One irreplaceable career option in the Covid situation

Career Options in Covid

When we hear the word career some typical options to choose that come to our mind are engineering, doctor, government job, artist, etc. This is because everyone around you is involved in such career options. But have you ever thought of exploring a unique career and out of the box? One such career option is public speaking. Yes, you read it right. It is public speaking. No one will ever consider this option for a career. That is because it is very uncommon for others to consider it as it is different from the rest of the options. For example, there is only one speaker in the room but a whole bunch of people to listen. Hence there are very few people who choose it as a career option. If you look around, few people around you are already doing it. And if you want to start your career as a public speaker here is the pros and cons that you should consider before starting your career as a public speaker: 

Pros:

You don’t need a large capital to start.

No specific degree is required.

No need to work for others.

You can share information and knowledge with others.

You can work for the well-being of society.

Cons:

You cannot presume your annual income. (Unlimited Opportunities) 

You will have less time to waste. (You will be working for your growth)

You won’t be able to randomly roam here and there. (Because you will be a well-recognized person in society)

You can’t spend your money on useless things. (As you will know the value of your hard work)

You will not get time to stay awake the whole night for binge-watching. (As you will have some responsibilities and work to perform in the morning)

You might have got an idea about the pros and cons of being a public speaker. Now as you have got enough information about how does it feel to be a public speaker, let us get deeper into it and find out how you can start your career as a public speaker by identifying the skill set that is required to become a public speaker. 

Confidence

Sense of humor

Content designing

Body Language

Pre-planning

Communication Skill

Good convincing power

Observational Skills

If you get a good command of these skills then you are ready to start your career as a public speaker. Now let us look at some of the options that you can try. Being a public speaker is a difficult task. A person selling vegetables is also communicating with his targeted audience and a person standing in the government assembly room is also communicating with his targeted audience. What is the right place for you which suits you the best? For that, we will look at some positions from those options you can select the one which you can try to start your journey as a public speaker. Here is a list of positions to start your career as a public speaker. 

Professional Trainer

Spokesperson

Professor

Motivational Speaker

Spiritual Leader

Story Teller

Business Leader

Life Coach

Politician 

Philosophical Lecturer 

You can explore even more positions being a public speaker. There are plenty of scopes being a public speaker. Now you might be thinking about how to perform such tasks in this situation of coronavirus pandemic, right?  You can start training people through online platforms like social media, websites, video conferencing, online meetings, and much more. And once the situation gets back to normal, then you can stand on the stage hold your mic and rock the stage with your amazing speech. But for now, start with online platforms. This is the opportunity for you to start. As early as you start, sooner you will become successful. 

Now to make the whole process easier, I have a whole Webinar program called Speak and Get Rich which is purely based on the fundamentals of becoming a successful public speaker and earn a handsome amount of wealth out of it. To know more about this Webinar you can visit this link: https://parthp32.sg-host.com/t3pwebinar. Here you will find detailed knowledge and information to start your career as a public speaker. Thank You so much for reading this blog. I hope this blog added some information and value to your life.

कोविड की स्थिति में एक गजब का करियर विकल्प:

जब कभी भी हमें हमारा करियर चुनना होता है, तब हम कुछ चुनिंदा करियर जैसे की इंजीनियर, डॉक्टर, गवर्नमेंट जॉब, कलाकार, अदि विकल्पों में से ही एक विकल्प पसंद करते है। जब की इन विकल्पों के आलावा कई सारे और भी विकल्प उपलब्ध है। ऐसा इस लिए क्योंकि हम हमारे आस पास के लोगो से प्रेरित होते है। और अंत में हम भी वैसे ही करियर चुन लेते है। लेकिन आपने कभी कोई सबसे अलग और अनोखा करियर पसंद करने का विचार किया? अगर नहीं तो आज में आपके समक्ष एक ऐसा करियर ऑप्शन रखने वाला हूँ जोकि अपने आप में दुर्लभ है। करियर है पब्लिक स्पीकर का, जी आपने सही पढ़ा, एक पब्लिक स्पीकर। आम तौर पर कोई इस करियर के बारे में विचार नहीं करेगा। क्युकि पब्लिक स्पीकिंग अपने आप में ही एक अलग विकल्प है। उदहारण के लिए स्टेज के ऊपर बोलने वाला एक व्यक्ति होता है और उसके सामने सुनने वाले अनेक व्यक्ति होते है। अब आप सोच सकते है की यह कितना अनोखा करियर ऑप्शन है। यदि आप चारों ओर देखते हैं, तो आपके आसपास के कुछ लोग पहले से ही एक वक्ता की भूमिका अदा कर रहे हैं। और यदि आप एक वक्ता के रूप में अपना करियर शुरू करना चाहते हैं, तो निचे दिए हुवे फायदे और नुकसान आपको इस करियर को समझने में मदद करेगा। 

फायदे:

आपको शुरुआत करने के लिए ज्यादा पैसो की ज़रूरत नहीं है। 

किसी विशिष्ठ डिग्री की जरुरत नहीं है। 

आपको किसी और के लिए काम करने की जरुरत नहीं है। 

आप दूसरे लोगो के साथ अपना ज्ञान बाट सकते है। 

आप समाज को बेहतर बनाने में योगदान दे सकते है। 

नुकसान:

आपकी वार्षिक आम-दनी निर्धारित नहीं रहती।  (असीमित मोके)

आपके पास बर्बाद करने के लिए समय नहीं होगा। (आप अपने विकास के लिए काम करेंगे)

आप इधर-उधर बिना कारण नहीं घूम पाएंगे। (क्युकि आप एक प्रशिद्ध व्यक्ति होंगे)

आप व्यर्थ चीज़ो पे पैसे बर्बाद नहीं कर पाएंगे। (क्युकि आपको कड़ी मेहनत का मतलब पता होगा)

आप देर रात तक जागने का आनंद नहीं ले पाएंगे। (क्युकि सुबह जल्दी उठकर काम करना आपकी ज़िम्मेदारी होजायेगी)

अब आपको एक वक्ता बनने के फायदे और नुकसान पता चल गए होंगे। जैसे की आपको पता चल गया है की एक वक्ता बनने का अनुभव कैसा होता है, तो चलिए इस करियर के बारे में और अच्छे से जानते है। तो हम देखेंगे की पब्लिक स्पीकर बनने के लिए आपके अंदर क्या-क्या योग्यताए होनी चाहिए। निचे कुछ ऐसे कौशल्य दिए है जो की एक वक्ता में होने चाहिए। 

आत्मविश्वास 

हसमुख स्वाभाव 

काम की योजना

पूर्व निर्धारित लक्ष्य

कॉम्युनिकेशन स्किल्स 

समझाने की शक्ति 

अच्छा निरिक्षण करने की क्षमता 

अगर आप ऊपर लिखी हुई निम्नलिखित कलाओ में कुशल हो जाते है तो आप आपने पब्लिक स्पीकिंग का करियर शुरू करने के लिए तैयार है। अब मैं आपको कुछ ऐसे ऑप्शन दिखाना चाहूंगा जो की आप एक वक्ता के तौर पर पसंद कर सकते हैं। एक वक्ता होना चुनौती भरा कार्य हैं।  एक सब्जी बेचने वाला भी लोगो के सामने बोलता है और एक सरकारी कर्मचारी भी सरकारी कचहरीओ में बोलता है। तो आप कोनसी जगह में सबसे अच्छी तरह से अपना 100 % दे पाएंगे? तो इस सवाल का समाधान पाने में निचे दिए हुए विकल्प आपकी अच्छे से मदद करेंगे। 

प्रोफेशनल ट्रेनर 

प्रवक्ता

प्रोफ़ेसर

मोटिवेशनल स्पीकर 

आध्यात्मिक गुरु 

स्टोरी-टेलर 

बिज़नेस लीडर 

लाइफ कोच 

राजनैतिक वक्ता 

तत्वज्ञानी मार्गदर्शक 

आप आपने आप से और भी ज़्यादा विकल्पों के बारे में जान सकते है। आपके पास और भी कई सारे विकल्प मौजूद है। जो भी विकल्प आपको प्रेरणादायक लगे उसके ऊपर काम करना शुरू कर दीजिए। अभी आपके मन में सवाल आया होगा की कोरोना की स्थिति में कैसे शुरुआत करे, सही कहा ना मैंने? उसके लिए आप ऑनलाइन कई सारे माध्यम से जैसे सोशियल मिडिया, वेबिनार, ऑनलाइन मीटिंग, आदि तरीको से शुरू कर सकते है। और जैसे ही परिस्थिति नार्मल होती है आप लाइव सेमिनार और वर्कशॉप शुरू कर सकते है। यही समय है शुरू करने का, जितना जल्दी शुरू करेंगे उतनी ही जल्दी आप सफल हो पाएंगे। 

आपकी इस वक्ता बनने की यात्रा को सरल बनाने के लिए मैंने आपके लिए एक वेबिनार बनाया है। जिसमे में आपको एक के बाद एक सारे पहलु अच्छे से समझाऊंगा जिसकी मदद से आप आसानी से एक सफल वक्ता बन पाएंगे।अभी रजिस्टर कीजिये मेरे वेबिनार Speak & Get Richके लिए: https://parthp32.sg-host.com/t3pwebinar/ और अपने वक्ता बनने की यात्रा को आरम्भ कीजिए।

3 Steps Of Abundance Which The Rich Won’t Share

3 Steps of Abundance

Becoming Wealthy is easy but maintaining your wealthy is hard. If you train your body in gym for 6 to 12 months you will see incredible results, but as you stop going to gym, slowly you will start losing those beautiful six-pack abs. It shows the importance of consistency. It won’t make any change if you daily practice different things but that one thing which you practice daily will make a drastic change in your life. Once Bruce Lee said — ‎” I fear not the man who has practiced 10,000 kicks once, but I fear the man who has practiced one kick 10,000 times.” Which shows that perfection can be achieved with persistency and constant efforts. For that you have to develop a MINDSET. A mindset which will help you to break your false beliefs, your bad habits, laziness and will make you more active, accurate, more focused towards your goals.

To attract something we have to make that thing as a center of focus. In case if you want good health you have to become health centric. If you want to become rich you have to keep money as my main focus. I will teach you 3 artistic rules which will set you to a level from where you will be able to generate tremendous amount of wealth, which will be life longing. We are already aware of people who are making millions. But something we don’t know is how there are able to make it. So these 3 arts will help you to understand the thought process of those people more clearly who have a rich mindset.

     1.       THE ART OF ASKING:

The common mistake that we make while starting the process is asking in a wrong way or not asking at all. We don’t know the art of asking things. This nature is willing to provide everything that it has but only to those who knows the art of asking. People with rich mindset are conscious about the thoughts that they perceive. They try to surround themselves with the elements which constantly indicates a signal which works a reminder to them to keep asking in right manner. And on the other hand, you don’t ask for the things that you want instead of that you regret about the things that you don’t have. You keep cursing and criticizing this nature for not giving you the fruit that you want. You have to develop a mindset where you ask for things that you want. Whenever you bump with a thought which shows the sign of negativity get out of that state of mind, and start thinking about the things that you want, things you want to achieve.

      2.       THE ART OF RECEIVING:

 Once you ask correctly then next thing that will happen is receiving the wealth that you asked for. While receiving the wealth we don’t know how to welcome it to our vault. We fizzle off, and we get zoned out from our conscious state of mind. We lose our calmness, and we go crazy by just thinking about the wealth. This is where you go wrong. People with rich mindset stay calm, and still. They don’t give quick reactions to the changes that come to their life. They observe the wealth that they have received then they think about the money that they have received, and then he will react to the wealth they have obtained. This is how you should welcome the wealth as it indicates a gratefulness in the behavior of receiver. And nature likes the person who expresses thankfulness to it.

     3.       THE ART OF RETAINING:

 After receiving that wealth, most of the people end up losing that wealth too soon. As they don’t know how to manage it. The art of retaining the wealth is the most important and difficult
art among these three arts. If you buy a car it’s a easy process. Even selling that car is also easy. But maintaining the car for the convenient ride is more difficult than both. Similarly, asking for wealth and receiving that wealth is easier as compared to maintaining that wealth. And to do that we have to plan our finances. We should know how to generate money from the money that we hold. The quote — “Money Attracts Money” is true only for those who knows the importance of financial planning. Those who spend their hard-earned money lavishly without giving a second thought, they are not going to stay wealthy for too long. They end up spending all the money and then back to the old situation.

Now it is in our hand how to ask for a rich mindset, how to practice that rich mindset and how to retain a rich mindset. To develop this mindset we need a mentor, a teacher who can guide us to achieve financial freedom by developing rich mindset. A true guru will show the right path towards you goal. And for your betterment I have come up with a program in which I will share few tried and tested scientific techniques which will work as a cup of nectar for you. These are simple techniques but if implemented correctly, it can make wonders. I will suggest you to check out my webinar on DEVELOP RICH MINDSET” in which i am sharing 9 secrets to become rich.

विकास के लिए 3 कलाए 

जीवन में धनिक बनना आसान है लेकिन अपने धन को बनाए रखना कठिन है। अगर आप जिम में ६ से १२ महीने तक कसरत करेंगे तो आपको अविश्वसनीय परिणाम देखने को मिलेंगे, लेकिन जैसे ही आप जिम जाना बंध कर देंगे , धीरे-धीरे आप उन खूबसूरत सिक्स-पैक एब्स को खोना शुरू कर देंगे। यह स्थिरता के महत्व को दर्शाता है। यदि आप रोजाना अलग-अलग चीजों का अभ्यास करते हैं, तो उससे कोई ज़्यादा बदलाव नहीं होगा, लेकिन एक चीज जो आप रोजाना अभ्यास करते हैं, वह आपके जीवन में भारी बदलाव लाएगा। एक बार ब्रूस ली ने कहा – “मैं उस आदमी से नहीं डरता जिसने एक बार 10,000 किक का अभ्यास किया हो, लेकिन मुझे उस आदमी से डर है जिसने 10,000 बार किक का अभ्यास किया है।” जो दर्शाता है कि दृढ़ता और निरंतर प्रयासों से पूर्णता प्राप्त की जा सकती है। उससे आप एक MINDSET विकसित करने में सफल होंगे। एक मानसिकता जो आपको अपने झूठे विश्वासों, आपकी बुरी आदतों, और आलस्य को तोड़ने में मदद करेगी और आपको अपने लक्ष्य के प्रति अधिक सक्रिय, सटीक, अधिक ध्यान केंद्रित करने में उपयोगी होगी।

किसी चीज़ को आकर्षित करने के लिए हमें उस चीज़ को फोकस का केंद्र बनाना होगा। यदि आप अच्छा स्वास्थ्य चाहते हैं तो आपको स्वास्थ्य केंद्रित बनना होगा। यदि आप अमीर बनना चाहते हैं तो आपको अपने मुख्य फोकस के रूप में पैसा रखना होगा। मैं आपको 3 कलात्मक नियम सिखाऊंगा, जो आपको एक ऐसे स्तर पर स्थापित करेंगे, जहाँ से आप जबरदस्त धन पैदा कर सकेंगे, और जो हमेशा के लिए रहेगा। हम उन लोगों के बारे में पहले से ही जानते हैं जो लाखों कमा रहे हैं। लेकिन हम जो चीज़ नहीं जानते कोह है की उन्होंने वह लाखो रुपए कैसे बनाए। तो ये 3 कलाएँ आपको उन लोगों की विचारश्रेणी को अधिक स्पष्ट रूप से समझने में मदद करेंगी जोकि एक सफल इंसान के ज़ेहन में पहले से उपस्थित है।

 

१. मांगने की कला: 

प्रक्रिया शुरू करते समय हम जो सामान्य गलती करते हैं, वह  है की गलत तरीके से मांगना, या फिर  बिल्कुल मांगना ही नहीं। सामान्य तौर पर लोग मांगने की कला में निपूर्ण नहीं होते। यह प्रकृति वह सब कुछ प्रदान करने के लिए तैयार है जो उसके पास है, लेकिन केवल उन लोगों के लिए है जो मांगने की कला जानते हैं। समृद्ध मानसिकता वाले लोग उन विचारों के बारे में हमेशा जागरूक होते हैं ताकि वो उन् विचारो को और अच्छे तरीके से समज सके। वे खुद को उन तत्वों से घेरने की कोशिश करते हैं जो लगातार एक संकेत को इंगित करते हैं जो लगातार उन्हें याद दिलाता है कि वे कुदरत से क्या चाहते हैं। और दूसरी ओर, आप उन चीजों के लिए नहीं पूछते हैं जो आप चाहते हैं इसके बजाय आप उन चीजों के बारे में पछताते हैं जो आपके पास नहीं हैं। आप इस स्वभाव को कोसते रहते हैं और आलोचना करते रहते हैं कि आपको जो फल चाहिए वह नहीं दिया। आपको एक मानसिकता विकसित करनी होगी जहां आप उन चीजों के लिए कहें जो आप चाहते हैं। जब कभी भी आप किसी विचार से टकराते हैं जो नकारात्मकता के संकेत को दर्शाता है, तो उसी समय उस मन की स्थिति से बाहर निकलने का प्रयास कीजिये, और उन चीजों के बारे में सोचना शुरू कर दीजिये जो आप चाहते है और जिन चीजों को आप प्राप्त करना चाहते हैं।

 

२. प्राप्त करने की कला: 

एक बार जैसे ही आप मांगने की कला में निपूर्ण हो जाते है, अगला कार्य है उस धन को प्राप्त कैसे किया जाये। जब हम धन की प्राप्ति करते है उस समय हमें यह भास नहीं रहता की उस समृद्धि का स्वागत हमारी तिजोरी में कैसे किया जाये। हम अपने मन की सचेत अवस्था से बाहर निकल जाते है और पागलपन की वजह से बहक जाते है। हम अपनी शांति खो देते हैं, और हम केवल धन के बारे में सोचकर ही जूनून की अनुभूति करना शुरू कर देते है. यही पर हर इंसान गलत पटरी पर निकल जता है। अमीर मानसिकता वाले लोग शांत रहते हैं। वे अपने जीवन में आने वाले परिवर्तनों पर त्वरित प्रतिक्रिया नहीं देते हैं। वे प्राप्त हुवे धन का सबसे पहले निरिक्षण करते है। और फिर वह अपने द्वारा प्राप्त किये हुए धन के बारे में प्रतिक्रिया देते है। आपको भी इसी तरह धन का स्वागत करना चाहिए जोकि प्रकृति के लिए आपका कृतज्ञ भाव दर्शाता है। और प्रकृति उस व्यक्ति को पसंद करती है जो उसके प्रति आभार व्यक्त करता है। 

 

३. बनाए रखने की कला:  

उस धन को प्राप्त करने के बाद, अधिकांश लोग उस धन को जल्द ही खो देते हैं। यहाँ इस लिए क्योकि वे नहीं जानते की उस धन को कैसे संभाला जाये। धन को बनाए रखने की कला इन तीन कलाओं में सबसे महत्वपूर्ण और कठिन कला है। यदि आप एक कार खरीदते हैं तो यह एक आसान प्रक्रिया है। यहां तक कि उस कार को बेचना भी आसान है। लेकिन सुविधाजनक सवारी के लिए उस कार को मैनटेन रखना दोनों की तुलना में अधिक कठिन है। इसी तरह धन मांगना और उस धन को प्राप्त करना आसान है मगर उस  को बनाए रखना अधिक कठिन है। हमें पता होना  चाहिए की हमारे पास जो धन है उसी धन की मदद से और ज़्यादा धन कैसे बनाया जाये। “पैसा पैसे को खींचता है” – यह  सूत्र केवल उन् लोगो के लिए है जिन्हे वित्तीय योजना के महत्व के बारे में ज्ञान है।  जो लोग अपनी मेहनत से कमाए गए धन को बिना सोचे समझे खर्च कर देते हैं, वे अधिक समय तक धनी नहीं रह पाते। वे अपना सारा पैसा फ़िज़ूल खर्ची में बर्बाद कर देते है और फिर अपनी पुरानी परिस्थि में आ जाते है।

अब यह आपके हाथो में है की आपको समृद्ध मानसिकता कैसे मांगनी है कैसे उसका अभ्यास करना है और कैसे उसको बनाए रखना है। इस मानसिकता को विकसित करने के लिए हमें एक संरक्षक की आवश्यकता है, एक शिक्षक जो हमें समृद्ध मानसिकता विकसित करके वित्तीय स्वतंत्रता प्राप्त करने के लिए मार्गदर्शन दे सके। एक सच्चा गुरु आपको लक्ष्य की ओर सही रास्ता दिखाएगा। और आपकी बेहतरी के लिए मैं एक कार्यक्रम लेकर आया हूं, जिसमें मैं कुछ आजमाई हुई और परखी हुई वैज्ञानिक तकनीकों से आपको रूबरू कराऊंगा जो आपके लिए अमृत के प्याले के रूप में काम करेंगी। ये सरल तकनीक हैं लेकिन अगर इसे सही तरीके से लागू किया जाए तो यह चमत्कार कर सकती है। मैं आपको मेरे द्वारा तैयार किया हुआ “DEVELOP RICH MINDSET” वेबिनार को करने का सुझाव दूंगा जिसमे मै 9 ऐसे रहश्यो को शेयर कर रहा हूँ जो आपको अमीर बनने मे मदद करेगा

Why Travelling More is Important ? Top 7 Reasons

Why should you travel?! Is there anything really worth sightseeing new places or explore remote locations across the world? Aren’t you better off just being at home, going to a regular job and perhaps knowing nothing more than the place you currently live in? These are some of the many questions that arise from people who don’t really travel much. Here is a look at the top seven reasons as to why travelling is important for you:

1. Travelling opens your eye to new things, people and unusual aspects of life that you would not have known, being just in your home place. For example, if you live in Mumbai and journeyed to Beijing, you will experience new culture, food, beautiful locations and make friends with people whom you could not have known otherwise. You will come to know so many things with regards to environment, health, food, religious practices, etc. That can enrich your life and make it more meaningful.

2. Travelling is adventure plus education as there are so many different physical activities that you can indulge at far-locations such as mountain trekking, river rafting, bungee jumping, canoeing, snorkelling or deep sea diving, each of which is not only thrilling and exciting but also teaches something about the surrounding environment, which creates experiences that you will never forget. You can learn a lot in ‘adventure tours’ which are now being offered by many tourist operators and in doing so gain new skills and abilities, which can be of use back at home, help you get into competitions or which lead you into cultivating a new hobby. Being a licensed sky-diver, I always inspire people to take up various activities which breaks your fear. In my ‘Change Your Life’ workshop, ‘Experience Awakening’ or ‘Ultimate Life’ program, I have incorporated different challenging tasks like fire eating, fire waking, glass walking, etc. to get people out of their phobias.

3. A mundane desk job restricts you to just a couple of chores everyday but when travelling, you are out of this environment and into a challenging place where you have to think, analyse and be on your feet. Getting a cup of coffee in your place is a no-brainier, but in a far-off destination, where the language spoken is different, you have to come up with good ideas on not just this task, but many like it. As you face challenges ranging from simple to complex, your abilities to manage problems and multi-task enhances. By bringing such experiences into your life, relationships and work, you manage such arenas better and are a more competent individual.

4. Travelling to different places gets you in touch with yourself and in doing so you start appreciating people and all the things that you have. It teaches you to question what is happening in and around you, reason out any action you take and also makes you understand that everything in life or elements that enhance it are valuable and must be cherished right from people to your pet dog and also the new car you just bought…

5. By travelling your perspective of life changes as you will come across people who manage life very differently from what you have experienced so far. For example, when you travel places in Africa on Safari tours, not only will you see exotic wildlife and natural surroundings, but will also meet people who live in traditional hand-built homes, following ancient rituals and traditions, wearing tribal clothing and also being very close to nature like nowhere else.

6. Travelling to places located across a particular region such as Europe, South America or the Far East will make you learn the local languages, since you need to communicate effectively as you get around places. Learning a foreign language is not just a new experience, but one that enriches your life as such skills opens new doors of opportunities which can bring in a better quality of life.

7. Those who love to read stories will find that travelling is one activity that can turn them into story tellers. Yes, every time you travel to a new location and sightsee it, your explorations churn up personal experiences that are themselves the stuff that make the best-selling books. So write them out in a blog or in your social media pages and pretty soon, you will have a huge fan following like none other. As you write, you also develop skills in this art and your experience enriches the way the subject is presented to the audience. Personal insights, tips and guidelines on any tourist location offers information that simply cannot be found in any tourist brochure or magazine.
Liked this blog? Don’t forget to comment and share with others.

 

अधिक यात्रा करना महत्वपूर्ण क्यों है? ये है मुख्य 7 कारण

आपको यात्रा क्यों करनी चाहिए ?! क्या सचमुच दर्शनीय स्थलों को देखने जाना या दुनिया भर के दूर-दूर के स्थानों का पता लगाना फायदेमंद है? घर पर रहना, नियमित नौकरी करना और अभी जहां रह रहे हैं उस जगह के अलावा कोई और जगह नहीं जानना – क्या यह ठीक नहीं है? जो लोग वास्तव में बहुत ज्यादा यात्रा नहीं करते वे ऐसे सवाल पूछते हैं। यहाँ ऐसे टॉप सात कारणों पर एक नज़र डालते है जिससे आपको पता चलेगा कि यात्रा करना आपके लिए महत्वपूर्ण क्यों है:

1. यात्रा करने से आप उन नई चीजों को, लोगों को और जीवन की उन असामान्य बातों को देख सकते हैं जो आप घर पर बैठे नहीं जान सकते। उदाहरण के लिए, यदि आप मुंबई में रहते हैं और बीजिंग की यात्रा करते हैं, तो आप नई संस्कृति, भोजन, सुंदर स्थानों का अनुभव करेंगे और उन लोगों से दोस्ती कर पाएंगे जिन्हें आप मुंबई में रहकर नहीं जान सकते थे। आपको पर्यावरण, स्वास्थ्य, खाना, धार्मिक प्रथा आदि के संबंध में बहुत सी बातें पता चलेंगी, जो आपके जीवन को समृद्ध कर सकती हैं और इसे और अधिक सार्थक बना सकती हैं।

2. ट्रैवलिंग, एडवेंचर के साथ-साथ एजुकेशन भी है क्योंकि आप बहुत सारी अलग-अलग शारीरिक गतिविधियाँ भी करते हैं, जैसे माउंटेन ट्रेकिंग, रिवर राफ्टिंग, बंजी जंपिंग, कैनोइंग, स्नोर्कलिंग या डीप सी डाइविंग। जिनमें से हर एक एक्टिविटी न केवल रोमांचकारी और उत्तेजक है बल्कि आसपास के वातावरण के बारे में भी बहुत कुछ सिखाती है। यह ऐसे अनुभव देती है जिन्हें आप कभी नहीं भूल पाते हैं। आप कई पर्यटक ऑपरेटरों द्वारा अब पेश किए जा रहे ‘एडवेंचर टूर’ में भी बहुत कुछ सीख सकते हैं। इससे आप नए स्किल सीखते हैं और क्षमताएँ विकसित करते हैं। ये घर पर उपयोगी हो सकती हैं, आपको कम्पटीशन में शामिल होने में मदद कर सकती हैं या आप नया शौक विकसित कर सकते हैं। एक लाइसेंस प्राप्त स्काई-गोताखोर होने के नाते, मैं हमेशा लोगों को उनका डर दूर करने वाली अलग-अलग एक्टिविटी में भाग लेने के लिए प्रेरित करता हूं। मेरे ‘चेंज योर लाइफ़’ वर्कशॉप में, ‘एक्सपीरिएंस अवेकनिंग’ या ’अल्टिमेट लाइफ़’ कार्यक्रम में, मैंने लोगों को उनके डर से बाहर निकालने के लिए अलग-अलग चुनौतीपूर्ण कार्य, जैसे मुहं में आग डालना, आग पर चलना, कांच पर चलना आदि शामिल किया है।

3. बैठे-बठे की जाने वाली बोरिंग नौकरी में आप रोज बस एक-दो काम करते हैं, लेकिन यात्रा करते समय, आप इस माहौल से बाहर निकलते हैं और एक ऐसी चुनौतीपूर्ण जगह पर होते हैं जहाँ आपको सोचना है, विश्लेषण करना है और भाग-दौड़ करना है। अपनी हमेशा की जगह पर एक कप कॉफ़ी लेना कोई बड़ी बात नहीं है, लेकिन किसी ऐसी दूसरी जगह पर जहाँ भाषा अलग है, आपको यह साधारण सा काम करने के लिए भी आईडिया लगाना पड़ेगा। और आपको हर एक काम के लिए ऐसा करना पड़ेगा। जैसे-जैसे आप आसान से कठिन चालेंज का सामना करते हैं, आपकी समस्याओं को सुलझाने की और एक साथ बहुत से काम हँडल करने की क्षमता बढ़ जाती है। इस तरह के अनुभवों को अपने जीवन में, रिश्तों में और काम में लाकर, आप ऐसे कामों को अच्छे तरीके से मैनेज करते पाते हैं और एक अधिक सक्षम व्यक्ति बनते हैं।

4. अलग-अलग जगहों की यात्रा करने से आप स्वयं को जानने लगते है। ऐसा करने से आप लोगों की और उन सभी चीजों की कदर करने लगते हैं जो आपके पास हैं। यह आपके आसपास क्या हो रहा है इस पर आपको प्रश्न उठाना सिखाता है, आप जो भी कदम उठाते हैं उस पर तर्क करता है और आपको यह समझाता है कि जीवन की हर चीज या तत्व जो इसे बढ़ाते हैं, मूल्यवान हैं और आपने लोगों से, आपके पालतू कुत्ते से और यहाँ तक की अपनी खरीदी नयी कार से भी प्यार करना चाहिए।

5. यात्रा करने से आपका जीवन के प्रति दृष्टिकोण भी बदलेगा क्योंकि आप उन लोगों से मिलेंगे जिन्होंने आपसे बहुत अलग प्रकार की जिंदगी जी है। उदाहरण के लिए, जब आप सफारी टूर पर अफ्रीका की यात्रा करते हैं, तो आप न केवल असाधारण वन्यजीव और प्राकृतिक परिवेश को देखेंगे, बल्कि पारंपरिक रिवाजों और परंपराओं का पालन करने वाले, पारंपरिक हाथ से बने घरों में रहने वाले, आदिवासी कपड़े पहनने वाले और कही नहीं इतने प्रकृति के करीब रहने वाले लोगों से भी मिलेंगे।

6. किसी विशेष क्षेत्र जैसे कि यूरोप, दक्षिण अमेरिका या सुदूर पूर्व में स्थित जगहों की यात्रा करने से आप स्थानीय भाषा सीख पाएंगे, क्योंकि आपको उनकी भाषा में बातचीत करना जरुरी होगा। कोई विदेशी भाषा सीखना केवल एक नया अनुभव नहीं है, बल्कि वह आपके जीवन को समृद्ध करता है क्योंकि इससे नए अवसर मिलते हैं जो आपके जीवन को सुन्दर बना सकते हैं।

7. जिन्हें कहानियां पढ़ना पसंद हैं, यात्रा करने से वे कथाकारों में बदल सकते है। हर बार जब आप किसी नए स्थान पर जाते हैं और उसे देखते हैं, तो आपको आने वाले व्यक्तिगत अनुभव ही वे चीजें होती हैं जो सबसे अधिक बिकने वाली किताबों का मसाला बनती हैं। उन्हें एक ब्लॉग या अपने सोशल मीडिया पेजों पर लिखें और बहुत जल्द, आपके पास एक बड़ा फैन फोलोविंग होगा, जो किसी और के पास नहीं है। जैसे-जैसे आप लिखते जाते हैं, आपको इस कला में माहरत हासिल होती जाती हैं। और पढ़ने वालों को विषय कैसे बताया जा रहा है यह आपका अनुभव समृद्ध करता है। किसी भी पर्यटक स्थान के बारे में आपने बतायी हुई व्यक्तिगत जानकारी, टिप्स और मार्गदर्शन किसी भी टूरिस्ट ब्रोशर या पत्रिका में नहीं मिलेगी।

क्या आपको यह ब्लॉग पसंद आया? तो चलिए, इस पर कमेंट करना और इसे शेअर करना न भूलें।

THIS DIWALI, DO YOUR MENTAL HOUSE CLEANING

Diwali is a festival of lights no doubt, but before the grand celebration begins all of us are unanimously engaged in the process of “Diwali cleaning”. But this time, let Diwali cleaning not be confined to only the nooks & corners of our external worlds.

This Diwali let’s engage in mental house cleaning! Confused? Our brain is filled with unnecessary burden, pressure & negativity. We don’t realize it until something very catastrophic manifests in our lives which pushes us into despair. Such loss of hope suddenly brings out all the toxic words & circumstances we have fed our brain & leaves us confused. To avoid such sudden change of situations, it is essential to clean your mind of these things. And what better occasion than the grand festival of Diwali?

1. De-clutter: The first step towards cleaning anything is to declutter all the unused goods. Similarly, as far as your mind is concerned, you must accumulate your most frequent negative thoughts & declutter your mind off of them. Manage your thoughts by organizing your days & forming a routine. This will help your mind to be surer of what to expect every day. In turn, this will reinstate a sense of confidence & control.

2. Reinforcements: Positive affirmations or reinforcements help train your mind to be happier. Focussing on the good all the time is what assists your mind in the whole cleansing process. The point is to not be tired. We have always been experts at stuffing our brains with innumerable thoughts – AND we still have to DO THE SAME. The significant difference is that instead of the negative jargon, you train your mind to focus on the good things. Listen to positive affirmations on health, wealth or love from my free mobile application ‘Sneh Desai’.

3. Don’t obsess: Obsession is for the weak & wasted! Honestly, obsessing about the little things is killing your brain cells. It is keeping your mind preoccupied in unnecessary chat & training it to expect the worst. Because with obsession comes fear. And with practice, this fear cuts deep.

4. Fast-forward: A toxic habit that is subconsciously withholding us from our perfect lives is living in the past! How many hours in a day are you spending on reliving your past circumstances (irrespective of whether they are positive or negative)? Always remember, that the time you spend on focussing on your past, is the time you could have spent in shaping your bright future! Now it is your decision – do you want a better future or are you happy to go back & forth between your past & present and remain stagnant? In my ‘Change Your Life’ workshop, when we go through a process where we breakthrough from our past, people actually start living a new life.

5. Less reaction, more action: Reacting too much is exceptionally lethal. Sometimes our reactions are not under our control, and that is okay. But more often than not, how we respond to situations, people, words etc. is very much in our own hands. When we react before thinking, our actions render minimum. We are only ranting or complaining, but we need to act instead. Focus on your goals instead of complaining about the obstacles. Trust me; you will be better off!

6. Mindful Surroundings: How will your mind be at peace if your outer world is not? Sometimes, mindful surroundings help in keeping your thoughts in control. Outside influences like social media, people in your immediate vicinity etc. have a significant impact on how you look at things thus influencing your opinions & perspective. You become an average of people who you are surrounded by. So this year, make a new network of people who are more successful emotionally and financially.

7. Scrub, scrub, scrub: Every once in a while, scrub your mind by reviewing the cleansing process & keep a check on how you are doing & where you are lacking such that you may improve. To keep things neat & clean, it is important to cleanse on a daily basis and make it a habit!

चलिए, इस दिवाली हम अपने “मानसिक घर” की सफाई करते हैं!

दिवाली रोशनी का त्योहार है। इस भव्य उत्सव से पहले हम सभी “दीपावली की सफाई” करने में बिझी हो जाते हैं। लेकिन इस बार, दिपावली की सफाई को हमारे बाहरी संसार के कोनों तक सीमित न होने दें।

चलिए, इस दिवाली हम “मानसिक घर” की सफाई में जुट जाते है! क्या आप सोच में पड़ गए हैं? मतलब यह की, हमारा दिमाग अनावश्यक बोझ, दबाव और नकारात्मकता से भरा है। हम इसे तब तक नहीं समझते जब तक कि हमारे जीवन में कुछ विनाशकारी घटना नहीं होती है जो हमें निराशा में डाल देती है। इस तरह से आशा खो देने से अचानक वे सभी जहरीले शब्द और परिस्थितियां सामने आती है जो हमने अपने मस्तिष्क में बिठाये है। वे हमें भ्रमित कर देते हैं। ऐसी परिस्थितियों में अचानक आये परिवर्तन से बचने के लिए, इन चीजों को अपने दिमाग से साफ करना आवश्यक है। और इसके लिए दिवाली के भव्य त्यौहार से बेहतर अवसर कौनसा है?

1. अव्यवस्था दूर करना: कुछ भी साफ करने की दिशा में पहला कदम होता है उपयोग में न आनेवाले सभी वस्तुओं को अस्वीकार करना। इसी तरह, जहां तक आपके मन का सवाल है, आपको अपने मन में लगातार आनेवाले नकारात्मक विचारों को जमा करना होगा और उन्हें अपने दिमाग से निकाल देना होगा। अपने दिन को व्यवस्थित करके और दिनचर्या बनाकर अपने विचारों को नियंत्रित करें। इससे आपके दिमाग में हर दिन क्या उम्मीद की जा सकती है, यह तय करने में मदद मिलेगी। बदले में, इससे आत्मविश्वास और नियंत्रण की भावना दृढ़ होगी।

2. मजबूतीकरण: सकारात्मकता या मजबूतीकरण आपके दिमाग को खुश रहने में मदद करते हैं। हर समय अच्छी बातों पर ध्यान देने से इस पूरी सफाई प्रक्रिया में आपके दिमाग को सहायता मिलती है। इसमें थकना नहीं है। हम हमेशा हमारे दिमाग में असंख्य विचार भरते रहे हैं – और हमें अभी भी वही करना है। महत्वपूर्ण अंतर यह है कि नकारात्मकता के बजाय, आप अच्छी चीजों पर ध्यान केंद्रित करने के लिए अपने दिमाग को प्रशिक्षित करते हैं। मेरे मुफ्त मोबाइल एप्लिकेशन ‘स्नेह देसाई’ पर आप स्वास्थ्य, धन या प्यार पर सकारात्मक पुष्टि सुन सकते हैं।

3. जुनून मत कीजिये (ग्रस्त हो जाना): जुनून, कमजोर और बर्बाद हुए लोगों के लिए होता है! सच कहे तो, छोटी चीजों का जुनून आपके मस्तिष्क की कोशिकाओं को ख़त्म कर रहा है। यह आपके दिमाग को अनावश्यक बातों में व्यस्त रखता है और दिमाग को बुरी उम्मीदों के लिए प्रशिक्षण देता है। क्योंकि जुनून के साथ डर आता है। और समय के साथ, यह डर गहराई से समा जाता है।

4. फास्ट-फॉरवर्ड: एक बुरी आदत जो अवचेतन रूप से हमें अपना संपूर्ण जीवन जीने से रोक रही है, वह है भूतकाल में रहना! आप अपनी पिछली परिस्थितियों के बारे में सोचने पर कितने घंटे खर्च कर रहे हैं (भले ही वे सकारात्मक या नकारात्मक हों)? हमेशा याद रखें, कि जब आप अपने अतीत पर ध्यान केंद्रित करने पर जो समय खर्च करते हैं, वह समय आप अपने उज्ज्वल भविष्य को आकार देने में खर्च कर सकते थे! अब यह आपका निर्णय है – क्या आप एक बेहतर भविष्य चाहते हैं या आप अपने अतीत और वर्तमान के बीच अटके रहने और स्थिर रहने में ही खुश हैं? मेरे‘चेंज योर लाइफ’ कार्यशाला में, जब हम ऐसी प्रक्रिया से गुजरते हैं जहां हम अपने अतीत से नाता तोड़ देते हैं, तो लोग वास्तव में एक नया जीवन जीना शुरू करते हैं।

5. कम प्रतिक्रिया दीजिये, ज्यादा काम कीजिये: बहुत अधिक प्रतिक्रिया देना बहुत खतरनाक होता है। कभी-कभी हमारी प्रतिक्रियाएं हमारे नियंत्रण में नहीं होती है और यह ठीक है। लेकिन ज्यादातर, हम परिस्थितियों, लोगों, शब्दों आदि का जवाब कैसे देते हैं, यह हमारे हाथों में होता है। जब हम सोचने से पहले प्रतिक्रिया देते हैं, तो हमारा काम बहुत कम होता है। हम केवल डींगे हाकते हैं या शिकायत करते हैं, लेकिन हमें इसके बजाय कार्य करने की जरूरत है। बाधाओं के बारे में शिकायत करने के बजाय अपने लक्ष्यों पर बस ध्यान केंद्रित कीजिये। विश्वास कीजिये; आप और कार्यशील हो जायेंगे!

6. चौकस परिवेश: यदि आपकी बाहरी दुनिया शांत नहीं है तो आपका दिमाग कैसे शांत रहेगा? कभी-कभी, सजग वातावरण आपके विचारों को नियंत्रण में रखने में मदद करता है। बाहरी प्रभाव जैसे सामाजिक मीडिया, आपके पास पड़ोस के लोग इत्यादि आपकी राय और दृष्टी को बहुत प्रभावित करते है। आप उन लोगों जैसे औसत बन जाते हैं जिनसे आप घिरे हुए हैं। तो इस साल, उन लोगों का एक नया नेटवर्क बनाएं जो भावनात्मक और वित्तीय रूप से अधिक सफल हैं।

7. रगड़ रगड़ कर सफ़ाई कीजिये: थोड़े-थोड़े समय के बाद सफाई प्रक्रिया की समीक्षा कीजिये। आप यह काम कैसे कर रहे और उसे कैसे सुधार सकते हैं इस बारे में सोचिये। चीजों को साफ-सुथरा रखने के लिए, उसे हर दिन साफ करना और इसे आदत बनाना महत्वपूर्ण है!

WAYS TO FIND PLEASURE IN YOUR WORK

“Work is Worship”, or is it? This statement majorly falls true for people who are fortunate enough to follow their passion or if they are doing something that they absolutely love. But for those who have accepted what has befallen on them, work is not always fun or maybe it is never fun at all! Today’s post is for people who find their work burdensome and feel extremely pressured by it. I interact with a lot of people on a daily basis through my ‘work’ and believe you me it is very easy for me to point out which person is actually truly happy with his job or his work or his “family” business. And I completely empathize with all of your problems especially when it comes to this particular topic because it is very difficult for me to imagine what I would do if I were not a motivational speaker/trainer. In fact, I can’t imagine my life without it. Thus, for people who are not enjoying what they are currently doing in their lives, I want to personally take the onus of changing it!

Make a list. It is a seemingly staple/boring first step, but it is a GREAT start! Make a list of all your strengths and weaknesses, and contemplate how you can utilize your strengths in your current workspace. But the most important thing to remember while you do this is that you are BIGGER than your work. This means that no matter how dreadful your work is you CAN handle it. You are capable and talented – you just need to channelize your strengths more smartly. This is also a great way to stay motivated whenever you face hardships. You are always greater, better and stronger than the pressures you are feeding yourself about your job/work.

The next step is to be ready to learn. Once you make a list you become aware of your strengths but also your weaknesses, i.e., now you know where you are lacking. For example – if you are working as a marketing head but if you are not too friendly or if you are not a people’s person then you shall not be able to give your 100% even though you probably have a great educational degree to support your roles and responsibility. So learn to be accommodating and adapt to different people. Sit with them talk about their likes/dislikes and what their motivations in life are. The more you tap into people’s positive sides, the more you shall be able to learn from them and in turn, they shall actually like having shared such information with you. See? So easy!

Sometimes all you need to do is change a habit or two and you are sorted. Most of our problems at workplace really lie in ego issues. If you have one of those problems – like if you don’t get along with your boss/colleagues/peers due to any disagreement or something, you need to re-evaluate your situation such that you can also view problems from their perspective. And think objectively. Is it even worth it to have stressed out relations with someone you have to meet and ‘greet’ every day? Sometimes these minute problems become a huge mountain of negativity. This is exactly what you need to tackle. If a sorry or a more gentle or friendly behavior can solve it all, please feel free to take the first step – especially if you proactively want to change how you feel about your work.

Some people also struggle with long hours and deadlines etc. I hate to break this to you, but everyone faces this. You shall have to improve yourself. If you always aim at doing GOOD work which nobody can question deadlines won’t pressure you. So don’t leave the best for the last, put your best foot forward now!

One of the simplest ways to enjoy work is to not bog yourself down with expectations. Don’t work because you want credit or praise or a raise! When you put pressure on yourself to work for these things you tend to think too much instead of giving your 100%. Make your motivations about the quality of your work. When your focus shifts there, credit, praise and raise will come to you by default without much hassle – and then you will be able to view it as a true achievement! Good luck and start doing these things NOW!

In my online course, ‘Money & Success’, there are many such ideas shared to take out the best of your hidden abilities.

आपके काम में खुशी ढूंढने के तरीके

 

“काम ही पूजा है”– क्या यह सच है? यह बात मुख्य रूप से उन भाग्यशाली लोगों के लिए सच होती है जो अपने जुनून को पूरा करनेवाला ही काम कर रहे होते हैं या ऐसे लोग जो ऐसा कुछ कर रहे होते हैं जिसे वे बहुत पसंद करते हैं। लेकिन उन लोगों के लिए जिनपर काम थोपा गया है, उनके लिए यह हमेशा मजेदार नहीं होता है या शायद कभी भी मजेदार नहीं होता! आज का पोस्ट उन लोगों के लिए है जो अपना काम बोझिल पाते हैं और इस कारण अत्यधिक दबाव महसूस करते हैं। मैं अपने ‘काम’ के माध्यम से हर दिन बहुत से लोगों से बातचीत करता हूं और आपको विश्वास देता हूं कि यह बताना मेरे लिए बहुत आसान है कि कौन सा व्यक्ति वास्तव में अपने काम या “परिवारिक” व्यवसाय से खुश है। मैं आपकी सभी समस्याओं के साथ पूरी तरह से सहानुभूति व्यक्त करता हूं, खासकर जब इस विषय की बात आती है क्योंकि मेरे लिए भी यह कल्पना करना बहुत ही मुश्किल है कि मैं क्या करता यदि मैं प्रेरक वक्ता / प्रशिक्षक नहीं होता। वास्तव में, मैं इसके बिना अपने जीवन की कल्पना नहीं कर सकता। इसलिये, उन लोगों के लिए जो अपने काम का आनंद नहीं ले पाते हैं, मैं व्यक्तिगत रूप से इसे बदलना चाहता हूं!

एक सूची बनाईये। यह हमेशा बताया जानेवाला उबाऊ पहला कदम होने के बावजूद अच्छी शुरुआत है! अपनी सभी अच्छाईयों और कमजोरियों की एक सूची बनाएं और इस बात पर विचार करें कि आप अपने वर्तमान कार्यक्षेत्र में अपनी अच्छाईयों का उपयोग कैसे कर सकते हैं। ऐसा करते समय आपको यह याद रखना होगा की आप अपने काम से बढ़कर हैं। इसका मतलब यह है कि आपका काम कितना ही कठिन क्यों ना हो आप इसे संभाल सकते हैं। आप सक्षम और प्रतिभाशाली हैं – आपको बस अपनी ताकत को अधिक बुद्धिमानी से उपयोग करने की आवश्यकता है। जब भी आप कठिनाइयों का सामना करते हैं, तब प्रेरित होने का यह एक शानदार तरीका है। आप अपने काम को लेकर खुद पर जो दबाव डालते हैं उससे आप हमेशा ज्यादा अच्छे, बेहतर और मजबूत होते हैं।

अगला कदम सीखने के लिए तैयार होना है। एक बार जब आप एक सूची बनाते हैं तो आप अपनी ताकत के बारे में ही नहीं बल्कि आपकी कमजोरियों के बारे में भी जागरूक हो जाते हैं, यानी, अब आप जानते हैं कि आप कहां कम पड़ रहे हैं। उदाहरण के लिए – यदि आप मार्केटिंग हेड के रूप में काम कर रहे हैं लेकिन आप बहुत मित्रवत नहीं हैं या यदि आप लोगों में घुलनेमिलनेवाले व्यक्ति नहीं हैं तो आप अपनी क्षमता का 100% देने में सक्षम नहीं होंगे, भले ही आपके पास एक अच्छी शैक्षणिक डिग्री हो। तो अलग-अलग लोगों से मित्रता करना और उनसे घुलनामिलना सीखें। उनके साथ बैठें, उनकी पसंद / नापसंदों और जीवन में उनकी प्रेरणा के बारे में बात करें। जितना अधिक आप लोगों के सकारात्मक पक्षों पर ध्यान देंगे, उतना ही आप उनसे सीखेंगे और बदले में वे आपके साथ ऐसी जानकारी साझा करना पसंद करेंगे। देखा? कितना आसान है!

कभी-कभी आपको बस एक या दो आदतें बदलनी पड़ती है और समस्या सुलझ जाती है। कार्यस्थल पर हमारी अधिकांश समस्याएं वास्तव में अहंकार के कारण हैं। यदि आपकी समस्या भी उनमें से एक है – जैसे कि यदि आप किसी भी असहमति या किसी चीज़ के कारण अपने मालिक / सहयोगियों / साथियों के साथ नहीं बनती हैं, तो आपको अपनी स्थिति का दोबारा मूल्यांकन करना होगा ताकि आप उनके नजर से समस्याओं को देख सकें। आप तटस्थ भाव से सोचिये। ऐसा व्यक्ति जिसके साथ आपको हर दिन मिलना और नमस्कार कहना होता है उनसे आप ऐसा तनावपूर्ण संबध रखना फायदेमंद होगा? कभी-कभी ऐसी छोटी-छोटी समस्याएं नकारात्मकता का एक बड़ा पर्वत बन जाती हैं। इससे आपको निपटने की ज़रूरत है। यदि खेद व्यक्त करने से या अधिक सौम्य या मित्रवत व्यवहार करने से यह सब हल हो सकता है, तो कृपया पहल करने में संकोच न करें – खासकर यदि आप अपने काम के बारे में जो महसूस करते हैं उसे सक्रिय रूप से बदलना चाहते हैं।

कुछ लोगों को काम के लंबे घंटे और समय सीमा को लेकर भी समस्या होती हैं। मुझे यह बताना अच्छा नहीं लगता, लेकिन हर कोई इसका सामना करता है। आपको खुद को सुधारना होगा। यदि आप हमेशा अच्छे काम करने का लक्ष्य रखते हैं, जिस पर कोई सवाल नहीं उठा सकता तब आप पर समय सीमा का कोई दबाव नहीं रहेगा। तो चलिए अपना सर्वोत्तम गुण अभी दिखाइए, उसे छुपकर पीछे मत रखिये

काम का आनंद लेने के सबसे सरल तरीकों में से एक है खुद को उम्मीदों के बोझ तले नहीं दबाना। गौरव या प्रशंसा या वेतन वृद्धि की चाहत के लिए काम ना करें! जब आप इन चीजों के बारे में बहुत सोचते हैं तो आप काम को अपना 100% नहीं दे पाते। अपने काम की गुणवत्ता को अपनी प्रेरणा बनाएं। जब आपका ध्यान उस ओर बदल जाता है तब गौरव, प्रशंसा और वेतन वृद्धि अपने आप ही बिना किसी परेशानी के आपके पास आ जाएगी। और फिर आप इसे एक वास्तविक उपलब्धि के रूप में देख पाएंगे! शुभकामनाएं और इन चीजों को अभी करना शुरू कीजिये!

मेरे ऑनलाइन पाठ्यक्रम ‘Money & Success’ में ऐसे कई विचार हैं जो आपकी छुपी क्षमताओं को सर्वोत्तम तरीके से बाहर निकलने के लिए साझा किए जाते हैं।

HAVE YOU LEARNT THIS FROM NATURE ?

What is the one thing all of us are running out of in today’s era? Time. The world is whirring all around us because everyone is in a hurry and there is no time. And because of this unnecessary hurry, all of us are ignoring our natural instincts. All of us are trying to crunch as many activities as possible in just 24 hours forgetting the true purpose of our lives. Are we meant to only run and not stop, reflect and make better choices for ourselves? The only way to gain back our natural behavior is by looking at nature and how it reacts to changing circumstances. Which is why today’s discussion is about how there are some very important things we can learn from nature.

One of the most essential things that we need to incorporate from nature is its way of recovering from destruction. Everyone including the nature around us goes through damage. Although for us it is both physical as well as emotional damage. Nevertheless what is important is how nature tends to repair itself on its own. We on the other hand are constantly dependent on external factors in order to go back to our normal selves. This does more damage to us. We become restless and try all kinds of methods to bring back our mood or energy level to what it usually is – although all we really need to do is identify the changes that we are going through (both physically and/or emotionally) and accept it as something normal or organic. It becomes extremely empowering once we get such control over our lives. No external effort needs to be applied. If we begin to repair our own selves emotionally (quite like nature), no extreme situation shall be able to disturb us. We shall learn to become more dynamic and adjusting according to the changing circumstances.

One huge problem that keeps us from such repairing is our lack of patience. This again is a very significant quality of nature, i.e., the ability to breathe through difficult situations. It is so easy and hassle-free. You don’t really have to do anything just remember to breathe especially when you are feeling uncomfortable due to any specific changes in your life. Have you tried my 15-minutes process of ‘Dynamic Breathing’? These breathing techniques shall help you be more patient. It shall remind you that you do not have to act impulsively. You can take all the time that you need.

By now, I am sure you have understood that it is the law of nature to go at your own pace. There is no hurry, no race. What you already have and will receive later is being determined by you at this very moment – so all you need to take care of is your own self – by not running in a rat race but by leading yourself to a position where you can take controlled decisions in your favor. Trust yourself and work at things at your own pace and by listening to your own self. For which it is important to reflect at your choices – go back in time and look at your previous mistakes and how different they could be if you listened to your heart and not your head. Because that’s what nature does. All its thinking is done through the heart and not the mind. The first instinct that most of us have is generally of the heart – but when we take that instinct and doubt it is what lands us into trouble. I explain this idea in more detail in my advance programs like ‘Awakening’ or ‘Ultimate Life’.

And when trouble comes nature is able to handle it in a much better way than us. For example birds in the West migrate themselves to a warmer country slowly and steadily upon sensing the very first signals of winter. They do not wait for winter to come and settle down. But us? We invite trouble and let it settle down and pressure us to a point of frustration and then device a plan for handling it. We should be ready for anything and everything coming at us. You should be highly prepared – because problems won’t knock at your door before coming in.

In conclusion, the easiest point to remember is that nature is simple. It does not invite complications and is very easy even during complex circumstances. That is how you want to live your life too especially if you are the kind of person who stresses and is full of anxiety.

क्या आपने प्रकृति से ये सीखा है?

इस युग में कौनसी चीज तेजी से कम हो रही है? समय! दुनिया हमारी चारों ओर घूम रही है क्योंकि हर कोई जल्दी में है और हमारे पास कोई समय नहीं है। इस अनावश्यक भागदौड़ के कारण, हम सभी हमारे प्राकृतिक प्रवृत्तियों को अनदेखा कर रहे हैं। हम सभी अपने जीवन के सही उद्देश्य भूलकर 24 घंटों में जितना ज्यादा संभव हो उतना काम करने की कोशिश कर रहे हैं। क्या हम बगैर रुके केवल भाग दौड़ करने और सोचने तथा अपने लिए अच्छी चीजे चुनने के लिए बने है? प्रकृति को देखकर और जानकार की बदलती परिस्थितियों में वह कैसी प्रतिक्रिया देती है, हमारे प्राकृतिक व्यवहार को वापस पाने का एकमात्र तरीका है। यही कारण है कि आज की चर्चा इस बारे में है कि प्रकृति से कुछ महत्वपूर्ण चीजें हम कैसे सीख सकते हैं।

सबसे आवश्यक चीजों में से एक, जिसे हमें प्रकृति से सिखने की आवश्यकता है – वह है विनाश से ठीक होने का तरीका। हम देखते है की हमारे चारों ओर प्रकृति के साथ-साथ हर किसी का कुछ न कुछ नुकसान हो रहा है। हालांकि हमारे लिए यह भौतिक और भावनात्मक क्षति, दोनों है। फिर भी महत्वपूर्ण बात यह है कि प्रकृति खुद को कैसे सुधारती है। दूसरी ओर हम अपने आप को सामान्य करने के लिए बाहरी कारकों पर लगातार निर्भर रहते हैं। यह हमें अधिक नुकसान पहुंचाता है। हम बेचैन हो जाते हैं और हमारी सामान्य मनोदशा या ऊर्जा स्तर को वापस लाने के लिए हर कोशिश करते हैं। हालांकि हमें वास्तव में शारीरिक और भावनात्मक दोनों, परिवर्तनों की पहचान करना है जो हममें हो रहे हैं। इसे सामान्य या जैविक रूप में स्वीकार करना है। जब हम अपने जीवन पर इस तरह का नियंत्रण प्राप्त करते हैं तो यह बहुत मजबूत हो जाता है। कोई बाहरी प्रयास लागू करने की जरूरत नहीं होती है। अगर हम प्रकृति की तरह की अपने आप को भावनात्मक रूप से सुधारना शुरू करते हैं, तो कोई भी बुरी स्थिति हमें परेशान नहीं कर सकती। हम बदलती परिस्थितियों के अनुसार अधिक गतिशील और अनुकूल होना सीखेंगे।

हमारे धैर्य की कमी एक बड़ी समस्या है जो हमें सुधरने से रोकती है। प्रकृति का दूसरा बहुत ही महत्वपूर्ण गुण है धैर्य। यानी, मुश्किल परिस्थितियों का आराम से सामना करना! धैर्य रखना बहुत आसान है। इसमें कोई परेशानी नहीं होती है। खासकर जब आप अपने जीवन में किसी भी विशिष्ट बदलाव के कारण असहज महसूस कर रहे हैं तब आपको वास्तव में कुछ भी करने की ज़रूरत नहीं होती है, इतनी आराम से उसका सामना कीजिये जैसे की आप साँस ले रहे हो। क्या आपने मेरी 15-मिनट की “डायनामिक ब्रीथिंग” (Dynamic Breathing) प्रक्रिया की है? श्वास की यह तकनीक आपको अधिक धीरज रखने में मदद करेगी। यह आपको याद दिलाएगी कि आपको आवेगपूर्ण होकर काम करने की आवश्यकता नहीं है। आप आराम से वह काम कर सकते हैं।

मुझे विश्वास है कि अब आप समझ गए हैं कि यह अपनी गति से काम करना प्रकृति का कानून है। कोई जल्दी नहीं है, कोई दौड़ नहीं है। जो आपके पास पहले से है और जो बाद में मिलनेवाला है, वह इस समय आपके द्वारा निर्धारित किया जा रहा है। इसलिए आपको केवल अपनी खुद की देखभाल करने की ज़रूरत है – चूहे की दौड़ में शामिल होकर नहीं लेकिन खुद को उस स्थिति में ले जाकर जहां आप आपके पक्ष में निर्णय ले सकते हैं। आप अपने आप पर भरोसा करें और अपनी गति से खुद के दिल की सुनकर चीजों पर काम करें। उसके लिए आपके विकल्पों पर सोचना महत्वपूर्ण है। बीते समय के बारे में सोचे और अपनी पिछली गलतियों को देखें। सोचिये की यदि आप अपने दिल की बात सुनते न कि आपके दिमाग की तो चीजे कितनी अलग हो सकती थी। क्योंकि प्रकृति भी ऐसा ही करती है। उनकी सारी सोच दिल के माध्यम से होती है न कि दिमाग से। आमतौर पर हम में से अधिकांश लोग पहली बार दिल से ही सोचते है। लेकिन जब हम उस पर संदेह करते हैं तब यह हमें परेशानी में डाल देता है। मैं इस विचार को ‘अवेकनिंग’ ( Awakening) या ‘अल्टीमेट लाइफ’ (Ultimate Life) जैसे अपने अग्रिम कार्यक्रमों में अधिक अच्छे से समझाता हूं।

जब परेशानी आती है तब प्रकृति उसे हमसे बेहतर तरीके से संभालती है। उदाहरण के लिए पश्चिम में पक्षी जब सर्दीयों के पहले संकेतों को महसूस करने लगते है तब वे धीरे-धीरे किसी गर्म देश में स्थानांतरित होने लगते है। वे सर्दियों के पूरी तरह आने का इंतजार नहीं करते हैं। लेकिन हम? हम परेशानी को आमंत्रित करते हैं और इससे निराश होते है और फिर उसे दूर करने की योजना बनाते हैं। हमने हमारी ओर आनेवाली हर बात के लिए तैयार रहना चाहिए। आपको पहले से ही तैयार रहना चाहिए – क्योंकि समस्याएं आने से पहले आपके दरवाजे पर दस्तक नहीं देगी।

अंत में, यह पक्का याद रखे कि प्रकृति सरल है। यह जटिल परिस्थितियों के दौरान जटिलताओं को आमंत्रित नहीं करती और बहुत आराम से रहती है। यदि आप ऐसे व्यक्ति हैं जो तनाव और चिंता से भरे हुए हैं तब आपने इस तरह का जीवन जीना चाहिए।