How to Overcome any Negative Experience of Your Life

Let’s face the fact. Life is a bundle of positive and negative experiences, but we all make the mistake of thinking more about negative things than the positive ones.The setbacks that happen make us sad, depressed and also affect our relationships. Soon, I am going to have my new batch of ‘Experience Awakening’ program. One of the reasons why my participants love to attend this program is because they finally learn to overcome any negative experience of their life.

So, no matter what happened, here are some important tips that can help you overcome that negative experience, become a better person, get back to who you really are and what you like to do:

1. If a negative experience happens, there is bound to be turn of events. So be patient… wait and see what happens afterwards to make a real assessment of the experience and then come to conclusion on what should be learnt from it. Rash thinking or quick judgement does not come to aid in such matters as you need to wait a bit to see an outcome from it… perhaps someone else’s actions that has brought about a change of the situation etc.

2. Don’t blame anyone and also yourself. Stop trying to pin the cause of the situation on anything or anyone. It is a path that leads to nowhere. Instead accept that such a problem has happened. Accepting also helps to get the reality of the event into the mind and heart and also to overcome it. Once you have accepted it, think of a solution that can help overcome it. In case there is no specific solution to the situation, learn to live with it by keeping the mind and heart focused on other better matters in life.

3. A negative experience always brings out deep anger, which is the sole cause to blame in not getting out of it. This emotion also eliminates other emotions and you stop thinking on how to get yourself out of it. Anger is very stressful, so keep it down by taking long walks, meditation or doing yoga. Once you have learnt to curb anger, your mind becomes calmer and automatically seeks a solution to the problem at hand.

4. Take up something new to learn as it’s a great way of bringing down unhappiness caused by the negative experience. Learning music, crafts, physical exercises or games etc. will help focus your mind elsewhere than the problem. It will help get away from it poor impact on heart and mind and once you have the least impact from it, solutions come to the mind quickly. You also get into a fitter mind to deal with the situation that before.

5. One very effective way of dealing with negative life experiences is to write down all your feelings onto a piece of paper. Write as much as you want, as many times as you feel, but afterwards …tear off the paper. Writing down your feelings helps to better understand yourself and also the current situation. It also brings down levels of stress and tension and is a strong means of overcoming the situation.

6. Go to a place that’s different from where you live currently and in which the experience occurred. You can plan a couple of day’s trip with your friends specifically for this. At this new place, your mind will be dealing with new things and likewise the heart gets influenced. Now is the time to tell yourself about what you have learnt from the situation and also to think about not reliving it over and over again, which once again leads to no solution.

7. Think positively or about those things that make you feel better so that the depressive emotions about the negative situation are pushed to the back of your mind. It’s very important to think about more passive incidents, better situations or take up some activity that make you feel positive and gets you back on track emotionally and mentally. Going over the negative experience repeatedly will only zap off all the energy and strength in your body and mind.

If you like this blog, don’t forget to comment and share it with others.

अपने जीवन के किसी भी नकारात्मक अनुभव को कैसे दूर करें

सच्चाई यह है कि जीवन अच्छे और बुरे अनुभवों की एक गठड़ी है। लेकिन हम सभी सकारात्मक चीजों की तुलना में नकारात्मक चीजों के बारे में ज्यादा सोचने की गलती करते हैं। असफलताएं हमें दुखी, उदास करती हैं और हमारे रिश्तों को भी प्रभावित करती हैं। जल्द ही, मेरे ‘Experience Awakening’ (जाग्रति का अनुभव कीजिये) कार्यक्रम का नया बैच शुरू होने वाला है। मेरे प्रतिभागियों को इस कार्यक्रम में शामिल होना पसंद है, क्योंकि इसमें वे अपने जीवन के किसी भी नकारात्मक अनुभव को दूर करना सीखते हैं।

सो, जीवन में जो भी हुआ हो, यहां कुछ ऐसे महत्वपूर्ण सुझाव दिए गए हैं जो आपको उस नकारात्मक अनुभव को दूर करने में, आपको एक बेहतर व्यक्ति बनने में, आपको आपके वास्तविक रूप में आने में और आपको जो पसंद है वह करने में, आपकी मदद कर सकते हैं:

1. यदि कोई नकारात्मक अनुभव होता है, तो चीजें बदलती है। इसलिए धैर्य रखिये… अनुभव का वास्तविक आकलन करने के लिए प्रतीक्षा कीजिये और देखिये कि बाद में क्या होता है। फिर इससे क्या सीखा जाना चाहिए, यह निष्कर्ष निकालिए। अविवेकी सोच या फटाफट निर्णय ऐसे मामलों में मदद नहीं करते क्योंकि आपको इसके परिणाम देखने के लिए थोड़ा इंतजार करने की आवश्यकता है … शायद किसी और के काम ने परिस्थिति बदल दी हो या ऐसी दूसरी बातें भी हो सकती है जिस कारण स्थिति में बदलाव आया हो।

2. किसी और को दोष न दें और खुद को भी दोषी न माने। किसी चीज़ को या किसी व्यक्ति को इस स्थिति के लिए दोष देना भी बंद कीजिये। इससे कोई फायदा नहीं होता है। इसके विपरीत समस्या हुई है यह स्वीकार कर लीजिये। स्वीकार करने से घटना की वास्तविकता को दिमाग और दिल में उतारने में मदद मिलती है और इससे उबरने में भी मदद होती है। एक बार जब आप इसे स्वीकार कर लेते हैं, तो एक ऐसा उपाय सोचिये जो इसे दूर करने में मदद कर सके। यदि स्थिति का कोई विशेष समाधान नहीं है, तो जीवन में अन्य बेहतर मामलों पर ध्यान और दिल लगाकर इसके साथ रहना सीखिए।

3. एक नकारात्मक अनुभव हमेशा बहुत ज्यादा गुस्सा दिलाता है। अगर इस गुस्से को बाहर नहीं निकाले तो नकारात्मक भावना बढ़ती है। यह भावना अन्य भावनाओं को भी ख़त्म कर देती है और आप यह सोचना बंद कर देते हैं कि खुद को इससे कैसे निकाला जाए। गुस्सा बहुत तनावपूर्ण है, इसलिए लंबी सैर, ध्यान या योग से इसे कम कीजिये। एक बार जब आपने आपके गुस्से को रोकना सीख लिया, तो आपका दिमाग शांत हो जाता है और आप खुद ही सामने खड़ी समस्या का हल ढूंढ लेते है।

4. कोई नई चीज सीखिए, क्योंकि यह नकारात्मक अनुभव के कारण होने वाले दुःख को कम करने का एक शानदार तरीका है। संगीत, शिल्प-कला, शारीरिक व्यायाम या खेल आदि सीखिए। इससे आपके दिमाग को, समस्या से कहीं और ध्यान केंद्रित करने में मदद होगी। यह दिल और दिमाग पर हो रहे बुरे असर को दूर करने में भी मदद करेगा। और जब आप पर इसका कम प्रभाव होगा, तो समाधान भी जल्दी से दिमाग में आयेगा। ऐसी स्थिति फिर आने से उसका सामना करने के लिए आपका दिमाग पहले से ज्यादा फिट रहेगा।

5. नकारात्मक जीवन के अनुभवों से निपटने का एक बहुत प्रभावी तरीका, कागज के एक टुकड़े पर अपनी सभी भावनाओं को लिखना है। जितना चाहें उतना लिखें, जितनी बार महसूस करें, उतनी बार लिखें लेकिन बाद में… कागज को फाड़ दें। अपनी भावनाओं को लिखने से खुद को और वर्तमान स्थिति को भी बेहतर ढंग से समझने में मदद मिलती है। यह टेंशन और तनाव के स्तर को भी नीचे लाता है और स्थिति पर काबू पाने का एक मजबूत साधन है।

6. आप उस जगह पर जाएं जो आपके वर्तमान जगह और जहां बुरा अनुभव हुआ, उससे अलग है। आप विशेष रूप से इसके लिए अपने दोस्तों के साथ दो-तिन दिन की यात्रा का प्लान बना सकते हैं। इस नई जगह पर, आपका दिमाग नई चीजों से निपटेगा और इसी तरह दिल भी प्रभावित होगा। अब समय है कि आप खुद को यह बताएं कि, आपने ऐसी स्थिति से क्या सीखा है और इस स्थिति को दूर न करने के बारे में क्या सोचते थे।

7. सकारात्मक सोचें या उन चीजों के बारे में सोचें जो आपको अच्छा महसूस कराती हैं ताकि नकारात्मक स्थिति से आया डिप्रेशन आपके दिमाग के पीछे चला जाएं। अधिक निष्क्रिय घटनाओं, बेहतर स्थितियों के बारे में सोचना या कोई ऐसी गतिविधि करना बहुत महत्वपूर्ण है जो आपको सकारात्मक महसूस कराए और आपको भावनात्मक और मानसिक रूप से वापस पटरी पर लाए। बार-बार नकारात्मक अनुभव से आपके शरीर और दिमाग की सारी ऊर्जा और ताकत को झकझोर देगी।

यदि आप इस ब्लॉग को पसंद करते हैं, तो कमेंट करना न भूलें और इसे अन्य लोगों के साथ शेअर करें।

How to Make Your Family Happy

Gone are the days when spending time with one another was the way we enjoyed life. Now with cell phones, after school classes and jobs that go around-the-clock, people have to think about better ways to keep their family happy. In my newly launched ‘MAD Family’ program, I talk about how you can build a family that is MAD: Mature, Affectionate and Divine. Here are some tips on how to do this:

1. Make It A Point To Enjoy Food Together –

When it comes to having fun with family members, the first thing that comes to mind is enjoying delicious food in the company of one another, relaxing and talking about stuff that happened during the week. In today’s fast-paced world, eating is something that’s done in a hurry. However, during the weekends or in holidays and even every day at dinner time, make it a point to include some interesting dishes that get’s everyone in a good mood and talk about heartfelt matters, events that can help everyone to unwind.

2. Indulge in creative activities –

It’s easy to sit with a plate of potato chips in front of the television with your kids, wife, brother or sister, but real togetherness comes from indulging in activities like drawing, painting, reading aloud a book, sharing creative ideas or inspirational stories. Make it a point to sit down at least half an hour every day or a couple of hours during weekends doing some fun crafts, arts, reading books, healthy discussions and other interesting things like this which enhances feelings of togetherness and happiness.

3. Do Cleaning Work Together –

Don’t make cleaning a chore that’s to be dreaded. Involve every family member subtly in some small activity in and around the house, but make it fun. For example, ask the kids to put all the toy clutter on the floor into a box for which they will get some chocolates. You can ask an older family member to fold clothes that are hanging in the garden while spending time enjoying its beauty. Always be involved with the family when cleaning or doing any chore as togetherness will make it more fun and also enhance feelings of togetherness, cleanliness and responsibility.

4. Stay Away From Gadgets And Television –

Relationships are built around how much time you spend doing something constructive than just sit in front of the television watching movies or playing games on the laptop or tablet. It may be an effort to set aside phone calls or keep away from that attractive video, but do it and you can see more communication between you and everyone at home. When you keep away from the cell phone or movie, there is more time to sit in the garden, balcony and talk about something that’s important to share, read a book together or play with the kids without a distraction.

5. Talk About The Family History –

One of the most important things to share is information about family members… about grandparents, cousins, as this makes kids feel grounded, belonged and they feel happier. Tell kids about how your grandmother’s clever ideas, craft skills helped or talk about an incident when she provided good emotional support as such things gives kids important points on life from which they can learn, which is not present in any book, television serial or games.

6. Have Clear Financial Goals And Don’t Talk About Money Always –

People who are always worried about their sources of income aren’t very happy at home. If the problem is the pay scale at work, look into better career prospects and steer towards a job that’s more satisfying and better paying. Once you have desired income flow, plan how the money is going to be spent and look into how much can be saved. Smartly plan outings by checking out holiday options, freebies for vacation resorts, adventure trips at discounted rates so that you save money and spend quality time with your family.

7. Discuss Important Things Frankly, Even Those Matters That Are A Bit Delicate –

Brainstorm on how to get the message across on those matters that are sensitive to your spouse, kids or other family members. It’s how tactfully such matters are discussed that relationships get stronger and problems get out of the way. A small solution can address a big problem and lead to its conclusion too, but how well you discuss it, how subtly it is brought forth, the solution given determines how much happier you become. In my ‘Change Your Life’ workshop, many families share the deepest of their feelings after experiencing a practical technique on a relationship and resolve their years of animosity.

8. Keep Voices Down Even If You Have An Argument And Do Not Fight In Front Of The Kids –

When you talk in a low voice, the point is put forth, but your emotions are more controlled and it sets an example for the other person. Furthermore, when you fight in front of kids, a bad example is set to avoid this. They need not know about adult issues which they cannot understand at a young age.

9. Listen to Music –

Music is one element that brings people together no matter what their age or interests. Get together popular tracks and listen to them together and sing out loud with each other. It’s fun, a great way to remove stress and also unwind from anything that’s been emotionally difficult.

अपने परिवार को कैसे खुश करें

वे दिन गए जब हम एक दूसरे के साथ समय बिताकर जीवन का आनंद लिया करते थे। अब सेल फोन आने से तथा स्कूल के बाद होनेवाली क्लासेस और चौबीसों घंटे रहनेवाली नौकरियों की शिफ्ट (कार्य पाली) के कारण, लोगों को अपने परिवार को खुश रखने के बेहतर तरीकों के बारे में सोचना होगा। मेरे नए शुरू किए गए ‘MAD’ फॅमिली ’कार्यक्रम में, मैं बात करता हूं कि आप कैसे एक परिवार को ‘MAD’ Mature, Affectionate and Divine (परिपक्व, स्नेहमय और दिव्य) परिवार बना सकते है। उसके कुछ सुझाव यहाँ दिए गए हैं:

1. मिलकर भोजन का आनंद ले –

जब परिवार के सदस्यों के साथ मौज-मस्ती करने की बात निकलती है, तब जो पहली बात मन में आती है वह है एक दूसरे के साथ स्वादिष्ट भोजन का आनंद लेना, तनाव मुक्त होना और पूरे सप्ताह में बीती घटनाओं के बारे में बातें करना। आज की भागम-दौड़ वाली जिंदगी में, खाना जल्दबाज़ी में खा लिया जाता है। इसलिए सप्ताहांत (शनिवार-रविवार) के दौरान या छुट्टियों में या फिर हर रोज रात के खाने में, कुछ दिलचस्प व्यंजनों को शामिल करें। जिस कारण हर किसी का मूड अच्छा बन जाए ताकि वे अपनी दिल की वे बातें करें, उन घटनाओं के बारे में बताए जो उन्हें तनाव मुक्त करने में मदद कर सकती हैं।

2. रचनात्मक गतिविधियां करना –

अपने बच्चों, पत्नी, भाई या बहन के साथ टीवी के सामने आलू चिप्स की प्लेट लेकर बैठना आसान है, लेकिन असली निकटता चित्रकला, पेंटिंग, कोई किताब जोर से पढ़ना, रचनात्मक विचार या प्रेरणादायक कहानियों को साझा करना जैसी गतिविधियों से आती है। हर रोज कम से कम आधा घंटा या सप्ताहांत में कुछ घंटों के लिए कुछ अच्छी कारीगरी, कला-कुशलता, किताबें पढ़ना, स्वस्थ चर्चा और इस तरह की अन्य रोचक चीजें करने हेतु बैठने की योजना बनाये। ऐसा करना उत्साह, खुशी और एकजुटता की भावनाओं को बढ़ाती है।

3. मिलकर साफ़-सफाई करें –

सफाई को बोरियत भरा और डरावना काम न बनाए। परिवार के हर सदस्य को घर के अंदर-बाहर के किसी न किसी छोटे काम में शामिल करें, लेकिन इसे मनोरंजक बनाएं। उदाहरण के लिए, बच्चों से कहें कि यदि वे फर्श पर बिखरे सभी खिलौनों को एक बक्से में बंद कर देते हैं तो उन्हें कुछ चॉकलेट मिलेंगी। आप परिवार के किसी बुजुर्ग सदस्य को बगीचे में सूखने के लिए डाले गए कपड़ों को तह करने के लिए कह सकते हैं। बगीचे की सुंदरता का आनंद लेते हुए उन्हें यह काम करने में मजा आएगा। सफाई करते समय या कोई दूसरा काम करते समय हमेशा परिवार के साथ शामिल रहें क्योंकि घनिष्ठता से काम ज्यादा मजेदार बनेगा और साथ ही साथ साथ निकटता, स्वच्छता और जिम्मेदारी की भावनाओं को बढ़ाएगा।

4. गैजेट्स और टेलीविज़न से दूर रहें –

जब आप टीवी के सामने बैठकर फिल्में देखने या लैपटॉप या टैबलेट पर गेम खेलने के बजाय कुछ रचनात्मक काम को समय देते हैं, तब रिश्तें मजबूत होते हैं। फोन कॉल नहीं लेना या खुद को किसी आकर्षक वीडियो से दूर रखना- इसके लिए प्रयास लग सकता है। लेकिन ऐसा करने से आप देखेंगे कि आपके और घर के अन्य सभी सदस्यों के बीच बातचीत और व्यवहार बढ़ गया हैं। जब आप सेल फोन या फिल्मों से दूर रहेंगे, तो आपके पास बगीचे या बालकनी में बैठने और शेयर करने लायक कोई महत्वपूर्ण बात बताने, किताब पढ़ने या इधर-उधर ध्यान भटके बिना बच्चों के साथ खेलने के लिए ज्यादा समय रहेगा।

5. परिवार के इतिहास के बारे में बात करें –

साझा करने के लिए सबसे महत्वपूर्ण चीजों में से एक परिवार के सदस्यों के बारे में जानकारी देना है, जैसे दादा-दादी, चचेरे ममेरे भाई-बहनों के बारे में बातें करना। क्योंकि इससे बच्चे स्थिरता, संबंधित होने का एहसास और खुशी महसूस करते हैं। बच्चों को बताएं कि कैसे उनकी नानी/दादी के बुद्धिमान विचार या होशियारी के कारण कोई काम बन गया था या किसी उस घटना के बारे में बात करें जब उन्होंने आपको भावनात्मक आधार दिया था। क्योंकि ऐसी चीजें बच्चों को जीवन की महत्वपूर्ण सीख देती हैं, जो किसी भी पुस्तक, टीवी सीरियल या गेम से नहीं मिलती।

6. पैसों के बारे में स्पष्ट लक्ष्य रखे और हमेशा पैसों के बारे में बात न करें –

जो लोग हमेशा अपनी आय के बारे में चिंतित रहते हैं, वे घर पर बहुत खुश नहीं होते हैं। यदि समस्या काम के वेतनमान की है, तो बेहतर कैरियर की संभावनाओं पर गौर करें और वह नौकरी ढूंढे जो अधिक संतोषजनक हो और बेहतर आमदनी देती हो। जब आपको इच्छित इनकम मिलने लगे तो योजना बनाएं कि धन को कैसे खर्च करना है और कितना पैसा बचाया जा सकता है। छुट्टीयां कैसी बितायी जाए, रिसॉर्ट में छुट्टियों के लिए मुफ्त की छूट कैसे प्राप्त की जाए, रियायती दरों पर की जानेवाली साहसिक यात्राएं इत्यादी के बारे में जानकारी निकाले और बुद्धिमानी से बाहर समय बिताने का प्लान करें ताकि आप पैसे बचा सकें और अपने परिवार के साथ अच्छा समय भी बिता सकें।

7. महत्वपूर्ण बातों पर स्पष्ट रूप से चर्चा करें, भले वह नाजुक मामलें ही क्यों न हो –

आपके पति या पत्नी, बच्चे या परिवार के अन्य सदस्य जिन मामलों के प्रति संवेदनशील हो ऐसे मामलों को उन तक कैसे पहुंचाए, इस पर गंभीरता से सोचे। इस तरह के मामलों पर कितनी चतुराई से चर्चा की जाती है, इस पर रिश्ते मजबूत होना और समस्याएं खत्म होना निर्भर करता है। एक छोटा सा समाधान एक बड़ी समस्या को हल कर सकता है और निष्कर्ष भी निकाल सकता है, लेकिन आप इस पर कितनी अच्छी तरह चर्चा करते हैं, कितनी आसानी से इसे सामने लाया जाता है, दिया गया समाधान कैसा है – यह तय करता है कि आप कितने खुश हुए हैं। मेरे ‘Change Your Life’ (चेंज योर लाइफ़) कार्यक्रम में, कई परिवार रिश्तों पर एक व्यावहारिक समाधान का अनुभव करने के बाद अपनी अंदर की भावनाओं को साझा करते हैं और अपने वर्षों पुरानी दुश्मनी को हल करते हैं।

8. आवाज नीचे रखें, भले ही आपके पास अच्छा तर्क हो और बच्चों के सामने लड़ाई न करें –

जब आप कम आवाज में बात करते हैं, तब बात सामने तो रखी जाती है, लेकिन आपकी भावनाएं नियंत्रण में रहती है है। यह दूसरे व्यक्ति के लिए एक अच्छा उदाहरण बनता है। इसके अलावा, जब आप बच्चों के सामने लड़ते हैं, तो एक बुरी मिसाल कायम की जाती है, इसलिए इससे हमेशा बचें। बच्चों को बड़ों की बातें जानने की आवश्यकता नहीं है जिन्हें वे अपनी कम उम्र में समझ नहीं सकते।

9. संगीत सुनें –

संगीत ऐसी चीज है जो लोगों को एक साथ लाती है चाहे उनकी उम्र या रुचि कुछ भी हो। आप लोकप्रिय गाने चुनें, उन्हें एक साथ सुनें और एक दूसरे के साथ ज़ोर से गाएं। यह आनंद देता है, तनाव को दूर करने का एक शानदार तरीका है और भावनात्मक रूप से मुश्किल रहनेवाली किसी भी चीज़ के तनाव को कम करती है।

Are you constantly complaining ?

Why constant complaining is lethal for you?

Life can sometimes be extremely stressful. We constantly face a lot of challenges in our day to day lives that add to the stress. This sometimes makes us enter into the complaining mode. We start complaining constantly to our family members, friends, colleagues and even to the strangers whom we meet in the elevators. We will see millions of people actually complaining about everything or just nothing for all. The Gilbertson cited that people who accept bad things in their lives have a much better prospect of happiness than one who doesn’t.

Of course, constant complaining influences mental health in a negative manner. It is contagious too and drives others to negative emotions as well. Even by getting surrounded by the bad-mouthed pals, we tend to solidify our negative thoughts. Due to an inherent tendency of humans towards empathy, they are subconsciously trying out the similar emotions which their friends might have experienced. But what many of the people don’t realize is that the way we complain has huge implications on our mental health and lives. The participants of my ‘Change Your Life’ workshop create a breakthrough when they simply avoid this one negative habit of constant complaining.

Let’s find out how venting is actually making the things quite worse for you.

Here are a few of the negative implications of constant complaining.

1) Adds to stress

When you are complaining about anything, you are trying to relive whatever is actually upsetting you. Thus it makes sense that the constant habit might stress you right out there. A licensed professional counsellor claims that this is related to the hyperaroused state which many of the people might enter during their venting session. Well, it is all right to be keyed up in this state once in a while but indulging in such behaviour regularly may take a toll of your health.

2) Enhances negativity

The constant complaining actually trains the body to enter into the vicious of the stress cycle and also negativity which is of course not good for the health. When the negative thoughts hit the brain hard, it actually reinforces the automatic response which triggers more of the negative thoughts. In this way, we are actually putting ourselves into the cycle of abuse.

3) Might ruin relationships

When we go through the tough times in our lives, it is our loved ones that offer constant support. But it is extremely crucial for you to stop complaining before you realize that you have actually abused the generosity as well as the care of your family and friends. It might be possible that due to constant complaining some of the friends might feel burnt out and pushed away.

4) Complaining is bad for health

Well, it is not a sort of exaggeration to claim that chronic complaining affects a person’s health. When we complain, our bodies release a stress hormone called cortisol. This hormone enters the body into the fight or flight mode which increases the blood pressure, sugar level and makes our body susceptible to an increase cholesterol level, diabetes and also heart problems. Well, our brain becomes quite vulnerable to the strokes too.

5) Slow burn

What many of us don’t realize is that the constant complaining doesn’t manifest our issues straight away. Just like a clock itself the same issue just tick and move on. There is also a slight neurological transformation each and every time. Just imagine tearing out a page from your dictionary. The dictionary may contain hundreds and thousands of pages but when you actually rip of one it becomes lesser and lesser. This is what you are essentially doing with the brain as well when you are constantly complaining and entering your brain into the negativity. Tearing single page at a time doesn’t seem to manifest a serious issue at all but when the same act is repeated years after years, it transforms the brain and its elements showcasing damage.

Takeaway

Just like excessive smoking or drinking even the complaining is bad for us. Save yourself and your loved ones from further misery by looking for cleaner solutions to the problems and adopting a self-regulation strategy. Try to resolve the issues that are troubling you. The better you actually turn towards avoiding the negativity, rage or anxiety, the healthier you will become in the overall haul.

Like, comment and share this blog with others. And if you’d like to get more of such tips, watch my FREE ‘Dynamic Yoga’ program on YouTube.

क्या आप लगातार शिकायत करते रहते हैं?

जीवन कभी-कभी बहुत तनावपूर्ण हो सकता है। हम अपने हर रोज के जीवन में बहुत सी चुनौतियों का सामना करते हैं जो तनाव को बढ़ाते हैं। यह कभी-कभी हमें शिकायत करने की स्थिति में ले जाता है। हम अपने परिवार के सदस्यों, दोस्तों, सहकर्मियों और यहां तक कि उन अजनबियों से भी शिकायत करना शुरू कर देते हैं जिनसे हम अभी-अभी लिफ्ट में मिले हैं। हम लाखों लोगों को हर चीज के बारे में शिकायत करते पाएंगे या यूँही किसी भी चीज को लेकर शिकायत करते देखेंगे। गिल्बर्टसन ने कहा हैं कि जो लोग अपने जीवन में बुरी चीजों को स्वीकार नहीं करते हैं, उनकी तुलना में बुरी चीजे स्वीकार करने वालों के पास खुश होने के ज्यादा मौके होते है।

लगातार शिकायत करना हमारे मानसिक स्वास्थ्य के लिए बहुत हानिकारक होता है। यह नकारात्मक भावना फैलती है और दूसरों में भी नकारात्मकता भर देती है। यहां तक कि गाली-गलौच करनेवाले दोस्तों से घिरे रहने से भी हम अपने नकारात्मक विचारों को मजबूत करते हैं। मनुष्यों में, स्वाभाव से ही सहानुभूति की प्रवृत्ति होती है। इस कारण, वे अवचेतन रूप से समान भावनाओं को आज़माते हैं जो उनके दोस्तों ने अनुभव किया होगा। लेकिन बहुत से लोगों में यह समजदारी नहीं है कि हमारे शिकायत करते रहने से हमारे मानसिक स्वास्थ्य और जीवन पर बहुत बड़ा प्रभाव पड़ता है। मेरी ‘Change Your Life’ (चेंज योर लाइफ़) कार्यशाला के प्रतिभागी, लगातार शिकायत करने की इस एक नकारात्मक आदत से जब बचते हैं तब खुद में वे बहुत बड़ा बदलाव लाते हैं।

चलिए, जानते है कि उत्तेजनाओं को बाहर निकालने से आपके लिए चीजें कैसी और बुरी बनती है।

लगातार शिकायत करते रहने की आदत के कुछ बुरे प्रभाव यहां दिए गए हैं।

1) तनाव बढ़ाता है

जब आप किसी भी चीज़ के बारे में शिकायत करते हैं, तो आपको जो भी चीजें परेशान कर रही हैं, आप उसे फिर से अनुभव करते हैं। इस प्रकार लगातार परेशान रहने की यह आदत आपको तनाव में डाल सकती है। एक लाइसेंस प्राप्त पेशेवर काउंसलर/ सलाहकार का दावा है कि यह स्थिति उस अवस्था जैसी है जो कई लोग अपने गुस्सा निकालने के दौरान अनुभव करते हैं। कभी-कभार किसी एक समय के लिए यह स्थिति महसूस करना सही है, लेकिन नियमित रूप से इस तरह के व्यवहार में डूबे रहने से आपके स्वास्थ्य पर बुरा असर पड़ सकता है।

2) नकारात्मकता को बढ़ाता है

हमेशा शिकायत करना शरीर को, तनाव और नकारात्मकता के दुष्चक्र में डालता है, जो निश्चित रूप से स्वास्थ्य के लिए अच्छा नहीं है। जब नकारात्मक विचार दिमाग पर जोर से वार करते हैं, तो यह अपने आप नकारात्मक विचारों की एक कड़ी शुरू कर देता है। इस तरह, हम खुद को हानि पहुँचाने के चक्कर में डालते हैं।

3) संबंधों को बर्बाद कर सकता है

जब हम अपने जीवन में कठिनाईयों से गुजरते हैं, तो हमारे प्रियजन हमें हमेशा मदत करते हैं। आपने अपने परिवार और दोस्तों के प्यार, उदारता और देखभाल का दुरूपयोग नहीं करना चाहिए। इसलिए आपने शिकायत करना बंद करना बहुत जरुरी है। लगातार शिकायत के कारण कुछ दोस्त थककर आपसे दूर चले जा सकते है।

4) शिकायत करना सेहत के लिए बुरा है

खैर, यह एकदम पक्का है कि हमेशा शिकायत करते रहने से व्यक्ति का स्वास्थ्य बिगड़ता है। जब हम शिकायत करते हैं, तो हमारा शरीर कोर्टिसोल नामक एक तनाव हार्मोन को शरीर में छोड़ता हैं। यह हार्मोन हमारे शरीर को ऐसी अवस्था में ले जाता है जो ब्लड प्रेशर और शुगर के स्तर को बढ़ाता है। यह कोलेस्ट्रॉल का स्तर, डायबिटीज और हृदय की समस्याओं को बढ़ाने के लिए हमारे शरीर को तैयार करता है। हमें दिमाग का स्ट्रोक भी हो सकता है।

5) धीरे-धीरे कमजोर होना

हममें से कई लोगों को यह समझ में नहीं आता कि लगातार शिकायत करने से हमारे मुद्दे सीधे सामने नहीं आते हैं। किसी घड़ी की तरह ही एक मुद्दा बस टिक-टिक करता है और आगे बढ़ता है। लेकिन हर बार एक मामूली न्यूरोलॉजिकल (तंत्रिका संबंधी) परिवर्तन भी होता है। आप अपने शब्दकोश (डिशनरी) से एक पन्ना फाड़ने की कल्पना कीजिये। एक शब्दकोश में सैकड़ों और हजारों पेज हो सकते हैं लेकिन जब आप एक-एक पन्ने को फाड़ते जाते हैं तो आपकी डिशनरी कम-कम होती जाती है। जब आप लगातार शिकायत करते हैं और अपने दिमाग को नकारत्मकता में ले जाते हैं तब आप बस यहीं करते हैं। एक समय में एक पन्ना फाड़ना बिल्कुल भी नुकसान नहीं करता है, लेकिन जब आप एक ही काम को वर्षों तक करते रहते हो, तब उसका असर दिखता है। उसी तरह हमेशा शिकायत करते रहना, दिमाग और उसके तत्वों को नुकसान पहुंचाता है।

निष्कर्ष (पाठ)

जैसे बहुत अधिक धूम्रपान करना या शराब पीना हमारे लिए बुरा है, उसी प्रकार अधिक मात्रा में शिकायत करना भी हमारे लिए हानिकारक है। समस्याओं के अच्छे समाधान की तलाश करें। खुद को नियंत्रण में रखने की नीति अपनाकर अपने आप को और अपने प्रियजनों को अधिक दुख से बचाएं। उन मुद्दों को हल करने की कोशिश करें जो आपको परेशान कर रहे हैं। जितना आप नकारात्मकता, क्रोध या चिंता से बचने की कोशिश करते हैं उतना अच्छा है, क्योंकि ऐसा करने से आप संपूर्ण रूप से स्वस्थ हो जाएंगे।

इस ब्लॉग को अन्य लोगों के साथ लाइक, कमेंट और शेयर करें। अगर आप इस तरह के और टिप्स पाना चाहते हैं, तो YouTube पर मेरा ‘Dynamic Yoga’ (डायनामिक योगा ) कार्यक्रम मुफ़्त में देखें।

7 Ways To Make People Like You Instantly

It’s a wedding season. With so many social gatherings and meet-ups, many struggles to be themselves. Many others find socializing to be a big burden! Thus, for them, today we will talk about how to make others like you – instantly! But there is a small disclaimer. It is a skill you need to hone over time. Don’t assume that after reading this post, you shall go from someone with social anxiety to now a party animal! It is time taking, but these tips, once followed, will give you quicker results. This is one of the most significant skills that my participants of ‘Train the Trainer- Train the Leader’ program learn. Here are some quick tips on it.

1. Strike Interests:

The easiest way to be in someone’s good books is to strike interests with them. Common hobbies, likes & dislikes can make for great conversations. And great conversations lead to even greater friendships. In case things don’t go your way – Always remember that despite having different opinions, it is more fruitful to accept others’ viewpoint than to argue. In such cases, try to divert the topic of your conversation to something everyone will enjoy.

2. Actively Listen:

People tend to like those who listen to them. Not hear, listen. There lies the big difference. Hearing is just words dropping on your earlobes and not making a difference. Listening is actively understanding and contributing to a conversation. Always be a listener. Most people, especially at social gatherings, tend to vent out a lot. To instantly make someone like you, sometimes all you need to do is listen! It is an excellent quality to have.

3. Sweet Gestures:

Always be polite, keep smiling & make small yet sweet gestures even to strangers. It is not necessary to exchange contact information for someone to remember you. Sometimes, when you go out of your way & help someone out with a small gesture, they tend to keep you in their memory for longer.

4. Agree:

I am sure most people know that agreeing with others is a great way to get into their social circle. It makes a mark on others, and you get noticed. Learn to agree with others’ opinions, and you are golden. This might sound fake right now but what do you have to lose? In fact, if you learn to put aside your ego for a moment, you will probably gain a friend. So it is a win-win situation! This is a huge point people follow from one of our books ‘The Great Salesman’– a Must-read book if you want to develop your selling and convincing skills.

5. Bond Over Food:

The one rule that never goes wrong or out of style! Bond with people over food (and maybe through food too!). People tend to be their most happy selves when they’re eating. And what are social gatherings without food? You can never go wrong if you bond with someone over food. And what better if you also recommend each other your favourite places to eat around town?

6. Passion:

Be a passionate person. People respond to feelings more than they respond to logic. No matter the topic of the conversation, if you speak with heartfelt passion you will definitely be able to strike a chord with others around you.

7. Be Yourself:

This comes last for a good reason. The one thing that most people feel will not make them likeable is being themselves. But you could not have been more wrong. Being yourself is of utmost importance no matter the people around you. There’s a sense of spark within us. That’s what makes us shine and stand out from the rest. Never lose it, never distrust it!

I am certain that these little tips would help you to a great extent! If you try these, do share your experience with us. Let us bond and help each other out.

ये 7 तरीके अपनाने से लोग आपको तुरंत पसंद करने लगेंगे

यह शादीयों का मौसम है। इस समय बहुत सारी सामाजिक सभायें और मेलमिलाप होते है। ऐसे में कई लोग खुद को सामान्य रूप से पेश करने के लिए संघर्ष करते हैं। कई लोगों के लिए दुसरे लोगों से मिलना, उनसे दोस्ती करना बड़ा बोझ होता हैं! इसलिए, उनके लिए, आज हम उन तरीकों के बारे में बतायेंगे जो अपनाने से लोग आपको तुरंत पसंद करने लगेंगे! लेकिन एक छोटा-सा रोड़ा है। यह ऐसी कुशलता है जिसे आपको समय के साथ बढ़ानी होगी। यह मत मान लीजिये कि इस पोस्ट को पढ़ने के बाद, आप शर्मीले व्यक्ति से तुरंत बदल कर किसी पार्टी की जान बन जाएंगे! इसके लिए समय लगेगा, लेकिन इन युक्तियों का पालन करने के बाद, आपको जल्दी परिणाम मिलेंगे। यह सबसे महत्वपूर्ण कौशल में से एक है जो ‘ट्रेन दि ट्रेनर-ट्रेन दि लीडर’ कार्यक्रम के मेरे सहभागी सीखते हैं। उसपर यहां कुछ तत्काल सुझाव दिए गए हैं।

1. समान रुचियां:

किसी की नज़रों में अच्छा होने का सबसे आसान तरीका है, उनके जैसी समान रुचियां होना। एक जैसी रुचियाँ, पसंद और नापसंद अच्छी बातचीत के अवसर ले आता हैं। और अच्छी बातचीत से अच्छी दोस्ती की शुरुआत होती है। यदि चीजें आपने जैसी सोची थी वैसी नहीं होती हैं – तब हमेशा याद रखें कि अलग-अलग राय होने पर, तर्क के मुकाबले दूसरों के दृष्टिकोण को स्वीकार करना ज्यादा अच्छा होता है। ऐसे मामलों में, अपनी बातचीत को किसी ओर विषय की ओर मोड़ दे, जिसका आनंद सभी ले सके।

2. सक्रिय रूप से सुनिए:

लोग उन लोगों को पसंद करते हैं जो उनकी बात सुनते हैं। सिर्फ सुनिए मत बल्कि ध्यान देकर सुनिए। दोनों में बड़ा अंतर है। सुनना मतलब सिर्फ आपके कानों पर गिरने वाले शब्द हैं जिसका व्यक्ति पर कोई असर नहीं पड़ता। परन्तु ध्यान देकर सुनने का मतलब है किसी बातचीत को सक्रिय रूप से समझना और उसमे योगदान करना। हमेशा श्रोता बनें। ज्यादातर लोग, विशेष रूप से सामाजिक सभाओं में, तरह-तरह की बातें करते हैं। किसी को आप तुरंत पसंद आने के लिए, कभी-कभी आपको बस ध्यान से सुनने की जरुरत होती है! यह एक अच्छा गुण है, जो हम में होना चाहिए।

3. प्यारे तरीके से भाव व्यक्त करना:

हमेशा विनम्र रहें, मुस्कुराते रहें और अजनबियों से भी, भले ही छोटे परन्तु मीठे तरीके से भाव व्यक्त करें। किसी ने आपको याद रखने के लिए कांटेक्ट लेना-देना जरुरी नहीं है। कभी-कभी, जब आप हटकर किसी के लिए छोटा सा काम करते हैं, तो वे आपको लंबे समय तक याद रखते हैं।

4. सहमत होना:

मुझे पक्का पता है कि ज्यादातर लोग यह जानते हैं कि दूसरों के साथ सहमत होना उनके सामाजिक सर्कल में आने का एक शानदार तरीका है। यह दूसरों को प्रभावित करता है और आप की ओर ध्यान खींचता हैं। दूसरों की राय से सहमत होना सीखें, और ‘सिकंदर’ बनिए। यह अभी नकली लग सकता है लेकिन ऐसा करने से आप क्या खोते है? कुछ भी नहीं! वास्तव में, यदि आप एक पल के लिए अपने अहंकार को दूर रखना सीखते हैं, तो आपको शायद एक दोस्त मिलेगा। यह तो जीत ही होती है! हमारे किताबों में से एक, ‘द ग्रेट सेल्समैन’ से लोग इसी महत्वपूर्ण बात को सीखते हैं। आपके बिक्री करने की और विश्वास दिलाने के कौशल को विकसित करने के लिए यह एक बहुत जरूरी किताब है।

5. भोजन करें-दोस्ती बढ़ाएं:

यह एक ऐसा नियम जो कभी गलत नहीं होता या अपनी स्टाइल नहीं खोता! भोजन पर लोगों के साथ दोस्ती बढ़ाएं (और शायद भोजन के माध्यम से भी!)। जब लोग खा रहे होते हैं तब वे सबसे ज्यादा खुश होते हैं। भोजन के बिना सामाजिक सभा क्या हैं? यदि आप भोजन पर किसी के साथ दोस्ती बढ़ाते हैं तो आप कभी गलत नहीं हो सकते। इससे बेहतर क्या होगा यदि आप एक दूसरे को शहर के आसपास के खाने की जगहों की सलाह देते हैं?

6. जुनून:

एक भावुक व्यक्ति बनें। लोग तर्क का जवाब देने से ज्यादा भावनाओं को जवाब देते हैं। बातचीत के विषय से कोई फर्क नहीं पड़ता। अगर आप दिल से, जुनून के साथ बात करते हैं तो आप निश्चित रूप से अपने आस-पास के लोगों के साथ दोस्ती करने में सफल होंगे।

7. प्राकृतिक तरीके का व्यवहार करें:

अच्छा है की हम इस महत्वपूर्ण मुद्दे को सबसे आखरी ले रहे है। ज्यादातर लोग सोचते हैं कि जब वे बनावटी व्यवहार नहीं करेंगे और प्राकृतिक तरीके का व्यवहार करेंगे तो लोग उन्हें नापसंद कर देंगे। लेकिन ऐसा सोचना बहुत ही गलत है। आपके आस-पास के लोगों के बारे में सोचते रहने के बजाय स्वयं जैसे है वैसे होना अत्यंत महत्वपूर्ण है। ऐसा करने से हमारे भीतर सजीवता की भावना होती है। यही कारण है कि हम दूसरों से अलग दिखते हैं। इसे कभी न खोएं, इसपर कभी संदेह न करें!

मुझे विश्वास है कि ये छोटे टिप्स आपको काफी हद तक मदद करेंगी! यदि आप इन्हें आजमाते हैं, तो अपने अनुभव को हमारे साथ साझा करें। चलिए, हम आपसी दोस्ती के बंधन में बंधे और एक-दूसरे की मदद करें।

How Lying Affects your Relationship ?

Lying is vicious. All of us are aware of this fact, and yet we don’t stop ourselves from lying when it comes to our relationships. When this becomes a habit, there are too many insecurities & uncomfortable circumstances that we tend to put ourselves through. We conveniently forget the stress that we put on ourselves and the other person while continuing the said behaviour!

In my 4-days program ‘Ultimate Life’, I always stress upon this point where participants ultimately understand that ‘Truth will set you free.’ Today I want to address this issue and bring light on how lying affects our relationships and trust me it is never in a good way. It always has a toxic effect on everyone involved in the relationship.

It is a web:

We are all aware of the adage ‘a web of lies’. Why is it a web? Because to avoid one lie you need ten more. To prevent those ten, you need a hundred more. And this goes on & on unless you are exhausted. Thus, if you are not a master story-teller who has no boundaries whatsoever concerning the length you shall go to in order to ensure a certain image of yourself, stop lying! It is not worth it!

Instills Fear:

Needless to say a web of lies brings along with itself a lot of fear. Fear that someone might uncover your truth, the fear of getting exposed to your insecurities, fear that people will judge you etc. This goes beyond count. Lying instils fear that you don’t need the burden of. When one truth can set you free why strain your relationships with the headache of lying? If someone does not like you the way you are, then great! This way you can find out the truth about your relationship before taking it to a more serious level. Better sooner than later, right?

Razor-sharp Memory:

If you can remember a million lies to hold onto one relationship, you can definitely remember the actual, significant details of your relationships! Instead of lying, be sensitive & pay more attention to the little things that make you & the other person happy. Lying only leads to more mistrust, regrets & deceit. You will only end up having trust issues because of pushing your luck beyond a certain point with your white lies. Then it shall become difficult to bring the relationship back to normal!

Tendency to Change:

Lying will subconsciously make you lose your true self in front of the other person. You will constantly feel the need to put up a fake demeanour & put forth “an act” merely because of your unwillingness to be honest! Isn’t it a big price to pay? And believe me, if the other person is a true friend, he/she will be able to understand the difference in your behaviour very easily! Consequentially, complications, arguments & fights will become inevitable!

Tedious Efforts:

Instead of making voluntary efforts in hiding every lie ever told to save your relationship, you can make efforts to save it by simply being truthful! Truth is bitter no doubt, but it also tests the purity of your relationships & saves you from innumerable efforts which are not only tedious but are highly unnecessary!

During the relationship session of my signature event ‘Change Your Life’ Workshop, participants dissolve years of fights and misunderstandings where they simply speak the truth. So be more honest & noble in your relationships unless you like the additional drama lying brings along with itself! However, if you want straight-forward, simple & happy relations in each sphere of your life, learn to be sensitively honest instead of being forthright with your white lies! Why don’t you pick up your phone and dial the number of that one person you have not been truthful to? Why don’t you tell him/her your honest account right now? Not unless you actually do it will you understand the power of truth!

झूठ कैसे आपके रिश्ते को प्रभावित करता है

झूठ बोलना दृष्टता है। हम सभी यह सच्चाई जानते हैं लेकिन फिर भी जब हम अपने रिश्तों की बात करते हैं तो हम झूठ बोलने से खुद को नहीं रोकते। जब यह आदत बन जाती है, तो हम अपने आप को कई असुरक्षित और असुविधाजनक परिस्थितियों में डालते हैं। हमने अपने व्यवहार से खुद को और दूसरे व्यक्ति को जो तनाव दिया था उसे हम आसानी से भूल जाते हैं!

मेरे 4-दिवसीय कार्यक्रम ‘अल्टीमेट लाइफ’ में, मैं हमेशा इस बात पर जोर देता हूं और अंत में सहभागियों के समझ में आता है कि ‘सत्य आपको मुक्त कर देगा।’ मैं आज झूठ बोलना हमारे संबंधों को कैसे प्रभावित करता है इस मुद्दे पर बात करना चाहता हूं और इसे समझाना चाहता हूं। झूठ बोलना कभी अच्छा नहीं होता है। यह हमेशा हर संबंध के हर किसी पर बहुत बुरा प्रभाव डालता है।

1. यह एक जाल है:

हम सब ‘झूठ का जाल’ के बारे में जानते हैं। यह एक जाल क्यों है? क्योंकि एक झूठ से बचने के लिए आपको दस और झूठ बोलने की जरूरत पड़ती है। उन दस को रोकने के लिए, आपको सौ और चाहिए। और यह तब तक यह चालू रहता है जब तक आप थक नहीं जाते। इस प्रकार, यदि आप कोई बड़े कथाकार नहीं हैं जो आपनी छवि बनाने के लिए किसी भी स्तर तक जा सकते हैं, तो झूठ बोलना बंद कीजिये! यह फायदेमंद नहीं है!

2. मन में डर बैठता है:

यह बताने की जरूरत नहीं है की झूठ का जाल अपने साथ डर लेकर आता है। डर रहता है कि कोई आपकी सच्चाई बता सकता है, सबके सामने अपनी असुरक्षा खुली हो जाने का डर, डर कि लोग आप का आकलन करेंगे आदि।
ऐसी अनेक बाते है जिसकी गिनती नहीं कर सकते। आपको झूठ बोलने के डर के बोझ की जरूरत क्यों रखना चाहिए? जब एक सच्चाई आपको मुक्त कर सकती है तो झूठ बोलने के सिरदर्द से अपने रिश्तों को क्यों ख़राब करें? अगर कोई आपको पसंद नहीं करता है तो भी चलेगा! इस तरह आप अपने संबंध को आगे बढ़ाने से पहले अपने रिश्ते के बारे में सच्चाई जान सकते हैं। बाद में समझने से अभी इसी समय समझ जाना ज्यादा अच्छा है, है ना?

3. अति तेज स्मरणशक्ति:

यदि आप एक रिश्ते को पकड़े रखने के लिए दस लाख झूठ याद कर सकते हैं, तो आप निश्चित रूप से अपने रिश्तों के सही, महत्वपूर्ण बातें याद कर सकते हैं! झूठ बोलने के बजाय, संवेदनशील रहें और उन छोटी चीजों पर अधिक ध्यान दें जो आपको और दूसरे व्यक्ति को खुश करते हैं। झूठ बोलने से अविश्वास, पछतावा और छल बढ़ता है। एक निश्चित बिंदु के बाद, आप अपने सफ़ेद झूठ के कारण केवल अविश्वास को ही जन्म देंगे। फिर रिश्ते को सामान्य करना मुश्किल हो जाएगा!

4. बदलने की प्रवृत्ति:

झूठ बोलने से आप दूसरे व्यक्ति के सामने अपना सच्चा चरित्र खो देंगे। आपको लगातार नकली व्यवहार करने की आवश्यकता महसूस होगी और ईमानदार होने की आपकी अनिच्छा के कारण ही हमेशा एक “नाटक” करना पड़ेगा! क्या यह एक बहुत बड़ी कीमत नहीं है? मेरा विश्वास कीजिये, अगर दूसरा व्यक्ति एक सच्चा दोस्त है, तो वह आपके व्यवहार के अंतर को आसानी से समझ पाएगा/पायेगी! परिणाम यह होगा की बहस, झगड़े और कठिनाईयां निश्चित ही होंगे।

5. कष्टदायक प्रयास:

अपने रिश्ते को बचाने के लिए कहे गए हर झूठ को छिपाने में स्वयं प्रयास करने के बजाय, आप इस रिश्ते को सच्चाई से बचाने का प्रयास कर सकते हैं! इसमें कोई संदेह नहीं है की सच्चाई कड़वी होती है, लेकिन यह आपके रिश्तों की शुद्धता की भी परीक्षा लेती है। यह आपको बहुत सारे थकाऊ और अनावश्यक प्रयासों से बचाती है!

मेरे कार्यक्रम ‘चेंज योर लाइफ’ वर्कशॉप के रिलेशनशिप सत्र के दौरान, सहभागी वहाँ सच बोलकर वर्षों पुराने झगड़े और गलतफहमीयों को दूर करते हैं। तो आप अपने रिश्तों में अधिक ईमानदार और अच्छे रहें और झूठ बोलने के साथ होनेवाले ड्रामा से बचे। अगर आप अपने जीवन के हर क्षेत्र में सीधा-साधा, सरल और खुशियों भरा संबंध चाहते हैं, तो अपने सफेद झूठ के साथ जीने के बजाय संवेदनशीलता से ईमानदार होना सीखें! आप अपना फोन उठाकर उस व्यक्ति का नंबर क्यों नहीं डायल करते जिसके साथ आपने झूठ बोला था? आप उसे अभी अपनी सच्चाई क्यों नहीं बताते? जब तक आप वास्तव में ऐसा नहीं करते हैं, तब तक आप सच की शक्ति को नहीं समझेंगे!

If YOU FEEL YOUR PARENTS DON’T UNDERSTAND YOU, READ THIS

I was at Naturopathy Centre conducting 4-days Camp ‘Ultimate Life’ where one of the participants asked me about his ever-bothering issue with his father. Every other sentence he said was, “But he never understands me.” Most of the teenagers or even young-adults that I interact with on a daily basis have this common issue. This post is targeted at catering to the sometimes (or for some people ‘often’) straining relationship that we share with our parents. Now the first way to diffuse this tension or stress is to know that having an unsure equation with your parents is NORMAL, i.e., EVERYONE GOES THROUGH IT.

So once you generalize this problem, you shall be able to look at its solution very objectively too. The major reason for a see-saw like a relationship that we have with our parents is because of the obvious generational gap. They belong to a generation we know too little or sometimes nothing about. This is a fact, not an excuse for you to build problems with your parents. You cannot cite ‘generational gap’ as a problem or an issue that you share with your parents. The only way to deal with it is to accept it. Of course, there’s a generational gap and that’s what makes it beautiful in the first place!

The problem actually arises when this generational gap leads to a lack of communication between you and your parents. This is when you will begin to feel like your parents don’t understand you. But for once, why don’t you take the responsibility for this problem and then look at the said issue in a new light? Have you ever tried to rationally convey your point of view in front of them? Why does it ALWAYS have to be an intense argument or a fight? Why can’t it be a conversation? A relationship is always built upon both parties working equally hard at it. So by rebelling if you think that you are doing your part of the job, then you are highly mistaken!

Learn to talk often. By talking I mean having meaningful conversations. Talk about your interests actively with your parents instead of only sharing them with your close friends. This is the problem. All of us are so comfortable with being our true selves only with our friends that we don’t take our parents seriously or our parents don’t actually understand/know who we truly are. So instead of talk about your likes, dislikes, favorites, failures, problems within your friends’ circle etc. with your parents. A huge part of correct communication is also active listening. So don’t just rant about your things to your parents, but also listen to them when they are talking instead of ignoring. Sometimes our parents tend to keep their emotions inside, so when you feel like they are not telling you everything, take the responsibility of asking them questions. This could be something as simple as asking them about how their day went!

The generation gap will always be a victim unless you do something about it. Take interest in what they like such that they take interest in what you do as well. Make your parents a part of your new world with your new technologies and social media. Teach your parents certain things that might interest them and in turn, you shall be surprised at how fun-loving they tend to become. Of course, this too is a two-way street. So let them also teach you certain things that solely belong to their generation, and learn those things with equal interest. Don’t make them feel like they don’t belong! This is the simplest way to spend quality time together!

One significant loophole that exists in the relation we have with our parents is that we don’t think before we speak! This is why sometimes we hurt our parents unintentionally, even if sometimes we are right! This is extremely important during disagreements – to think before speaking. Disagreements should lead to debates and discussions and NOT fights and quarrels. So learn to eat up your words once in a while especially if it can save you the trouble of an argument! Also, it might seem idealistic but take their advice. They are more experienced in life and even though their generation/methods seem outdated, sometimes they tend to work! Don’t make them feel unworthy. Listen and heed to their advice.

You can choose to read my book ‘Formula for Students’ and gift ‘Formula for Parents’ book (Available in Gujarati & English as well) to your mom-dad for a loving and harmonious relationship.

These are some of the very basic mistakes that we commit and then feel a sincere emotional gap between us and our parents. It is just about shifting that perspective and changing certain basic habits to feel oneness again. And it is okay to fight once in a while, it is NORMAL. That’s what makes you a family. Don’t dramatize it, learn from it and make continuous efforts to ensure that your relationship is a healthy one!

अगर आप महसूस करते हैं की आपके माता-पिता आपको समझते नहीं है, तो इसे पढ़िए

 

मैं 4 दिनों के शिविर ‘Ultimate Life’ (अल्टीमेट लाइफ) आयोजित करने वाले नेचुरोपैथी सेंटर में था, जहां सहभागियों में से एक ने मुझे उनके पिता के साथ उन्हें हमेशा चिंतित करनेवाले मुद्दे के बारे में पूछा। बातचीत में हर दूसरे वाक्य के बाद वे कहते, “लेकिन वे मुझे कभी समझते नहीं है।” जिनसे मैं रोज बातचीत करता हूं, उन अधिकांश किशोर या युवा-वयस्कों का यह आम मुद्दा है। यह पोस्ट उन लोगों के लिए है जो कभी-कभी (या कुछ लोग ‘अक्सर ‘) अपने माता-पिता के साथ तनावपूर्ण संबंध साझा करते हैं। अब इस तनाव या दबाव को दूर करने का पहला तरीका यह जानना है कि आपके माता-पिता के साथ आपका अनिश्चित समीकरण होना सामान्य है, यानी, हर कोई इसका सामना करता है।

तो एक बार जब आप इस समस्या को सामान्य बनाते हैं, तो आप इसके समाधान को बहुत ही सहजता से देख पाएंगे। स्पष्ट रूप से, हमारे माता-पिता के साथ खट्टे-मीठे संबंधों का मुख्य कारण है हमारे माता-पिता के साथ जनरेशन गैप (पीढ़ी का अंतर)। वे उस पीढ़ी के हैं जिनके बारे में हम बहुत कम जानते हैं या कभी-कभी कुछ भी नहीं जानते। यह एक तथ्य है, आपके माता-पिता के साथ समस्याएं पैदा करने का बहाना नहीं। आप अपने माता-पिता के साथ साझा करने वाले किसी समस्या या विवाद को ‘पीढ़ी के अंतर’ के रूप में सामने नहीं ला सकते। इसका निपटारा करने का एकमात्र तरीका है इसे स्वीकार करना। जनरेशन गैप तो होता ही है, यह सच है और यही कारण है जो इसे सुंदर बनाता है!

वास्तव में समस्या तब उत्पन्न होती है जब इस जनरेशन गैप के कारण से आप और आपके माता-पिता के बीच बातचीत की कमी होती है। तब आप महसूस करना शुरू कर देंगे की आपके माता-पिता आपको समझते नहीं हैं। लेकिन एक बार, आप इस समस्या की ज़िम्मेदारी क्यों नहीं लेते और फिर इस मुद्दे को एक नई रोशनी में देखते? क्या आपने कभी तर्कसंगत रूप से उनके सामने अपनी बात रखने की कोशिश की है? आपस में हमेशा एक गहन तर्क या लड़ाई क्यों होनी चाहिए? वार्तालाप क्यों नहीं हो सकता है? हमेशा दोनों पक्षों ने समान रूप से उसपर कठिन मेहनत करने से ही एक रिश्ता बनाया जाता है। तो अगर आपको लगता है कि आप विद्रोह करके अपना कर्तव्य पूरा कर रहे है, तो आप बहुत गलत हैं!

ज्यादा से ज्यादा बात करना सीखें। बात करने से मेरा अर्थ सार्थक बातचीत करना है। केवल अपने करीबी दोस्तों को बताने के बजाय अपनी रुचियों के बारे में अपने माता-पिता के साथ बात करें। यही समस्या है। हम सभी अपने सच्चे रूप में केवल अपने दोस्तों के साथ इतने सहज हैं कि हम अपने माता-पिता को गंभीरता से नहीं लेते हैं। हमारे माता-पिता नहीं जानते कि हम वास्तव में कैसे हैं। अपने माता-पिता के साथ आपकी पसंद, नापसंद, पसंदीदा चीजे, असफलताएं, आपके दोस्तों के सर्कल की समस्याएं इत्यादि के बारे में बात करे। सही बातचीत का मतलब सक्रिय रूप से सुनना भी है। तो अपने माता-पिता से केवल अपनी चीजों के बारे में न बड़बड़ाये, बल्कि बातचीत के समय उन्हें अनदेखा करने के बजाए उनकी बात भी सुनिए। कभी-कभी हमारे माता-पिता अपनी भावनाओं को अंदर रखते हैं, इसलिए जब आपको लगता है कि वे आपको सबकुछ नहीं बता रहे हैं, तो उन्हें प्रश्न पूछने की ज़िम्मेदारी लें। उनका दिन कैसा रहा ऐसी सरल बातें पूछिए!

जबतक आप जनरेशन गैप के बारे में कुछ नहीं करते तब तक वह हमेशा एक बहाना रहेगा। वे जो भी पसंद करते हैं उसमें रुचि लें जैसे जो आप करते है उसमें वे रुचि लेते हैं। अपने माता-पिता को अपनी नई तकनीकियों और सोशल मीडिया के साथ अपनी नई दुनिया का हिस्सा बनाएं। अपने माता-पिता को कुछ ऐसी चीजें सिखाएं जो उन्हें दिलचस्प लगे और यह जानकर आप आश्चर्यचकित होंगे कि वे कितने जिंदादिल बन सकते हैं। बेशक, यह भी दो-तरफा होने वाली बात है। तो उन्हें आपको कुछ चीजें भी सीखाने दो जो पूरी तरह से उनकी पीढ़ी के हैं और उन चीजों को उत्साह के साथ सीखें। उन्हें ऐसा महसूस न कराए जैसे वे संबंधित नहीं हैं! मिलकर अच्छा समय बिताने का यह सबसे आसान तरीका है!

हमारे माता-पिता के साथ संबंधो में एक महत्वपूर्ण कमी यह है कि हम बोलने से पहले नहीं सोचते! यही कारण है कि कभी-कभी हम अपने माता-पिता को अनजाने में चोट पहुंचाते हैं, भले ही हम सही हों! असहमति के दौरान यह बेहद महत्वपूर्ण है – बोलने से पहले सोचना। असहमति बहस और चर्चाओं में ख़त्म होनी चाहिए न की लड़ाई-झगड़े में। तो कभी-कभी अपने शब्दों को निगलना सीखिए, खासकर अगर यह आपको झगडे से बचा सकता है! साथ ही, यह आदर्शवादी प्रतीत हो सकता है लेकिन उनकी सलाह ले लीजिये। वे जीवन में अधिक अनुभवी हैं और भले ही उनकी पीढ़ी / विधियां पुरानी लगती हो, कभी-कभी वे काम भी कर जाती हैं! उन्हें अयोग्य महसूस न कराये। उनकी सलाह सुनिए और उस पर पर ध्यान दीजिये।

आप एक प्रेमपूर्ण और सामंजस्यपूर्ण रिश्ते के लिए मेरी पुस्तक ‘Formula for Students’ (फ़ॉर्मूला फॉर स्टूडेंट्स) पढ़ सकते है और माता-पिता को उपहार में ‘Formula for Parents’ (फार्मूला फॉर पेरेंट्स) यह पुस्तक भेंट दे सकते हैं।

ये कुछ बुनियादी गलतियां हैं जो हम करते हैं और फिर हम और हमारे माता-पिता के बीच एक भावनात्मक अंतर महसूस करते हैं। यह सिर्फ उस दृस्टि को बदलने और एकता महसूस करने के लिए कुछ बुनियादी आदतों को बदलने के बारे में है। और कभी-कभार लड़ना ठीक है, यह सामान्य है। इन्ही कारणों से तो एक परिवार बनता है। इसे नाटकीय न बनाये, इससे सीखें और आपका रिश्ता स्वस्थ बनाने के लिए लगातार प्रयास करें!