessary!

During the relationship session of my signature event ‘Change Your Life’ Workshop, participants dissolve years of fights and misunderstandings where they simply speak the truth. So be more honest & noble in your relationships unless you like the additional drama lying brings along with itself! However, if you want straight-forward, simple & happy relations in each sphere of your life, learn to be sensitively honest instead of being forthright with your white lies! Why don’t you pick up your phone and dial the number of that one person you have not been truthful to? Why don’t you tell him/her your honest account right now? Not unless you actually do it will you understand the power of truth!

झूठ कैसे आपके रिश्ते को प्रभावित करता है

झूठ बोलना दृष्टता है। हम सभी यह सच्चाई जानते हैं लेकिन फिर भी जब हम अपने रिश्तों की बात करते हैं तो हम झूठ बोलने से खुद को नहीं रोकते। जब यह आदत बन जाती है, तो हम अपने आप को कई असुरक्षित और असुविधाजनक परिस्थितियों में डालते हैं। हमने अपने व्यवहार से खुद को और दूसरे व्यक्ति को जो तनाव दिया था उसे हम आसानी से भूल जाते हैं!

मेरे 4-दिवसीय कार्यक्रम ‘अल्टीमेट लाइफ’ में, मैं हमेशा इस बात पर जोर देता हूं और अंत में सहभागियों के समझ में आता है कि ‘सत्य आपको मुक्त कर देगा।’ मैं आज झूठ बोलना हमारे संबंधों को कैसे प्रभावित करता है इस मुद्दे पर बात करना चाहता हूं और इसे समझाना चाहता हूं। झूठ बोलना कभी अच्छा नहीं होता है। यह हमेशा हर संबंध के हर किसी पर बहुत बुरा प्रभाव डालता है।

1. यह एक जाल है:

हम सब ‘झूठ का जाल’ के बारे में जानते हैं। यह एक जाल क्यों है? क्योंकि एक झूठ से बचने के लिए आपको दस और झूठ बोलने की जरूरत पड़ती है। उन दस को रोकने के लिए, आपको सौ और चाहिए। और यह तब तक यह चालू रहता है जब तक आप थक नहीं जाते। इस प्रकार, यदि आप कोई बड़े कथाकार नहीं हैं जो आपनी छवि बनाने के लिए किसी भी स्तर तक जा सकते हैं, तो झूठ बोलना बंद कीजिये! यह फायदेमंद नहीं है!

2. मन में डर बैठता है:

यह बताने की जरूरत नहीं है की झूठ का जाल अपने साथ डर लेकर आता है। डर रहता है कि कोई आपकी सच्चाई बता सकता है, सबके सामने अपनी असुरक्षा खुली हो जाने का डर, डर कि लोग आप का आकलन करेंगे आदि।
ऐसी अनेक बाते है जिसकी गिनती नहीं कर सकते। आपको झूठ बोलने के डर के बोझ की जरूरत क्यों रखना चाहिए? जब एक सच्चाई आपको मुक्त कर सकती है तो झूठ बोलने के सिरदर्द से अपने रिश्तों को क्यों ख़राब करें? अगर कोई आपको पसंद नहीं करता है तो भी चलेगा! इस तरह आप अपने संबंध को आगे बढ़ाने से पहले अपने रिश्ते के बारे में सच्चाई जान सकते हैं। बाद में समझने से अभी इसी समय समझ जाना ज्यादा अच्छा है, है ना?

3. अति तेज स्मरणशक्ति:

यदि आप एक रिश्ते को पकड़े रखने के लिए दस लाख झूठ याद कर सकते हैं, तो आप निश्चित रूप से अपने रिश्तों के सही, महत्वपूर्ण बातें याद कर सकते हैं! झूठ बोलने के बजाय, संवेदनशील रहें और उन छोटी चीजों पर अधिक ध्यान दें जो आपको और दूसरे व्यक्ति को खुश करते हैं। झूठ बोलने से अविश्वास, पछतावा और छल बढ़ता है। एक निश्चित बिंदु के बाद, आप अपने सफ़ेद झूठ के कारण केवल अविश्वास को ही जन्म देंगे। फिर रिश्ते को सामान्य करना मुश्किल हो जाएगा!

4. बदलने की प्रवृत्ति:

झूठ बोलने से आप दूसरे व्यक्ति के सामने अपना सच्चा चरित्र खो देंगे। आपको लगातार नकली व्यवहार करने की आवश्यकता महसूस होगी और ईमानदार होने की आपकी अनिच्छा के कारण ही हमेशा एक “नाटक” करना पड़ेगा! क्या यह एक बहुत बड़ी कीमत नहीं है? मेरा विश्वास कीजिये, अगर दूसरा व्यक्ति एक सच्चा दोस्त है, तो वह आपके व्यवहार के अंतर को आसानी से समझ पाएगा/पायेगी! परिणाम यह होगा की बहस, झगड़े और कठिनाईयां निश्चित ही होंगे।

5. कष्टदायक प्रयास:

अपने रिश्ते को बचाने के लिए कहे गए हर झूठ को छिपाने में स्वयं प्रयास करने के बजाय, आप इस रिश्ते को सच्चाई से बचाने का प्रयास कर सकते हैं! इसमें कोई संदेह नहीं है की सच्चाई कड़वी होती है, लेकिन यह आपके रिश्तों की शुद्धता की भी परीक्षा लेती है। यह आपको बहुत सारे थकाऊ और अनावश्यक प्रयासों से बचाती है!

मेरे कार्यक्रम ‘चेंज योर लाइफ’ वर्कशॉप के रिलेशनशिप सत्र के दौरान, सहभागी वहाँ सच बोलकर वर्षों पुराने झगड़े और गलतफहमीयों को दूर करते हैं। तो आप अपने रिश्तों में अधिक ईमानदार और अच्छे रहें और झूठ बोलने के साथ होनेवाले ड्रामा से बचे। अगर आप अपने जीवन के हर क्षेत्र में सीधा-साधा, सरल और खुशियों भरा संबंध चाहते हैं, तो अपने सफेद झूठ के साथ जीने के बजाय संवेदनशीलता से ईमानदार होना सीखें! आप अपना फोन उठाकर उस व्यक्ति का नंबर क्यों नहीं डायल करते जिसके साथ आपने झूठ बोला था? आप उसे अभी अपनी सच्चाई क्यों नहीं बताते? जब तक आप वास्तव में ऐसा नहीं करते हैं, तब तक आप सच की शक्ति को नहीं समझेंगे!

5 Tips To Develop Healthy Eating Habits

Most people I interact with want to lose weight or get fitter. Sometimes people tell me that in spite of hitting the gym, doing Yoga regularly or getting adequate physical movement, they are unable to see healthy changes in their bodies. If you belong to the same category of people, today’s post is going to be a hard-hitting reality check.

If you think that eating EVERYTHING and, in comparison, doing a lot of exercise will help you lose weight or fat then you are wrong! The food you consume is directly proportionate to your health. Even if you are training frequently but lack control or discipline as far as your eating habits are concerned then this struggle will persist. Instead what you need to do is to start building a healthy eating habit & get adequate physical activity to maintain and/or lose weight or body fat.

1. Eat On Time:

Eating on time is extremely essential for good health. Eating a salad at 1 a.m. does not absolve you of the consequences. Thus, in order to start eating right it is first important that you start eating on time. Most people have amusing eating habits. They tend to have a light breakfast, a heavier lunch & the heaviest dinner. If you eat your heaviest meal an hour before going to bed it defeats the purpose of inculcating a healthy habit. Thus, timing is significant. Try to eat before 10 a.m. & refrain from eating post 8 p.m. This slight change of routine will keep reminding you of how you must eat healthy too!

2. Keep It Colourful:

A key component to ensure that you are eating healthy is to have colourful elements on your plate. This means that you need to incorporate three to four different components in your meal. It could be raita or a salad with veggies & daal with roti etc. But make sure that you have at least three different segments in your meal. If you don’t then it becomes a highly alarming matter which you may need to take care of at the earliest. Instead of thinking about the portions of carbohydrates to proteins to vitamins, check on the component & variety of food on your plate. This way you also tend to eat a moderate amount instead of over-indulging.

3. Local is better:

One of the hugest mistakes we tend to make while shifting our food habits is to go Gourmet, i.e., we instantly look for the American way of making salads & buy foreign foods like quinoa, avocados etc. However, if you want to make a sustainable change in your eating habit then sticking to local food is better. Indian food is also capable of being healthy while giving you your essential nutrients. Also, the food habits of the West are not a benchmark. Their climatic circumstances are quite opposite to ours, so what they eat & consider healthy might not work for us.

4. Learn To Cook:

Once you learn to cook you shall slowly learn the science of understanding which ingredient is healthy & which is not. Once that begins to make sense, you shall automatically become wary of what you put in your mouth. Also, there is a huge myth doing the rounds that diet food needs to be boiled & bland. However, once you learn to cook you shall understand that boiled food does not guarantee health and that there are other non-bland ways of making food that may keep your health wholesome.

5. Try new combinations:

Most people get bored of eating healthy because they eat one or two specified things in an alternate manner. If you keep yourself limited then it is only obvious that you shall get bored. Try to make new combination & be unafraid of trying unconventional ingredients to keep your taste palette in check!

In my premium program ‘Ultimate Life’, I spend one whole day on ‘Health’ where participants get in-depth knowledge of diet and exercise. If you are one of those who want to get healthier, this program is a must for you.

स्वस्थ भोजन की आदतें विकसित करने की 5 युक्तियाँ

जिन लोगों के साथ मैं बातचीत करता हूं उनमें से ज्यादातर लोग या तो वजन कम करना चाहते हैं या और ज्यादा फिट होना चाहते हैं। कभी-कभी लोग मुझे बताते हैं कि जिम में जाने के बावजूद, नियमित रूप से योग करने या पर्याप्त शारीरिक हलचल करने के बावजूद उन्हें अपने शरीर में परिवर्तन नहीं दिखता हैं। यदि आप इन लोगों की श्रेणी के हैं, तो आज की पोस्ट आपके लिए एक रियलिटी चेक होने जा रही है।

यदि आपको लगता है कि सब कुछ खाने से और बहुत व्यायाम करने से आपका वजन या फैट कम हो जायेगा तो आप गलत हैं! जो खाना आप खाते हैं उसका आपके स्वास्थ्य से सीधा रिश्ता है। यदि आप अक्सर व्यायाम करते हैं लेकिन आपकी खाने की आदतों पर नियंत्रण या अनुशासन की कमी है तो यह संघर्ष जारी रहेगा। इसके बजाय आपको स्वस्थ खाने की आदत बनाने और वजन या शरीर के फैट को बनाए रखने और / या खोने के लिए पर्याप्त शारीरिक गतिविधि भी करने की आवश्यकता है।

1. समय पर खाएं:

समय पर भोजन अच्छे स्वास्थ्य के लिए बेहद जरूरी है। रात एक बजे सलाद खाने से आप परिणामों से दोषमुक्त नहीं होते है। इस प्रकार, सही से खाना शुरू करने के लिए पहली शर्त यह है कि आप समय पर खाना खाएं। अधिकांश लोगों में खाने की मनोरंजक आदतें होती हैं। वे हल्का नाश्ता, भारी भोजन और उससे भी भारी रात का खाना खाते है। यदि सोने से एक घंटा पहले आप अपना सबसे भारी भोजन करते हैं तो यह कोई अच्छी आदत नहीं है। इस प्रकार, समय महत्वपूर्ण है। रात के 10 बजे से पहले खाना खाने की कोशिश करें। हो सके तो रात के 8 बजे के बाद खाने से बिलकुल बचें। दिनचर्या में यह मामूली परिवर्तन आपको याद दिलाएगा कि आपको स्वस्थ कैसे खाना चाहिए!

2. खाने को रंगबिरंगी रखें:

आप स्वस्थ भोजन कर रहे हैं या नहीं यह सुनिश्चित करने के लिए एक महत्वपूर्ण बात यह है कि, आपकी प्लेट पर अलग-अलग रंग के खाने होने चाहिए। इसका मतलब है कि आपको अपने भोजन में तीन से चार अलग-अलग चीजों को शामिल करने की आवश्यकता है। यह रायता या सलाद के साथ सब्जियां और दाल के साथ रोटी इत्यादी हो सकता है। लेकिन यह सुनिश्चित करें कि आपके भोजन में कम से कम तीन अलग-अलग प्रकार हैं। यदि आप ऐसा नहीं करते हैं तो यह अच्छा नहीं है और आपको इसे जल्द से जल्द बदलने की आवश्यकता है। कार्बोहाइड्रेट की तुलना में प्रोटीन और विटामिन के हिस्सों के बारे में सोचने के बजाय, अपनी प्लेट पर परोसे गए भोजन के विभिन्न चीजें और प्रकार की जांच करें। इस तरह आप अधिक खाने के बजाय ठीक-ठाक भी खाते हैं।

3. स्थानीय चीजें बेहतर है:

हमारी खाद्य आदतों को बदलते समय हम जो गड़बड़ी करते हैं, उनमें से एक है पेटू हो जाना, यानी, हम तुरन्त अमेरिकी तरीके से सलाद बनाने और क्विनोहा, एवोकैडो इत्यादि जैसे विदेशी खाद्य पदार्थ खरीदने में लग जाते हैं। हालांकि, अगर आप अपनी खाने की आदत में पक्का परिवर्तन करना चाहते हैं तो स्थानीय खाना खाना बेहतर है। भारतीय भोजन आपको आवश्यक पोषक तत्व देने के साथ-साथ स्वस्थ भी रखने में सक्षम है। इसके अलावा, पश्चिम की खाद्य आदतें स्वस्थ खाने की कोई मानदण्ड नहीं हैं। उनकी जलवायु परिस्थितियां हमारे विपरीत हैं, इसलिए वे जो खाते हैं और स्वस्थ मानते हैं, वे हमारे लिए काम नहीं कर सकते।

4. खाना पकाना सीखें:

जब आप खाना बनाना सीखेंगे तो धीरे-धीरे आपकी समझ में आ जायेगा कि कौन सी चीज स्वस्थ है और कौनसा नहीं है। एक बार जब यह समझने लगता है, तो आप अपने मुंह में जो कुछ भी डालते हैं, उसके बारे में सावधान रहेंगे। इसके अलावा, यह एक बड़ी गलत धारणा है कि डाइट वाला खाना उबला हुआ और स्वादहीन होना चाहिए। जब आप खाना बनाना सीखेंगे तो आप समझ जाएंगे कि उबला हुआ भोजन स्वास्थ्य रहने की गारंटी नहीं देता है और भोजन बनाने के अन्य अच्छे तरीके हैं जो आपके स्वास्थ्य को अच्छा रख सकते हैं।

5. खाने में नए-नए चीजों के मेल-मिलाप (कॉम्बिनेशन्स) को आजमाएं:

ज्यादातर लोग स्वस्थ खाने से ऊब जाते हैं क्योंकि वे तय की हुई एक या दो चीजों को ही उलट-पलटकर खाते हैं। यदि आप अपने आप को सीमित रखते हैं तो आप ऊब जाएंगे। खाने में नए-नए चीजों के मेल-मिलाप (कॉम्बिनेशन्स) बनाने की कोशिश करें और स्वाद के लिए अपरंपरागत सामग्री और मसालों का उपयोग करने से ना डरें!

मेरे कार्यक्रम ‘अल्टीमेट लाइफ’ में, मैं एक पूरा दिन ‘स्वास्थ्य’ पर खर्च करता हूं जहां सहभागियों को आहार और व्यायाम का गहरा ज्ञान दिया जाता हैं। यदि आप उनमें से एक हैं जो स्वस्थ होना चाहते हैं, तो यह कार्यक्रम आपके लिए बहुत जरूरी है।