3 STEPS: TURN YOUR PAIN INTO A SPIRITUAL EXPERIENCE!

This topic came to my mind after I recently completed my 4-days spiritual retreat ‘Experience Awakening’ where we talked about turning any pain into a spiritual experience. I am sure most of you are aware of the common saying “no pain, no gain.” However, in practice, most of us are unable to foresee how our present pain benefits us in the future. Have we not often looked back upon our miseries & thanked our struggles & pain? Because it is only then that we are truly able to cherish our successes. Therefore, it is essential that we teach ourselves to profit from this pain in the present itself! If you are going through any trouble, pain, anxiety, stress, depression, unhappiness, loneliness, anger, jealousy – or any other negative emotion – this post is for you because we are going to discuss how to use this to gain a fruitful spiritual experience!

Step 1 – Convert

– One simple way to struggle with pain yet not feel it is to convert it into something that you might care about. This step is fairly easy for artists because every painter, writer, actor or anyone even remotely connected to any field of art have one thing in common. They have all struggled with their inner demons! The process of struggling is what makes them stand out. But what about those who are not artists? Well, it is easier because your livelihood is not dependent on this work of art. Thus, you need not be perfect. So even if you are not the most perfect writer, you can still write your feelings down. Because it does not need to be perfect, it simply needs to be honest! And there’s no one to judge you. Simply writing down your issues can help you gain clarity. How?

Step 2 – Realize

– Once you choose the tool of your choice to convert your negative emotion into something worthwhile, you will automatically be hit by many realizations. For example, you will find out exactly what you have been doing wrong, or what kind of words trigger certain insecurities within you & make you negative, or which person is bothering you to no end! The whole point is to be able to open up to your own self & simply accept the problem or the pain. Pain is meant to be felt, just like how you feel happiness! Once you start avoiding the pain, you will attract more problems. However, once you realize so as to what the issue is, i.e., once you get that clarity (it could also be a certain defect or fault in your deeds or words, and it’s okay!) of the obstacle to your peace of mind, you will automatically KNOW what you NEED to do in order to get back to normal!

Step 3 – Let It Go

– Simply let it go. Whatever difficulty it is that you are facing, can be generalized & made to feel like a privilege in front of many other BIGGER problems in the world. This does not mean that your issues are not important, but the whole point of a spiritual upliftment is the fact that you shall feel like just a drop in the ocean yet capable of BIG things in life. Again how? By letting your problems go. More often than not, what bothers us is our ego. Our ego faces major difficulties in accepting certain perspectives. However, if we just let go of it AFTER the aforementioned realization we can be more productive, happy & accepting!

It is very important to note that this “letting go” needs to happen in an above mentioned manner ONLY. If you force yourself to let go without correct realizations or epiphanies, you will only end up confusing yourself & feel lost. Which is not what we want if you truly want to LET GO an obstacle from its roots. This is for those long-term serious issues that you have been facing or trying to overcome for a significant period of time. If you’d like to learn and know more, I would strongly recommend you to listen to my special program ‘Energizer 4: Every problem has a spiritual solution.’

3 कदम: अपनी पीड़ा को एक आध्यात्मिक अनुभव में बदल डालिए!

 

यह विषय मेरे दिमाग में तब आया जब मैंने हाल ही में अपने 4-दिनों के आध्यात्मिक एकांतवास ‘अनुभव जागृति’ (Experience Awakening) को पूरा किया, जहां हमने किसी भी दर्द को आध्यात्मिक अनुभव में बदलने के बारे में बात की। मुझे विश्वास है कि आप में से ज्यादातर लोगों ने यह मुहावरा सुना होगा- “बिना कष्ट किये कोई फल नहीं मिलता”। हालांकि, व्यावहारिक रूप से, हम में से बहुत सारे लोगों को यह समझ में नहीं आता की अभी के दर्द से हमें भविष्य में क्या लाभ होगा। क्या हमने अक्सर हमारे पुराने दुखों को याद नहीं किया है और हमारे संघर्ष और दर्द का महत्त्व समझा है? क्योंकि केवल तभी हम सही में हमारी सफलताओं को पूरी तरह से संजोते हैं। इसलिए, यह जरुरी है कि हम अभी से इस दर्द से खुद को सिखाएं! यदि आप किसी भी परेशानी, दर्द, चिंता, तनाव, अवसाद, दुःख, अकेलापन, क्रोध, ईर्ष्या – या कोई अन्य नकारात्मक भावना से गुजर रहे हैं – तब यह पोस्ट आपके लिए है, क्योंकि हम चर्चा करने जा रहे हैं कि एक उपयोगी आध्यात्मिक अनुभव लेने के लिए इसका उपयोग कैसा किया जाए!

चरण 1 – बदलें

– दर्द से संघर्ष करने का एक आसान तरीका है – इसे उस चीज़ में बदल डालना जिसकी आप परवाह कर सकते हैं। यह कदम कलाकारों के लिए काफी आसान है क्योंकि प्रत्येक चित्रकार, लेखक, अभिनेता या किसी भी कला के किसी भी क्षेत्र से जुड़े किसी के लिए भी एक चीज़ समान है। उन सभी ने अपने भीतर के शैतानों के साथ संघर्ष किया हैं! संघर्ष के कारण ही वे खास बन गए है। लेकिन उन लोगों के बारे में क्या जो कलाकार नहीं हैं? खैर, यह आसान है क्योंकि आपकी आजीविका कला पर निर्भर नहीं है। और इसलिए, आपको आदर्श होने की जरुरत नहीं हैं। आप सबसे अच्छे लेखक भले ही ना हो, फिर भी आप अपनी भावनाओं को लिख सकते हैं। क्योंकि इसमें सही होने की आवश्यकता नहीं है, इसमें केवल ईमानदार होने की जरूरत है! और आप पर फैसला सुनाने वाला कोई नहीं है। बस अपने मुद्दों को लिखने से आपको स्पष्टता मिलने में मदद हो सकती है। यह कैसे करें?

चरण 2 – समझें

– एक बार जब आप अपनी नकारात्मक भावना को कुछ सार्थक रूप में परिवर्तित करने के लिए अपनी पसंद का साधन चुनते हैं, तो आप खुद को बहुत कुछ समझ में आ जायेगा। उदाहरण के लिए, आपको यह पता चलेगा कि आप क्या गलत कर रहे हैं या किस प्रकार के शब्द आपके भीतर कुछ असुरक्षाएं निर्माण करती हैं और आपको नकारात्मक बनाती हैं या कौन सा व्यक्ति आपको बहुत ज्यादा परेशान कर रहा है! पूरा मुद्दा अपने आप को खुला करने और समस्या या दर्द को स्वीकार करने में सक्षम बनाना है। जैसे आप खुशी महसूस करते हैं, दर्द भी वैसे ही महसूस करने के लिए होता है! जब आप दर्द से बचने की कोशिश करने लगते हैं, तो आपको अधिक समस्याएं आयेगी। हालांकि, एक बार जब आप महसूस करते हैं कि समस्या क्या है, यानी, जब आपको उस विषय पर स्पष्टता आ जाती हैं जो आपके मन की शांति में बाधा डाल रही हैं (यह आपके कार्य या शब्दों के दोष या गलती के कारण भी हो सकता है और यह बड़ी बात नहीं है!) तब आपको खुद ही पता चल जाएगा कि सामान्य होने के लिए आपको क्या करना है!

चरण 3 – इसे भूल जाइये

– बस इसे भूल जाइये। आप जिस भी कठिनाईयों का सामना कर रहे हैं, उसे सामान्य किया जा सकता है। दुनिया की कई अन्य बड़ी-बड़ी समस्याओं के सामने ये एकदम छोटे लगने लगते है। इसका मतलब यह नहीं है कि आपके मुद्दे महत्वपूर्ण नहीं हैं, लेकिन आध्यात्मिक उत्थान का यह मुद्दा है कि आप समुद्र में बस एक बूंद की तरह महसूस करेंगे, लेकिन फिर भी जीवन में बड़ी चीजें करने लायक रहेंगे। फिर से प्रश्न आता है की यह कैसे होगा? अपनी समस्याओं को भूलकर। हमें अक्सर जो परेशान करता है वह हमारा अहंकार ही होता है। कुछ विचारों को स्वीकार करने में हमारे अहंकार को बड़ी कठिनाई होती है। हालांकि, अगर हम जरुरी सोच के बाद इसे छोड़ दें तो हम ज्यादा उत्पादक, खुश और स्वीकार करने वाले हो सकते हैं!

यह ध्यान रखना बहुत महत्वपूर्ण है कि यह “भूल जाना” केवल ऊपर दिए गए तरीके से होने की आवश्यकता है। यदि आप खुद को सही अहसास के बिना भूल जाने के लिए मजबूर करते हैं, तो आप केवल खुद को उलझन में डाल देंगे और खो जाएंगे। हम नहीं चाहते की वैसा हो, यदि आप सही में जड़ों से बाधा को दूर करना चाहते हैं। यह उन दीर्घकालिक गंभीर मुद्दों के लिए है जिनका आप सामना कर रहे हैं या बहुत समय से उसे दूर करने की कोशिश कर रहे हैं। यदि आप सीखना और जानना चाहते हैं, तो मैं आपको अपने विशेष कार्यक्रम ‘एनरजायज़र 4: प्रत्येक समस्या का आध्यात्मिक समाधान होता है’, (‘Energizer 4: Every problem has a spiritual solution.’) को सुनने की पक्की सलाह देता हूं।

ARE YOU A LEADER OR A MANAGER?

While discussing my online course ‘Money & Success’, one of my friends asked me if it is better to be a leader or a manager. Not everyone who is a leader is a manager & vice-versa. There is a very thin line between the two. By merely being in the position of a manager, you don’t become a good leader. Leaders have certain instincts which a manager may or may not have. However, it is essential for you to be able to distinguish between the two such that you understand the difference between the core responsibilities of the most critical roles within a company.

Let’s see how different they are so that you can figure out whether you’re a leader or a manager.

1. Vision: Leaders are generally the visionaries within a company. With their sheer far-sightedness, they can make the rest of the employees follow their dreams. The position of the company in the next 5-10 years depends upon the vision of the leader & not the manager. In fact, managers work towards accomplishing that vision themselves!

2. Risk: Managers are not in the position of taking risks within an organisation. The risk factor within a company solely lies on the shoulders of the leaders. Leaders are willing to take risks to fulfil their objectives whereas managers are appointed to control risk. Therefore, leaders bring about change whereas managers only stick to well-defined rules & regulations.

3. Orders: Leaders give them, managers execute them! Leaders are not systematic enough to carry out orders. On the other hand, managers are organised & know how to make the employees within an organisation work harmoniously.

4. Inspire: Leaders engage people. Managers only delegate responsibilities to people. Leaders understand that a team unified by one purpose shall work more effectively than a group which works separately or on its own. Hence, leaders are responsible for inspiring the employees – to make everyone feel like they belong to something bigger. Managers have however mastered the art of making each employee work in unison. They are experts at making these employees work together as a unified team.

5. Uniqueness: Leaders can easily be themselves. They are used to having their personalities out there which is why they are self-aware. They are always working towards creating a brand for themselves which others can look upto. Hence, they are unique, i.e., they have a style of their own which no one can copy. However, managers are not as authentic. More often than not they follow a code of conduct which may be expected out of them instead of being their own selves.

6. Focus: Leaders focus on objectives, whereas managers set the goals for those objectives. Objectives are long-term whereas goals are short tasks aimed at achieving those objectives. Thus, leaders think long-term whereas managers are focussed on short-term assignments. As a result of which, leaders are learning something new every day, i.e., they grow on a personal level while managing their responsibilities. Managers, on the other hand, are left with perfecting existing skills.

7. Relationships: Leaders feel the need to build relationships because they spend most of their time with people. They ensure that they have the belief & faith of the people around them. However, managers are more analytical. They are only concerned with attaining their set aims. They are not necessarily looking to become emotionally attached to the people they work with. Leaders aim at building loyalty & trust, but managers only focus on working with employees – analyzing their individual performances.

Leaders are the ones who have solutions to all the problems whereas managers simply direct employees to their duties. Now, the million dollar question remains – are you a leader or a manager? Well, if you are one of those who’d like to get upgraded as a leader and sell more effectively, I suggest you one of our favorite books ‘The Great Salesman’ from our product basket. Happy reading!

क्या आप एक नेता हैं या मॅनेजर?

 

मेरे ऑनलाइन पाठ्यक्रम ‘मनी एंड सक्सेस’ के बारे में चर्चा करते समय, मेरे एक मित्र ने मुझसे पूछा कि क्या नेता होना बेहतर है या फिर मॅनेजर। जरुरी नहीं की हर एक नेता मॅनेजर भी हो या हर मॅनेजर नेता हो। दोनों के बीच एक बहुत पतली रेखा है। केवल मॅनेजर बन जाने से आप एक अच्छे नेता नहीं बनते हैं। नेताओं के पास कुछ सहज प्रवृत्ति होती हैं जो मॅनेजर के पास हो भी सकती है या नहीं भी। हालांकि, आपके लिए यह आवश्यक है कि आप दोनों के बीच अंतर कर सकें। जिससे आप किसी कंपनी के भीतर सबसे महत्वपूर्ण भूमिकाओं की मूल जिम्मेदारियों के बीच अंतर को समझ सकें।
चलिए, देखते हैं कि वे कितने अलग हैं ताकि आप यह पता लगा सकें कि आप नेता हैं या मॅनेजर हैं।

1. दूरदर्शिता: नेता आमतौर पर एक कंपनी के भीतर दूरदर्शी होते हैं। केवल अपनी दूरदृष्टि के कारण, वे दुसरे कर्मचारियों को उनके सपनों का पीछा करने लगा सकते हैं। अगले 5-10 वर्षों में कंपनी की स्थिति नेता की दृष्टि पर निर्भर करती है, न कि मॅनेजर के। वास्तव में, मॅनेजर खुद उस दृष्टि को पूरा करने की दिशा में काम करते हैं!

2. जोखिम उठाना: मॅनेजर किसी संगठन के भीतर जोखिम लेने की स्थिति में नहीं होते हैं। किसी कंपनी के भीतर जोखिम का साधन पूरी तरह से नेताओं के कंधों पर होता है। नेता अपने उद्देश्यों को पूरा करने के लिए जोखिम उठाने के इच्छुक हैं, जबकि मॅनेजरों को जोखिम को नियंत्रित करने के लिए नियुक्त किया जाता है। इसलिए, नेता परिवर्तन लाते है जबकि मॅनेजर केवल अच्छी तरह से तय किये गए नियमों और विनियमों के साथ चिपक जाते है।

3. आदेश: नेता आदेश देते है, मॅनेजर उन्हें पूरा करते है! नेता आदेशों का पालन करने के लिए पर्याप्त सुव्यवस्थित नहीं होते हैं। दूसरी तरफ, मॅनेजर सुनियोजित होते है और उन्हें पता होता है कि संगठन के भीतर कर्मचारियों से कैसे सामंजस्यपूर्ण तरीके से काम लिया जाना है।

4. प्रेरित करना: नेता लोगों को बांध कर रखते हैं। मॅनेजर लोगों को केवल जिम्मेदारियों का बँटवारा करते हैं। नेता समझते हैं कि किसी एक उद्देश्य के लिए एकीकृत टीम, अलग-अलग काम करनेवाले समूह की तुलना में अच्छे ढंग से काम करेगी। इसलिए, नेता कर्मचारियों को प्रेरणा देने के लिए जिम्मेदार होते हैं – हर किसी को ऐसा महसूस करवाते है कि वे किसी बड़े उद्देश से जुड़े हैं। दूसरी तरफ, मॅनेजरों ने हर एक कर्मचारी को एकजुट हो कर काम करने की कला में महारत हासिल की होती है। वे इन कर्मचारियों को एक एकीकृत टीम के रूप में मिलकर काम करने के विशेषज्ञ होते हैं।

5. विशिष्टता: नेता आसानी से स्वयं हो सकते हैं। उनका खुद का व्यक्तित्व खुला होता है और इसलिए वे आत्म-जागरूक हैं। वे हमेशा अपने लिए एक ब्रांड बनाने की दिशा में काम करते हैं जिसे दुसरे आदर्श मानते हैं। इसलिए, वे निराले हैं, यानी, उनके पास अपनी शैली है जो कोई भी कॉपी नहीं कर सकता। हालांकि, मॅनेजर उतने सच्चे नहीं हैं। अधिकतर वे सिर्फ आचरण संहिता का पालन करते हैं, जिन्हें पालन करने की उनसे उम्मीद की जाती है। इसलिए वे खुद का व्यक्तित्व आगे नहीं लाते।

6. फोकस: नेता उद्देश्यों पर ध्यान केंद्रित करते हैं, जबकि मॅनेजर उन उद्देश्यों के लिए लक्ष्य निर्धारित करते हैं। उद्देश्य लंबे समय के लिए होते हैं, जबकि उन उद्देश्यों को प्राप्त करने के लिए लक्ष्य छोटे-छोटे कार्य होते हैं। इस प्रकार, नेता लंबा सोचते है जबकि मॅनेजर तत्काल कामों पर ध्यान केंद्रित करते है। जिसके परिणामस्वरूप, नेता हर दिन कुछ नया सीखते हैं, यानी, वे अपनी जिम्मेदारियों के प्रबंधन के दौरान व्यक्तिगत स्तर पर बढ़ते हैं। दूसरी तरफ, मॅनेजरों को मौजूदा कौशल को पूरा करने के लिए छोड़ दिया जाता है।

7. रिश्तें: नेताओं को संबंध बनाने की आवश्यकता महसूस होती है क्योंकि वे अपना अधिकांश समय लोगों के साथ बिताते हैं। वे सुनिश्चित करते हैं कि उनके आसपास के लोगों का उनपर विश्वास और भरोसा हो। जबकि, मॅनेजर अधिक विश्लेषणात्मक होते हैं। वे केवल अपने निर्धारित लक्ष्य प्राप्त करने के लिए चिंतित होते हैं। जरूरी नहीं कि वे जिन लोगों के साथ काम करते हैं उनके साथ भावनात्मक रूप से जुड़े हुए हो। नेताओं का उद्देश्य वफादारी और विश्वास बनाने का है, लेकिन मॅनेजर केवल कर्मचारियों के साथ काम करने पर ध्यान केंद्रित करते हैं – उनके व्यक्तिगत प्रदर्शन का विश्लेषण करते हैं।

नेता वे हैं जिनके पास सभी समस्याओं का समाधान होता है जबकि मॅनेजर कर्मचारियों को काम पर लागते है। अब, मुख्य सवाल है – क्या आप एक नेता है या मॅनेजर हैं? खैर, अगर आप उन लोगों में से एक हैं जो नेता के रूप में आगे चाहते हैं और अधिक प्रभावी ढंग से पेश होना चाहते हैं, तो मैं आपको हमारी उत्पादन की टोकरी से हमारे पसंदीदा किताबों में से एक ‘द ग्रेट सेल्समैन’ का सुझाव देता हूं। पढ़ने का आनंद लिजिए!

THIS DIWALI, DO YOUR MENTAL HOUSE CLEANING

Diwali is a festival of lights no doubt, but before the grand celebration begins all of us are unanimously engaged in the process of “Diwali cleaning”. But this time, let Diwali cleaning not be confined to only the nooks & corners of our external worlds.

This Diwali let’s engage in mental house cleaning! Confused? Our brain is filled with unnecessary burden, pressure & negativity. We don’t realize it until something very catastrophic manifests in our lives which pushes us into despair. Such loss of hope suddenly brings out all the toxic words & circumstances we have fed our brain & leaves us confused. To avoid such sudden change of situations, it is essential to clean your mind of these things. And what better occasion than the grand festival of Diwali?

1. De-clutter: The first step towards cleaning anything is to declutter all the unused goods. Similarly, as far as your mind is concerned, you must accumulate your most frequent negative thoughts & declutter your mind off of them. Manage your thoughts by organizing your days & forming a routine. This will help your mind to be surer of what to expect every day. In turn, this will reinstate a sense of confidence & control.

2. Reinforcements: Positive affirmations or reinforcements help train your mind to be happier. Focussing on the good all the time is what assists your mind in the whole cleansing process. The point is to not be tired. We have always been experts at stuffing our brains with innumerable thoughts – AND we still have to DO THE SAME. The significant difference is that instead of the negative jargon, you train your mind to focus on the good things. Listen to positive affirmations on health, wealth or love from my free mobile application ‘Sneh Desai’.

3. Don’t obsess: Obsession is for the weak & wasted! Honestly, obsessing about the little things is killing your brain cells. It is keeping your mind preoccupied in unnecessary chat & training it to expect the worst. Because with obsession comes fear. And with practice, this fear cuts deep.

4. Fast-forward: A toxic habit that is subconsciously withholding us from our perfect lives is living in the past! How many hours in a day are you spending on reliving your past circumstances (irrespective of whether they are positive or negative)? Always remember, that the time you spend on focussing on your past, is the time you could have spent in shaping your bright future! Now it is your decision – do you want a better future or are you happy to go back & forth between your past & present and remain stagnant? In my ‘Change Your Life’ workshop, when we go through a process where we breakthrough from our past, people actually start living a new life.

5. Less reaction, more action: Reacting too much is exceptionally lethal. Sometimes our reactions are not under our control, and that is okay. But more often than not, how we respond to situations, people, words etc. is very much in our own hands. When we react before thinking, our actions render minimum. We are only ranting or complaining, but we need to act instead. Focus on your goals instead of complaining about the obstacles. Trust me; you will be better off!

6. Mindful Surroundings: How will your mind be at peace if your outer world is not? Sometimes, mindful surroundings help in keeping your thoughts in control. Outside influences like social media, people in your immediate vicinity etc. have a significant impact on how you look at things thus influencing your opinions & perspective. You become an average of people who you are surrounded by. So this year, make a new network of people who are more successful emotionally and financially.

7. Scrub, scrub, scrub: Every once in a while, scrub your mind by reviewing the cleansing process & keep a check on how you are doing & where you are lacking such that you may improve. To keep things neat & clean, it is important to cleanse on a daily basis and make it a habit!

चलिए, इस दिवाली हम अपने “मानसिक घर” की सफाई करते हैं!

दिवाली रोशनी का त्योहार है। इस भव्य उत्सव से पहले हम सभी “दीपावली की सफाई” करने में बिझी हो जाते हैं। लेकिन इस बार, दिपावली की सफाई को हमारे बाहरी संसार के कोनों तक सीमित न होने दें।

चलिए, इस दिवाली हम “मानसिक घर” की सफाई में जुट जाते है! क्या आप सोच में पड़ गए हैं? मतलब यह की, हमारा दिमाग अनावश्यक बोझ, दबाव और नकारात्मकता से भरा है। हम इसे तब तक नहीं समझते जब तक कि हमारे जीवन में कुछ विनाशकारी घटना नहीं होती है जो हमें निराशा में डाल देती है। इस तरह से आशा खो देने से अचानक वे सभी जहरीले शब्द और परिस्थितियां सामने आती है जो हमने अपने मस्तिष्क में बिठाये है। वे हमें भ्रमित कर देते हैं। ऐसी परिस्थितियों में अचानक आये परिवर्तन से बचने के लिए, इन चीजों को अपने दिमाग से साफ करना आवश्यक है। और इसके लिए दिवाली के भव्य त्यौहार से बेहतर अवसर कौनसा है?

1. अव्यवस्था दूर करना: कुछ भी साफ करने की दिशा में पहला कदम होता है उपयोग में न आनेवाले सभी वस्तुओं को अस्वीकार करना। इसी तरह, जहां तक आपके मन का सवाल है, आपको अपने मन में लगातार आनेवाले नकारात्मक विचारों को जमा करना होगा और उन्हें अपने दिमाग से निकाल देना होगा। अपने दिन को व्यवस्थित करके और दिनचर्या बनाकर अपने विचारों को नियंत्रित करें। इससे आपके दिमाग में हर दिन क्या उम्मीद की जा सकती है, यह तय करने में मदद मिलेगी। बदले में, इससे आत्मविश्वास और नियंत्रण की भावना दृढ़ होगी।

2. मजबूतीकरण: सकारात्मकता या मजबूतीकरण आपके दिमाग को खुश रहने में मदद करते हैं। हर समय अच्छी बातों पर ध्यान देने से इस पूरी सफाई प्रक्रिया में आपके दिमाग को सहायता मिलती है। इसमें थकना नहीं है। हम हमेशा हमारे दिमाग में असंख्य विचार भरते रहे हैं – और हमें अभी भी वही करना है। महत्वपूर्ण अंतर यह है कि नकारात्मकता के बजाय, आप अच्छी चीजों पर ध्यान केंद्रित करने के लिए अपने दिमाग को प्रशिक्षित करते हैं। मेरे मुफ्त मोबाइल एप्लिकेशन ‘स्नेह देसाई’ पर आप स्वास्थ्य, धन या प्यार पर सकारात्मक पुष्टि सुन सकते हैं।

3. जुनून मत कीजिये (ग्रस्त हो जाना): जुनून, कमजोर और बर्बाद हुए लोगों के लिए होता है! सच कहे तो, छोटी चीजों का जुनून आपके मस्तिष्क की कोशिकाओं को ख़त्म कर रहा है। यह आपके दिमाग को अनावश्यक बातों में व्यस्त रखता है और दिमाग को बुरी उम्मीदों के लिए प्रशिक्षण देता है। क्योंकि जुनून के साथ डर आता है। और समय के साथ, यह डर गहराई से समा जाता है।

4. फास्ट-फॉरवर्ड: एक बुरी आदत जो अवचेतन रूप से हमें अपना संपूर्ण जीवन जीने से रोक रही है, वह है भूतकाल में रहना! आप अपनी पिछली परिस्थितियों के बारे में सोचने पर कितने घंटे खर्च कर रहे हैं (भले ही वे सकारात्मक या नकारात्मक हों)? हमेशा याद रखें, कि जब आप अपने अतीत पर ध्यान केंद्रित करने पर जो समय खर्च करते हैं, वह समय आप अपने उज्ज्वल भविष्य को आकार देने में खर्च कर सकते थे! अब यह आपका निर्णय है – क्या आप एक बेहतर भविष्य चाहते हैं या आप अपने अतीत और वर्तमान के बीच अटके रहने और स्थिर रहने में ही खुश हैं? मेरे‘चेंज योर लाइफ’ कार्यशाला में, जब हम ऐसी प्रक्रिया से गुजरते हैं जहां हम अपने अतीत से नाता तोड़ देते हैं, तो लोग वास्तव में एक नया जीवन जीना शुरू करते हैं।

5. कम प्रतिक्रिया दीजिये, ज्यादा काम कीजिये: बहुत अधिक प्रतिक्रिया देना बहुत खतरनाक होता है। कभी-कभी हमारी प्रतिक्रियाएं हमारे नियंत्रण में नहीं होती है और यह ठीक है। लेकिन ज्यादातर, हम परिस्थितियों, लोगों, शब्दों आदि का जवाब कैसे देते हैं, यह हमारे हाथों में होता है। जब हम सोचने से पहले प्रतिक्रिया देते हैं, तो हमारा काम बहुत कम होता है। हम केवल डींगे हाकते हैं या शिकायत करते हैं, लेकिन हमें इसके बजाय कार्य करने की जरूरत है। बाधाओं के बारे में शिकायत करने के बजाय अपने लक्ष्यों पर बस ध्यान केंद्रित कीजिये। विश्वास कीजिये; आप और कार्यशील हो जायेंगे!

6. चौकस परिवेश: यदि आपकी बाहरी दुनिया शांत नहीं है तो आपका दिमाग कैसे शांत रहेगा? कभी-कभी, सजग वातावरण आपके विचारों को नियंत्रण में रखने में मदद करता है। बाहरी प्रभाव जैसे सामाजिक मीडिया, आपके पास पड़ोस के लोग इत्यादि आपकी राय और दृष्टी को बहुत प्रभावित करते है। आप उन लोगों जैसे औसत बन जाते हैं जिनसे आप घिरे हुए हैं। तो इस साल, उन लोगों का एक नया नेटवर्क बनाएं जो भावनात्मक और वित्तीय रूप से अधिक सफल हैं।

7. रगड़ रगड़ कर सफ़ाई कीजिये: थोड़े-थोड़े समय के बाद सफाई प्रक्रिया की समीक्षा कीजिये। आप यह काम कैसे कर रहे और उसे कैसे सुधार सकते हैं इस बारे में सोचिये। चीजों को साफ-सुथरा रखने के लिए, उसे हर दिन साफ करना और इसे आदत बनाना महत्वपूर्ण है!

6 WAYS TO RELAX BEFORE AN EXAM

Examinations are a stressful period, especially when you consider just one or two days that you have at hand before the commencement of your exams. Relaxing beforehand is extremely important. We all know that sometimes even when we are highly prepared, we tend to goof up on the actual day of the exam simply because of extreme nervousness or fear of not being able to do well enough despite the hard work. How should you deal with this time such that your productivity and your confidence in your preparation is not lost? Today’s post is going to be especially handy for someone who is going to be handling the examination pressure.

1. Start by training your mind: Train your mind such that it does not become restless before an examination. One of the greatest and the most effective methods for the same is through affirmations. A few days before the exam, keep telling yourself of how great your preparations are and that you are confident and cool in the execution of your hard work. The earlier this process starts the better your mental control over how you utilize the time before your exam. And also, the more affirmative you stay, chances are that the external situations around you shall not disturb your mental peace and confidence. If you are my ‘Change Your Life’ workshop participant, practice your favourite ‘Confidence Booster’ technique.

2. Refrain from discussions: The next and the most irresponsible mistake all students commit is that they tend to discuss a bit too much with their friends right before their exams. Stop talking to your friends a day or two before the exam. This innately gives you a sense of insecurity because you start to compare your preparation with that of theirs and then you start to feel as if you are not doing enough. This sometimes does more damage than anything else.

3. Don’t study last minute: Remember that last minute studying is of no use. Instead revise. Don’t take up a whole new topic to study which you have never ventured into before. This leads to a lot of confusion and breaks down your morale. Revising smartly is what you need a few days before the exam. If at the last minute you take on a completely new chapter you shall end up losing. It is extremely unwise if you want to stay relaxed before your exams.

4. Sleep well: One of the silliest things students do is that they lose sleep before an exam. Students tend to stay awake all night hoping that the last minute all-nighter will fetch them at least 5 to 10 extra marks. Are you seriously going to get those 5 to 10 marks by not sleeping all night, especially when this might damage your chances of actually not being able to recollect what you have already studied? Please get enough sleep before an exam. The more you stay awake the more fatigued and nervous you shall become. And this will have a cumulative effect on the remaining days of the exam.

5. Chill out: Instead of stressing just chill out. Chilling out does not mean that you will become overconfident, but it will simply mean that you shall be calmer and more collected before your exam. So choose wise methods to chill out. Don’t go out with friends or relatives to hang out or watch too much T.V. or be on social media because these are mere distractions and have no constructive repercussions. Be smart about your methods. For example, you could exercise a lot and meditate, focus on some breathing exercises, go for long walks and strolls etc.

6. Let it be: The last and the most important advice would be this – Let it be. Don’t try too hard or don’t put yourself in a position where pressure gets the best of you. You are well-prepared and that is all that matters. Don’t listen to bizarre advice from your relatives, friends or even your parents. Do what you think is right without being too hard on yourself. You will do just fine!

You know, at the end it’s not about what you study but how you study. All my students of ‘Dynamic Memory’ workshop love studying after they get to learn more than 12 techniques and some unknown secrets on making their studies interesting and easy. Get your copy of ‘Dynamic Memory’ workshop DVD now and celebrate your exams.

परीक्षा से पहले रिलैक्स होने के 6 तरीके

परीक्षा का समय तनावपूर्ण होता हैं, खासकर जब आपकी परीक्षा शुरू होने में केवल एक या दो दिन बाकि रहते हैं। पहले से ही रिलैक्स रहना बेहद महत्वपूर्ण है। सभी जानते हैं कि बहुत तैयारी करने के बावजूद कभी-कभी हम परीक्षा में गड़बड़ियां करते है। बहुत ज्यादा नर्वस होने के कारण या कड़ी मेहनत के बावजूद हम अच्छे मार्क नहीं ले पाएंगे इस घबराहट के कारण हम ऐसा करते है। ऐसे समय, आपकी उत्पादकता और आपकी तैयारी में आपका विश्वास न खोते हुए आप इस समस्या से कैसे निपटें ? आज का पोस्ट विशेष रूप से ऐसे व्यक्ति को उपयोगी होगा जो परीक्षा का प्रेशर झेल रहा/रही है।

1. अपने दिमाग को प्रशिक्षित करने से शुरू करें: अपने दिमाग को इस तरह प्रशिक्षित कीजिये कि यह परीक्षा से पहले बेचैन न हो जाए। इसके लिए सबसे बढ़िया और सबसे प्रभावी तरीकों में से एक है कथन का माध्यम। परीक्षा से कुछ दिन पहले, अपने आप को यह बताएं कि आपकी तैयारी कितनी अच्छी है और आप अपनी कड़ी मेहनत के कारण आत्मविश्वास से भरे है और शांत हैं। यह प्रक्रिया जितनी जल्दी आप शुरू करेंगे उतना अच्छा है क्योंकि इससे आप परीक्षा के पहले का समय अच्छे तरीके से उपयोग में ला सकेंगे। आप उसपर अपना मानसिक नियंत्रण रख सकेंगे। और, आप जितना अधिक सकारात्मक रहते हैं, उतना आपके आस-पास की बाहरी स्थितियां आपकी मानसिक शांति और आत्मविश्वास को परेशान नहीं करेगी। यदि आप मेरी ‘Change Your Life’ (चेंज योर लाइफ) कार्यशाला के सहभागी हैं, तो अपने पसंदीदा ‘कॉन्फिडेंस बूस्टर’ तकनीक का अभ्यास करें।

2. चर्चाओं से दूर रहिये: सभी छात्रों द्वारा अगली और सबसे गैर जिम्मेदार गलती यह है कि वे अपनी परीक्षा से ठीक पहले अपने दोस्तों के साथ थोड़ा अधिक चर्चा करते हैं। परीक्षा से पहले एक या दो दिन अपने दोस्तों से बात करना बंद कीजिये। यह आपको असुरक्षा की भावना से भर देता है क्योंकि आप अपनी तैयारी की तुलना उनके साथ करना शुरू करते हैं। फिर आपको ऐसा महसूस होता है कि आप पर्याप्त तैयारी नहीं कर रहे हैं। यह कभी-कभी सबसे ज्यादा नुकसान करता है।

3. आखिरी समय में पढ़ाई न करें: याद रखें कि आखिरी मिनट के पढ़ाई का कोई उपयोग नहीं है। हां, रिवीजन जरूर करें। पढ़ाई के लिए एक नया विषय न लें जिसे आपने पहले कभी नहीं पढ़ा है। यह बहुत कंफ्यूज़न पैदा करता है और आपके मनोबल को तोड़ देता है। बल्कि आपको परीक्षा से कुछ दिन पहले अच्छे से रिवीजन करना चाहिए। यदि आखिरी मिनट में आप बिल्कुल नया कुछ पढ़ते हैं तो आप चूक जाएंगे। यदि आप अपनी परीक्षा से पहले रिलैक्स रहना चाहते हैं तो ऐसा करना बेहद मूर्खतापूर्ण है।

4. अच्छी नींद लीजिये: परीक्षा से पहले नींद खो देना, छात्रों के लिए सबसे भयानक चीजों में से एक है। छात्र पूरी रात जागते रहते हैं। यह सोचते है कि आखिरी मिनट का ऑल-नाइटर से उन्हें कम से कम 5 से 10 मार्क ज्यादा मिलेंगे। क्या आप पूरी रात जागकर सचमुच वह 5 से 10 अंक प्राप्त करने जा रहे हैं? वास्तव में आप पहले की हुए पढाई को याद रखना मुश्किल हो जायेगा। क्या यह आपका नुकसान नही है? परीक्षा से पहले भरपूर नींद लें। जितना अधिक आप जागते रहेंगे उतना अधिक थक जायेंगे और घबराहट भी होगी। इससे परीक्षा के बाकि दिनों पर इसका विपरीत परिणाम होगा।

5. जस्ट चिल (शांत हो जाइये): टेंशन मत लीजिये बस शांत हो जाइये। चिलिंग का मतलब यह नहीं है कि आप अतिआत्मविश्वासी बन जाएंगे, इसका मतलब यह होगा कि आप अपनी परीक्षा से पहले शांत और संयमित होंगे। तो चिल करने के सही तरीके चुनें। दोस्तों या रिश्तेदारों के साथ बाहर ज्यादा समय न बिताये या बहुत अधिक टीवी देखने या सोशल मीडिया पर न रहे क्योंकि इससे ध्यान दूसरी ओर खींचता चला जाता हैं। उनका कोई रचनात्मक प्रभाव नहीं है। अपने तरीकों के बारे में स्मार्ट बनें। उदाहरण के लिए, आप एक्सरसाइज कर सकते हैं और ध्यान कर सकते हैं, श्वास अभ्यास कर सकते हैं, लंबी सैर और टहलने आदि के लिए जा सकते हैं।

6. इसे हो जाने दीजिये: आखिरी और सबसे महत्वपूर्ण सलाह यह होगी – इसे हो जाने दीजिये। बहुत मेहनत न करें या खुद को ऐसी स्थिति में न रखें जहां बेहतरीन होने के लिए दबाव हो। आप अच्छी तरह से तैयार हैं बस यही मायने रखता है। अपने रिश्तेदारों, दोस्तों या यहां तक कि अपने माता-पिता की अजीब सलाह न सुनें। खुद पर सख्त हुए बिना जो भी आपको सही लगता है वह करें। इसमें कोई शक नहीं की आप परीक्षा अच्छे ही देंगे।

अंत में यह महत्वपूर्ण नहीं की आपने क्या पढ़ा है, लेकिन यह की आपने कैसे पढ़ा। ‘Dynamic Memory’ ‘ (डायनामिक मेमोरी) कार्यशाला के मेरे सभी छात्रों को 12 से अधिक तकनीकों और कुछ अध्ययनों को दिलचस्प और आसान बनाने के बारे में कुछ रहस्यों को सीखने के बाद पढ़ाई करना पसंद है। अभी अपनी ‘Dynamic Memory’ (डायनामिक मेमोरी) वर्कशॉप डीवीडी ख़रीदे और अपनी परीक्षाएं सेलिब्रेट करें।

7 SIMPLE EXERCISES TO REDUCE YOUR STRESS

Today’s main agenda is focussed on tackling stress. What do you mean by stress? There are n number of complicated definitions about stress, but if you ask me I can simplify the same for you like this – Anything that is not focussed in the NOW is stress. This means that if you are living in your past and letting your present pass you by or if you are constantly worried about what the future holds for you then we can say that you are stressed. Now the rest is upon you, by this simple explanation you are supposed to examine your stress levels or assess if you are a “stress patient”.

Unfortunately, our natural response to understanding stress leads to more stress. This is why today’s post is dedicated to helping you relieve yourself from this burdened lifestyle. Here are some very basic and simple exercises and practical ideas (most of which can be done anywhere at any given time) to help you feel more positively neutral about yourself:-

1. Stretch –

It is a great warm-up routine as well but more importantly, stretching really helps in loosening any tight muscles in your body. This helps in relieving any tension that you might be feeling. The more you focus on your flexibility the better.

  • Start with basic shoulder, head, ankle and elbow rotation both clock as well as anti-clockwise.
  • Forward stretch: Stand with your feet hip-width apart and bend down to lower your head towards the floor, with your hands clasping your ankles.
  • Butterfly Stretch: Sit down with the soles of your feet together & knees bent to the sides. Simply bend over to feel the stretch in your thighs by pressing your knees down.
  • Back-bending stretch: Stand tall and bend backward by placing your hands at your hips.
  • Shoulder Stretch: To curb poor posture clasp your hands behind your lower back and now raise them by squeezing your shoulder blades together.
  • After stretching for a good 5 to 8 minutes you shall feel a new sense of purpose and a whole lot lighter (even emotionally).

2. Dynamic Yoga –

For those who do not get the time to do exercises in a full-fledged manner, dynamic yoga is a technique that I have personally developed in order to make sure that western science and Indian shastras are blended perfectly in order to train your sense organs and your mind to work efficiently and happily. It is a very interactive and interpersonal method. No matter how busy you are, I am sure you can find out the time to incorporate these easy-going and casual yet effective exercises curated especially for today’s hectic lifestyle. You can check out the YouTube video at: www.youtube.com/snehdesai, and also connect to it through my official App and purchase its DVD at: SnehWorld Store.

3. Five Things –

Once anxiety starts to kick in start taking mental notes. Change your mind frequency immediately by focussing on five things that make your surroundings worth it. What is the thing that comforts you about your environment? Who are the people around you who make you feel better even during such stressful times? What are the three things that you are thankful for? What are the best qualities of the source of your stress (could be the virtues of a person or of a place/situation)? Slowly bring your attention to how you can create calm amidst a storm.

4. Walk –

Easiest and the most doable option. Also viable and healthy. Whenever you feel like life is giving you lemons, go out for a short stroll or a longer walk whichever it is that you can allow yourself. The moment you move around anywhere your brain shall start to function differently observing and absorbing the little details of wherever you plan to walk. Slowly you shall feel calmer and more ready for the changing circumstances around you.

5. Slow Down –

As soon as you identify your stress try and physically slow down the pace of your activities. This shall help you to not react impulsively and will also help your emotional state to slow down eventually. Eat slower, talk slower (or in fact don’t talk at all), breathe slower (& deeper)! Just don’t let your body feel the immediate effects of your mental upheaval. Or as soon as you think your body is catching up, slow down.

Laugh –

When nothing works, laughter is genuinely the best medicine. Laughing is such a great source of forgetting about any stress or anxiety-creating elements of your life. Be unafraid to laugh at yourself, your circumstances or just try to reach out to other people to reminisce a funny incident from your past.

Meditation –

Meditation is an old age method to manage stress and anxiety levels. There are many different methods through which you can meditate and feel better. From gratitude meditation to weight loss meditation, the world out there is highly creative as long as meditation techniques and timings are concerned. But why go outside and look through a plethora of YouTube videos when I have designed them very intricately keeping in mind the specifics of your problems. All you need to do again is download my App and you are sorted.

These are just some quick tips on managing stress but how about not having any stress at all in the first place? If you wish to learn the same, come to my 4-days Camp ‘Ultimate Life’ where I spend one day talking about stress and emotional well-being.

आपका तनाव कम करने के 7 सरल व्यायाम

 

आज का मुख्य एजेंडा तनाव से निपटने पर केंद्रित है। तनाव से आपका क्या मतलब है? तनाव की जटिल परिभाषाएं हैं, लेकिन यदि आप मुझसे पूछें तो मैं इसे आपके लिए सरल बना सकता हूं – जो कुछ भी अब में केंद्रित नहीं है वह तनाव है। इसका मतलब यह है कि यदि आप अपने अतीत में रह रहे हैं और अपने वर्तमान को नजरअंदाज करते हैं या यदि आप लगातार भविष्य के बारे में चिंतित हैं तो हम कह सकते हैं कि आप तनावग्रस्त हैं। अब बाकी आप पर हैं, इस सरल स्पष्टीकरण से आपको अपने तनाव के स्तर की जांच या आकलन करना चाहिए और जानना चाहिए की क्या आप “तनाव के रोगी” हैं?

दुर्भाग्य से तनाव को समझने के लिए दी गयी हमारी प्राकृतिक प्रतिक्रिया हमें अधिक तनाव की ओर ले जाती है। यही कारण है कि आज की यह पोस्ट आपको इस बोझील जीवनशैली से छुटकारा पाने में मदद करने के लिए समर्पित है। यहां कुछ बहुत ही बुनियादी और सरल व्यायाम और व्यावहारिक विचार हैं (जिनमें से अधिकतर किसी भी समय कहीं भी किया जा सकता है) ताकि आप अपने बारे में अधिक सकारात्मक तटस्थ महसूस कर सकें: –

1. खिंचिये (स्ट्रेच कीजिये) –

व्यायाम शुरू करने के पहले किये जानेवाली यह एक बढ़िया वार्म-अप दिनचर्या भी है। लेकिन अधिक महत्वपूर्ण बात यह है कि स्ट्रेच करने से वास्तव में आपके शरीर में किसी भी तंग मांसपेशियों को ढीला करने में मदद मिलती है। यह उस तनाव को दूर करने में मदद करता है जिसे आप महसूस कर रहे हैं। जितना अधिक आप अपने लचीलेपन पर ध्यान केंद्रित करेंगे उतना ही बेहतर होगा।

  • बुनियादी रूप में कंधे, सिर, टखने और कोहनी को घड़ी की सुई की दिशा में गोल घुमाएं और फिर उलटे दिशा मे भी करें।
  • आगे की ओर खिंचाव: अपने पैरों को कूल्हों की चौड़ाई जितना दूर रखते हुए खड़े हो जाइये और अपने सिर को फर्श की तरफ निचे ले जाएं। अपने हाथों से अपने टखने को दबाकर रखें।
  • तितली जैसा खिंचाव: निचे बैठ जाइये। अपने पैरों के तलवों को एक साथ जोड़े रखें और घुटनों को बाजु में झुकाएं। अपनी जांघों में खिंचाव महसूस करने के लिए घुटनों को दबाते हुए झुक जाइये।
  • पीठ को झुकानेवाला खिंचाव: अपने हाथों को अपने कूल्हों पर रखकर खड़े हो जाइये और पीछे की ओर मोड़ें।
  • कंधों का खिंचाव: खराब मुद्रा को रोकने के लिए पीठ के निचले हिस्से के पीछे अपने हाथों को पकड़ें और फिर अपने कंधे की हड्डी को दबाते हुए हाथों को ऊपर उठाएं।

5 से 8 मिनट खींचने के बाद आपको एक नई भावना से भरपूर और पूरी तरह से हल्का (भावनात्मक रूप से भी) महसूस होगा।

2. डायनामिक योग (गतिशील योग) –

उन लोगों के लिए जिन्हें संपूर्ण व्यायाम करने का समय नहीं मिलता है, डायनामिक योग एक ऐसी तकनीक है जिसे मैंने व्यक्तिगत रूप से विकसित किया है। उससे यह सुनिश्चित किया जा सकता है कि पश्चिमी विज्ञान और भारतीय शास्त्र पूरी तरह से घुलमिल जाएं ताकि अपने दिमाग और अंगों को कुशलतापूर्वक और खुशी से काम करने के लिए प्रशिक्षित किया जा सके। यह बहुत ही संवादात्मक और एक ऐसी विधि है जिसमे अनेक लोग हिस्सा लेते हैं। आप कितने ही व्यस्त क्यों ना हो, मुझे यकीन है कि आज की व्यस्त जीवनशैली के लिए विशेष रूप से बनाये गए इन आसान और अनौपचारिक लेकिन प्रभावी व्यायामों को शामिल करने के लिए आप समय निकाल सकते हैं। आप स्नेह देसाई यूट्यूब चॅनेल पर वीडियो देख सकते हैं और इसे मेरे आधिकारिक ऐप के माध्यम से भी कनेक्ट कर सकते हैं। स्नेहवोर्ल्ड स्टोर पर उसकी डीवीडी भी खरीद सकते हैं।

3. पांच चीजें –

जैसे ही चिंता शुरू हो जाती है आप मानसिक नोट्स लेना शुरू कर दीजिये। जो आपके आसपास के वातावरण को लायक बनाता है उन पांच चीजों पर ध्यान केंद्रित करके तुरंत अपने दिमागी स्थिति को बदलें। वह कौनसी बात है जो आपको अपने वातावरण के बारे में धीरज देती है? आपके आस-पास के लोग कौन हैं जो आपको ऐसे तनावपूर्ण समय के दौरान भी बेहतर महसूस कराते हैं? तीन चीजें क्या हैं जिनके लिए आप आभारी हैं? आपके तनाव के स्रोत के सर्वोत्तम गुण क्या हैं (किसी व्यक्ति या स्थान / स्थिति का गुण हो सकता है)? धीरे-धीरे अपना ध्यान इस ओर दें जिससे कि आप तूफान के बीच भी शांत कैसे बने रह सकते हैं।

4. चलिये –

चलना यह सबसे आसान और सबसे अधिक करने योग्य विकल्प है। इसके अलावा व्यवहार्य और स्वस्थ भी है। जब भी आपको लगे की जीवन से आपको अपेक्षा से बहुत काम मिल रहा है, तब थोड़ा सा टहलने के लिए बाहर निकलें या लंबे समय तक चलें, जैसा भी आप चाहें। जिस क्षण आप कहीं भी घूमते हैं, आपका दिमाग आजुबाजु की छोटी-छोटी बातों को देखना और महसूस करना शुरू कर देता है। इससे धीरे-धीरे आप अपने चारों ओर बदलती परिस्थितियों का सामना करने के लिए शांत और अधिक तैयार महसूस करेंगे।

5. गति कम कीजिये –

जैसे ही आप अपने तनाव की पहचान करते हैं तब आप शारीरिक रूप से अपनी गतिविधियों की गति को धीमा कर देने की कोशिश कीजिये। यह आपको आवेगपूर्ण प्रतिक्रिया देने से रोकने में मदद करेगा और अंततः धीमे होने के लिए आपकी भावनात्मक स्थिति में भी मदद करेगा। धीरे-धीरे खाएं, धीरे-धीरे बात करें (या सच कहूं तो बिल्कुल बात न करें), धीरे-धीरे सांस लें (और गहराई से ले)! बस शरीर को अपने मानसिक उथल-पुथल के तत्काल प्रभावों को महसूस न होने दे। या जैसे ही आपको लगता है कि आपका शरीर प्रभावित हो रहा है, तब आप अपनी गति कम कीजिये।

6. हंसिये –

जब कुछ भी इलाज काम नहीं करता है तब हंसी वास्तव में सबसे अच्छी दवा है। हंसना आपके जीवन के किसी भी तनाव या चिंता-निर्माण करनेवाले तत्वों को भूलने का बहुत बड़ा स्रोत है। अपने आप पर, अपनी परिस्थितियों पर हंसने से ना डरें। या अपने अतीत की एक मजेदार घटना को याद दिलाने के लिए दूसरों तक पहुंचने का प्रयास करें।

7. ध्यान –

तनाव और चिंता के स्तर को कम करने का एक बढ़िया तरीका है ध्यान करना। ध्यान की कई अलग-अलग विधियां हैं जिससे आप को बेहतर महसूस हो सकता हैं। जहां तक ध्यान तकनीक और समय का संबंध है, कृतज्ञता ध्यान से वजन घटाने के ध्यान तक पाए जाते है। इस मामले में दुनिया बहुत रचनात्मक है। लेकिन फिर बाहर क्यों जाएं और बड़ी संख्या में यूट्यूब क्यों देखें जब आपकी समस्याओं को ध्यान में रखते हुए मैंने उन्हें खास आपके लिए बनाये है! आपको बस मेरा ऐप फिर से डाउनलोड करने की ज़रूरत है। और आपको तुरंत अलग कर दिया जायेगा।

तनाव के प्रबंधन पर ये कुछ तुरंत किये जानेवाले सुझाव हैं। लेकिन यदि आपको कोई तनाव ही ना हो तो? यदि आप इसके बारे में जानना चाहते हैं, तो मेरे 4-दिनों के शिविर ‘अल्टीमेट लाइफ’ (Ultimate Life) में आएं जहां मैं पूरा एक दिन तनाव और भावनात्मक कल्याण के बारे में बात करता हूं।

5 Qualities of Lord Krishna We Must Have

Rarely do we genuinely take some time out to think about the qualities some of our Lords (or role models) possessed whereby they got the status of actually being called the Almighty! Janmashtmi is here and it only seems fitting that today we talk about Shri Krishna & his personality traits that all of us must imbibe to live a fulfilling life & grow as a person every day.

Happiness –

Till date Lord Krishna is loved immensely by children majorly because he was so caring, sweet, mischievous & HAPPY at the same time! But his happiness was not sporadic – he had an infectious energy ALL THE TIME. For him life was a celebration – the means of making great things happen. But where did all the happiness come from? From Love & Compassion. One who feels love all the time can never be sad! Love is inseparable from Lord Krishna. In other words, we can say that he was the impersonation of Love. Only someone who loves to a great extent can attract happiness in his life. Something that I stress upon much in my ‘Krishna Katha’ Program. This is why everyone in and around him instantly felt such a strong sense of affection for him. Needless to say that, Happiness & Love bring along Divinity as a by-product.

Leadership –

Lord Krishna was a great leader because he was one of the greatest team players to have ever existed. For him Life was about the bigger picture where everyone co-existed with love for one another. Why? Because he could think positively about everyone even in the time of crisis. As a master-mind strategist & manager, he could tactfully handle each situation effortlessly. This is what great leaders do – they include everyone & make sure that no one benefits at the expense of the other, especially in the middle of chaos. It is always about thinking of the other person first.

Student Of Life –

The greatest of Gurus are learners first! Lord Krishna was no different. Already a master of supreme truths – as seen in the Battle of Kurukshetra where he teaches Arjun the true meaning of Life with ease – Lord Krishna was a great student himself! Imagine his lack of ego! He always kept an open mind & heart for whoever came to him. But more importantly, he practiced what he preached.

Friendship –

Lord Krishna was an ideal friend! Even with his larger-than-life stature, Krishna was immensely humble in the way he treated his friends. There are so many stories & anecdotes that circulate around the great value he added to his friendships especially because he always stood by them in their dark times. However, his friendship with Sudama requires a special mention! Although lifestyle & status separated them, Krishna paid him the same respect as he would to a King! Something as simple as acknowledging lifelong relations add value to you as a person!

Simple Living –

Lord Krishna’s life is truly inspiring especially because he had humble roots! Destined for greatness & yet he lived a simple life without the greediness for more. Even when he had everything one can hope for in life, he ached for his the little happiness in life like playing his flute & maakhan! He didn’t need much to be happy & yet with his simplicity he could conquer it all! Don’t run after materialistic things, find that diamond within you which shall unleash all the riches of the world & yet make YOU priceless!

Let’s decide to follow these five virtues from today. Listen to my ‘Krishna Katha’ to learn more about how Krishna lived, how we can inculcate his qualities in this 21st century and some amazing secrets from Bhagwad Gita. May this Janmashtmi be fulfilled with love for all of you! Check out huge Discount Offers on my Products here: www.snehworld.com/store.

भगवान कृष्ण के 5 गुण जो हमारे पास होने चाहिए

 

शायद ही कभी हम अपने कोई भगवान (या रोल मॉडल) के गुणों के बारे में सोचने के लिए कुछ समय निकालते हैं। उन्हें उन गुणों के कारण ही वास्तव में सर्वशक्तिमान कहा जाता है! जन्माष्टमी आयी है और हम आज श्रीकृष्ण और उनके व्यक्तित्व के गुणों के बारे में बात करें यह एकदम सही है। हमने उनके गुणों को अपनाना चाहिए क्योंकि वे हम सभी को एक पूर्ण जीवन जीने और हर दिन एक व्यक्ति के रूप में विकसित होने के लिए प्रेरित करते हैं।

1. आनंद –

आज तक भगवान कृष्ण को बड़े पैमाने पर बच्चों द्वारा प्यार किया जाता है क्योंकि वे बहुत ध्यान रखनेवाले, मीठे, शरारती और खुश रहते थे! लेकिन उनकी खुशी छुटपुट नहीं थी – उनके पास हर समय एक संक्रामक ऊर्जा थी। उनके लिए जीवन एक उत्सव था – महान चीजें करने का साधन। लेकिन ये सारी खुशियाँ कहाँ से आई? प्यार और करुणा से। जो व्यक्ति हर समय प्यार महसूस करता है वह कभी दुखी नहीं हो सकता! प्यार को भगवान कृष्ण से दूर नहीं किया जा सकता। दूसरे शब्दों में, हम कह सकते हैं कि वे प्यार का दूसरा नाम है। जो व्यक्ति बहुत हद तक प्यार करता है केवल वह अपने जीवन में खुशियों को आकर्षित कर सकता है। मेरे ‘कृष्णा कथा’ कार्यक्रम में मैं इसी बात पर जोर देता हूं। यही कारण है कि उनके आस-पास के हर किसी को तुरंत उसके लिए स्नेह की इतनी जबरदस्त भावना महसूस होती थी। कहने की जरूरत नहीं है कि, खुशी और प्यार दिव्यता को साथ लाते हैं।

2. नेतृत्व –

भगवान कृष्ण एक महान नेता थे क्योंकि वे अबतक के सबसे महान टीम प्लेयरों में से एक हैं। उनके लिए जीवन एक बड़ी तस्वीर थी जहां हर कोई एक दूसरे के साथ प्यार से मिलकर रहते थे। क्यूं? क्योंकि संकट के समय भी हर किसी के बारे में वे सकारात्मक सोच सकते थे। एक मास्टर-माइंड रणनीतिकार और प्रबंधक के रूप में वे आसानी से हर स्थिति को संभाल सकते थे। महान नेता ऐसा ही करते हैं – वे सभी को शामिल करते हैं और खासतौर पर अराजकता के बीच में सुनिश्चित करते हैं कि दूसरों का फायदा उठाकर कोई गड़बड़ियाँ तो नहीं कर रहा है। यह हमेशा दूसरों के बारे में पहले सोचने के बारे में है।

3. जीवन से सीखनेवाले –

महान गुरु पहले खुद सीखनेवाले होते हैं! भगवान कृष्ण भी अलग नहीं थे। वे पहले से ही सर्वोच्च सत्यों के स्वामी थे। जैसा कि कुरुक्षेत्र की लड़ाई में देखा गया है, जहां वे अर्जुन को आसानी से जीवन का सही अर्थ सिखाते है। भगवान कृष्ण स्वयं एक महान छात्र थे! उनके अहंकार की कमी की कल्पना कीजिये! जो कोई भी उनके पास आया उसके लिए वे हमेशा खुला दिमाग और दिल रखते थे। लेकिन सबसे महत्वपूर्ण बात यह है कि उन्होंने जो भी उपदेश दिए वे खुद उसका पालन करते थे।

4. दोस्ती –

भगवान कृष्ण एक आदर्श मित्र थे! बहुत बड़े होने के बावजूद, अपने दोस्तों के साथ व्यवहार करने के तरीकों में कृष्ण बेहद विनम्र थे। उनकी मित्रता के मूल्यों बारे में इतनी सारी कहानियां और कथाएं हैं जो चारों ओर फैलीं हैं। क्योंकि वे मित्रों के बुरे समय में हमेशा उनके साथ खड़े रहते थे। हालांकि, सुदामा के साथ उनकी दोस्ती का विशेष उल्लेख करने की आवश्यकता है! यद्यपि जीवन शैली और स्थिति ने उन्हें अलग किया था, फिर भी कृष्ण ने उन्हें वैसा ही सम्मान दिया जैसा एक राजा को देते! जीवनभर संबंधों को बनाये रखने जितनी सरल चीज हमें एक व्यक्ति के रूप में अच्छा इन्सान बनाती है!

5. सरल जीवन –

भगवान कृष्ण का जीवन वास्तव में प्रेरणादायक है क्योंकि उनकी जड़े निम्न थीं! उनके लिए महानता तय थी फिर भी उन्होंने लालच के बिना एक साधारण जीवन जीया। उनके पास जीवन की हर चीज थी, फिर भी उन्होंने जीवन में अपनी बांसुरी बजाना और माखन खेलने जैसी छोटी-छोटी खुशियाँ ढूंढ़ी! उन्हें खुश होने के लिए ज्यादा कुछ करने की जरूरत नहीं थी। अपनी सादगी के साथ वे सब जीत सकते थे! भौतिकवादी चीजों के पीछे मत भागिए, अपने भीतर वह हीरा ढूंढ़ीये जो दुनिया का पूरा धन दिखा देगा और आपको अमूल्य बना देगा!

आइए, आज से इन पांच गुणों का पालन करने का फैसला करें। कृष्ण कैसे रहते थे इस बारे में और जानकारी के लिए, हम इस 21 वीं शताब्दी में उनके गुण कैसे पा सकते है और भगवद् गीता के कुछ अद्भुत रहस्य जानने के लिए मेरे ‘कृष्णा कथा’ को सुनें। यह जन्माष्टमी आप सभी को प्यार से भर दें!